जहर है नाइक! नफरत फैला रहा, इसे वापस भेजो- डिप्टी सीएम

जाकिर नाइक मलेशिया का एक मुस्लिम धर्मगुरू है जो अपने विवादित भाषणों के जरिए नफरत फैलाते है। इसके तहत इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ मलेशिया सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए उसके भाषणों पर पूरे देश में रोक लगा दी है।

जहर है नाइक! नफरत फैला रहा, इसे वापस भेजो- डिप्टी सीएम

जहर है नाइक! नफरत फैला रहा, इसे वापस भेजो- डिप्टी सीएम

नई दिल्ली : जाकिर नाइक मलेशिया का एक मुस्लिम धर्मगुरू है जो अपने विवादित भाषणों के जरिए नफरत फैलाते है। इसके तहत इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ मलेशिया सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए उसके भाषणों पर पूरे देश में रोक लगा दी है। हिंदू-मुस्लिम भाषण को लेकर मलेशिया की सरकार ने नाइक के खिलाफ यह कार्रवाई की है।

यह भी देखें… आतंकियों की घुसपैठ: भारत में बड़ी घटना होने की आशंका, एक की हुई पहचान

नाइक हमारे लिए जहर

मीडिया से बात करते हुए मलेशिया के पीनांग के डिप्टी सीएम पी रामासामी ने कहा कि जाकिर नाइक ने तनाव बढ़ा दिया था। नाइक हमारे लिए जहर है। वह अपनी तकरीरों से नफरत फैलाता है। इसलिए हमने उस पर प्रतिबंध लगा दिया है।

इसके बाद जाकिर नाइक के माफीनामे पर डिप्टी सीएम पी रामासामी ने कहा कि उन्होंने (जाकिर नाइक) दिल से माफी नहीं मांगी। उसे वापस भेजने की आवश्यकता है।

जाकिर के विवादित भाषण

आपको बता दें कि विवादित भाषण देने के मामले में मलेशिया में जाकिर नाइक फंसता जा रहा है। राष्ट्रीय सुरक्षा को देखते हुए मलेशिया में उस पर सार्वजनिक सभा में भाषण देने पर रोक लगा दी गई है।

जहर है नाइक! नफरत फैला रहा, इसे वापस भेजो- डिप्टी सीएम

जाकिर नाइक ने 3 अगस्त को एक भाषण के दौरान उसने मलेशिया में रह रहे हिंदुओं और चीनी समुदाय पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। जिसमें नाइक ने कहा था, ‘मलेशिया में रह रहे हिंदुओं के अधिकार भारत में रह रहे मुसलमानों की तुलना में 100 गुना ज्यादा हैं।’ उसने चीनी समुदाय को भी देश छोड़कर जाने को कहा था।

यह भी देखें… नवनिर्वाचित सांसद नीरज शेखर ने विधान भवन में निर्वाचन प्रमाण पत्र प्राप्त किया

लेकिन मंगलवार को जाकिर नाइक ने अपने बयान को लेकर माफी मांग ली और कहा कि बयान का गलत मतलब निकाला गया। जानकारी के लिए बता दें कि जाकिर नाइक भारत में वॉन्टेड है। उसके प्रत्यर्पण की कोशिशें जारी हैं।

नाइक पर आतंकी गतिविधियों और भाषण के जरिए नफरत फैलाने का आरोप है। 53 साल के जाकिर नाइक ने 3 साल पहले भारत छोड़ा था और भागकर मुस्लिम बहुल मलेशिया में बस गया, जहां उसे स्थायी नागरिकता मिल गई।

आपको बता दें कि नागरिकता को लेकर पिछले साल जुलाई में भारत ने मलेशिया से उसके प्रत्यर्पण का औपचारिक अनुरोध किया था। लेकिन तब मलेशिया के पीएम ने कहा था कि उसे प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा क्योंकि नाइक मलेशिया के लिए कोई आपत्तिजनक काम नही कर रहे।

यह भी देखें… बढ़त के साथ शेयर बाजार की शुरुआत, सेंसेक्‍स 37,440 के स्‍तर पर खुला

लेकिन जाकिर नाइक की हाल की हरकतों से पीएम ने कहा देश के खिलाफ ऐसी बयानबाजी करेगें तो उसकी स्थायी नागरिकता वापस ली जा सकती है। और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।