यहां 350 हाथियों की हुई रहस्यमयी मौत, जंगल में बिखरे मिले शव

खबर दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना से है, जहां पर 350 से अधिक हाथियों की रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई। अभी तक इन हाथियों की मौत की वजह का पता नहीं चल सका है।

Published by Shreya Published: July 2, 2020 | 6:35 pm

बोत्सवाना: खबर दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना से है, जहां पर 350 से अधिक हाथियों की रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई। अभी तक इन हाथियों की मौत की वजह का पता नहीं चल सका है। स्थानीय लोगों का कहना है कि ज्यादातर हाथियों के शव जलस्त्रोतों के पास पड़े मिले। अब बोत्सवाना की सरकार हाथियों की मौत की वजह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या इनकी मौ त किसी बीमारी से हुई है या फिर इन्हें जहर दे दिया गया है।

यह भी पढ़ें: टाइगर अभी जिंदा हैः इस नेता ने दिग्विजय-कमलनाथ को ललकार कर क्यों कही ये बात

जलस्त्रोतों के पास पड़े मिले 350 से अधिक हाथियों के शव

उत्तरी बोत्सवाना और उसके ओकावैंगो डेल्टा में 350 से अधिक हाथियों के शव मिले, जो काफी बेकार अवस्था में ते। बताया जा रहा है कि मई महीने में हाथी की पहली रहस्यमयी मौत हुई थी। इसके बाद कुछ दिनों के अंदर ही ओकवैंगो डेल्टा में 169 हाथियों की मौत हो गई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जून मध्य ममें हाथियों की मरने की संख्या करीब दोगुनी हो गई। रहस्यमयी तरीके से मरने वाले हाथियों में 70 फीसदी की मौत जलस्रोतों के आसपास हुई है।

यह भी पढ़ें: दिल दहला देने वाली घटनाः मनबढ़ युवक ने किशोरी को जिंदा फूंका, ये था मामला

वैज्ञानिकों ने की शवों की जांच कराने की अपील

अब तक सरकार ने इन हाथियों के शवों का परीक्षण नहीं करवाया है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इन हाथियों की मौत किसी अज्ञात बीमारी या फिर जहर से हुई है। इस सिलसिले में देश से लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक सरकार से हाथियों के शवों की जांच कराने की अपील कर रहे हैं, जिससे उनकी मौत की वजह का पता लगाया जा सके। वैज्ञानिकों को इस बात का भी डर है कि अगर इनकी मौत किसी बीमारी से हुई है तो उनकी मौत के बाद इंसानों में कोई बीमारी ना फैलने लगे।

गोल घेरे में घूमते हुए देखे गए थे हाथी

वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्होंने हाथियों को गोल घेरे में घूमते देखा है। ऐसा हाथी तभी करते हैं जब वो देख नहीं पाते यानी जब उनकी दृष्टि बाधित होती है। और उनकी दृष्टि तब बाधित होती है जब वो बीमार हों या फिर उन्हें किसी ने जहर दे दिया होइन दोनों वजहों से उनका नर्वस सिस्टम कमजोर पड़ने लगता है।

यह भी पढ़ें: बाजार में उछाल: हरे निशान पर बंद हुआ शेयर बाजार, जानें पूरा हाल

कई सालों बाद इतनी बड़ी संख्या में हुई हाथियों की मौत

वहीं, नेशनल पार्क रेसक्यू के निदेशक डॉ. निएल मेक्केन का कहना है कि कई सालों बाद इतनी तादाद में हाथियों की मौत हुई है। लेकिन इस बार इनकी मौत का कारण पता नहीं चल पा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर आप हाथियों के शवों के गिरने की स्थिति को देखें तो पता चलेगा कि कुछ हाथियों की मौत बहुत जल्दी हो गई है। क्योंकि वो सीधे खड़े-खड़े मुंह के बल गिरे पड़े हुए हैं। जबकि कुछ की मौत धीरे-धीरे हुई है। इसलिए यह पता नहीं चल पा रहा कि आखिर इनकी मौत के पीछे की क्या वजह है?

यह भी पढ़ें: नेपाल की नई चाल: कुर्सी के लिए PM ओली का ये दांव, अब आखिरी है मौका

अगर बीमारी से हुई है मौत तो है बेहद खतरनाक स्थिति

वहीं बोत्सवाना के वाइल्डलाइफ डिपार्टमेंट के निदेशक डॉ. सिरिल ताओलो ने कहा कि हमें 350 हाथियों की मौत की खबर मिली है, जिनमें से हम 280 के मौत की पुष्टि करते हैं। बाकी हाथियों की मौत की पुष्टि के लिए काम चल रहा है। बता दें कि बोत्सवाना में हाथियों की आबादी 80 हजार से एक लाख 30 हजार के बीच है। हालांकि शिकार की वजह से इनकी संख्या में कमी देखी गई है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि अगर ये हाथी किसी बीमारी की वजह से मरे हैं तो यह बेहद खतरनाक स्थिति है।

यह भी पढ़ें: यूपी कांग्रेस मुख्यालय की मुखबिरी करा रही है योगी सरकार: अजय कुमार लल्लू

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App