Top

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग: सीनेट में दूसरी बार ट्रायल, वकील बोले- नहीं भड़काई हिंसा

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ सीनेट में दूसरी बार महाभियोग ट्रायल मंगलवार को शुरू हुई। डोनाल्ड ट्रंप पर चुनाव के परिणाम को पलटने के लिए उनपर दंगा भड़काने का आरोप लगाया गया है।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 10 Feb 2021 4:17 AM GMT

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग: सीनेट में दूसरी बार ट्रायल, वकील बोले- नहीं भड़काई हिंसा
X
ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वॉशिंगटन: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ सीनेट में दूसरी बार महाभियोग ट्रायल मंगलवार को शुरू हुई। डोनाल्ड ट्रंप पर चुनाव के परिणाम को पलटने के लिए उनपर दंगा भड़काने का आरोप लगाया गया है। इस ट्रायल के दौरान ट्रंप का प्रतिनिधित्व उनके वकील ब्रूस एल कैस्टर जूनियर और डेविड स्कोन करेंगे।

उपद्रवी भीड़ ने हंगामा किया

आपको बता दें, सोमवार 8 फ़रवरी को 78 पन्नों का ट्रायल ब्रीफ दायर करते हुए महाभियोग के आरोप को ट्रंप के फ्री स्पीच, तय प्रक्रिया के अधिकार के उल्लंघन के साथ ही 'संवैधानिक रूप से गलत' बताया।

बता दें, कि ट्रंप ने 6 जनवरी को अपने समर्थकों को संबोधित किया था, जिसमें उन्होंने कथित तौर पर अमेरिकियों को भड़काया था। जिसके बाद उपद्रवी भीड़ ने यूएस कैपिटल में जमकर हंगामा मचाया। इस हिंसा में 5 लोगों की मौत हो गई साथ ही सैकड़ों लोग घायल हुए थे। कैपिटल की बिल्डिंग , हॉल और कैमरों को तोड़ दिया गया।

हिंसा भड़काने का आरोप

13 जनवरी को चुनाव के परिणाम को पलटने के प्रास में ट्रम्प पर 'संयुक्त राज्य की सरकार के खिलाफ हिंसा भड़काने' का आरोप लगाने वाले महाभियोग के एक अनुच्छेद को मंजूरी देने के लिए मतदान किया। जिसमे 232-197 की वोटिंग हुई थी। ट्रंप के महाभियोग के लिए वोट देने में दस हाउस रिपब्लिकन डेमोक्रेट के साथ शामिल हुए थे। 25 जनवरी को प्रतिनिधि सभा ने ट्रायल शुरू करने के लिए महाभियोग का आर्टिकल सीनेट को भेजा।

हई वोटिंग

ऐसा अमेरिका के इतिहास में पहली बार हो रहा है जब किसी पर राष्ट्रपति पद से हटने के बाद महाभियोग पर चर्चा हो रही है। जिसका सामना करने वाले ट्रंप पहले पूर्व राष्ट्रपति हैं। बता दें, ट्रंप को दोषी ठहराने के लिए जरुरी है कि 100 सदस्यीय वाले चैंबर में कम से कम 67 सीनेटर उनके खिलाफ मतदान करें। जिसमे डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन के 50-50 सीनेटर हैं । 26 जनवरी के टेस्ट वोट के दिन केवल पांच रिपब्लिकन सीनेटरों ने उनके खिलाफ मतदान किया। यदि वे ट्रंप को दोषी ठहराने के लिए वोट करें तो भी 67 का आंकड़ा छू पाना मुश्किल है।

ये भी पढ़ें...भयानक आतंकी हमला: अलग-अलग जगहों को बनाया निशाना, मचाया मौत का तांडव

ट्रंप के वकीलों की मुख्य दलीलें

ट्रंप ने समर्थकों की रैली को संबोधित करने के दौरान लोगों को दंगे के लिए नहीं भड़काया। बचाव पक्ष के वकीलों ने आरोप लगाया है कि सदन के महाभियोग प्रबंधक घंटेभर लंबे ट्रंप के भाषण में से सिर्फ उन्हीं हिस्सों को ले रहे हैं, जो डेमोक्रेटिक पार्टी के मामले के लिए मददगार हैं। वकीलों ने रेखांकित किया कि ट्रंप ने बार-बार अपने समर्थकों से अपील की, वे शांतिपूर्ण और देशभक्त तरीके से अपनी आवाज उठाएं।

ये भी पढ़ें : उत्तर कोरिया पर चौंकाने वाला खुलासा, कर रहा ऐसा काम, जानकर उड़ जाएंगे होश

स्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story