भारत पर इमरान खान का गंदा आरोप, ‘आजादी मार्च’ पर तिलमिला कर दिया बड़ा बयान

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने मौलानाओं और विपक्ष के एजेंडे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनको कभी भी मौलानाओं की समस्या और विपक्ष का एजेंडा समझ नहीं आता। उन्होंने ये भी कहा कि विपक्ष के नेता फजलुर्रहमान का विरोध करना प्लान किया गया है और इस प्लान को दूसरी ताक़तें समर्थन दे रही हैं।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चौतरफा घिरे हुए हैं। जम्मू-कश्मीर पर बवाल करने के बाद अब वह अपने देश में विपक्ष के विरोध का सामना कर रहे हैं। ऐसे में अब उन्होंने विपक्ष जमीयत उलेमा इस्लाम फज्ल और मौलानाओं के विरोध का जवाब दिया है। इमरान का कहना है कि मौलानाओं की समस्या और विपक्ष का एजेंडा उनके समझ से परे है। इसलिए वो किसी के दबाव में आकर इस्तीफा नहीं देने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी: बीजेपी को तगड़ा झटका, उपचुनाव के बीच में मिली बुरी खबर

बता दें, अगले महीने इमरान सरकार के खिलाफ विपक्ष ने विरोध जताते हुए आजादी मार्च निकालने की घोषणा की है। वहीं, इस मामले में अब इमरान खान का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि साजिश के तहत मौलाना फजलुर्रहमान को ऐसा करने के लिए कहा गया है। पाकिस्तानी मीडिया से बातचीत करते हुए इमरान खान ने कहा कि, ‘मेरे इस्तीफे का कोई सवाल नहीं है और मैं इस्तीफा नहीं दूंगा।’

विदेशी दे रहे समर्थन

इमरान खान ने ये भी कहा कि, ‘विपक्ष का आजादी मार्च एक एजेंडे पर आधारित है और इसमें विदेशी समर्थन मिल रहा है। जेयूआई-एफ के विरोध से भारत में खुशी का माहौल है।’ वहीं, पाकिस्तानी पीएम ने ये स्वीकार किया है कि पाकिस्तान में महंगाई और बेरोजगारी काफी बढ़ गयी है और यह एक बड़ी समस्या है, जिससे निपटने की सरकार कोशिश कर रही है।

यह भी पढ़ें: By-Election Results Live Updates: जानिए 18 राज्यों की 51 सीटों का हाल

वहीं, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने मौलानाओं और विपक्ष के एजेंडे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनको कभी भी मौलानाओं की समस्या और विपक्ष का एजेंडा समझ नहीं आता। उन्होंने ये भी कहा कि विपक्ष के नेता फजलुर्रहमान का विरोध करना प्लान किया गया है और इस प्लान को दूसरी ताक़तें समर्थन दे रही हैं। दरअसल इमरान सरकार पर रहमान ने आरोप लगाते हुए कहा था कि फर्जी चुनाव के कारण ही इमरान सरकार बनी है।