नारी शक्ति: नासा में है चार में से तीन विभागों की हेड महिलाएं

अगर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्देश को पूरा करते हुए नासा साल 2024 तक चंद्रमा पर कदम रखने में सक्षम होता है, तो अमेरिकी स्पेस एजेंसी प्रतिबद्ध है कि वह पहली महिला को चंद्रमा पर भेजेगी।

file photo

वॉशिंगटन: ये है नारी शक्ति, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के इतिहास में पहली बार महिलाओं का वर्चस्व संगठन में हो गया है। नासा के चार में से तीन विज्ञान प्रभागों की प्रभारी महिलाएं हैं। द अर्थ साइंस, हेलियोफिजिक्स और प्लेनेटरी साइंस डिवीजनों का नेतृत्व महिलाएं कर रही हैं।

अगर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्देश को पूरा करते हुए नासा साल 2024 तक चंद्रमा पर कदम रखने में सक्षम होता है, तो अमेरिकी स्पेस एजेंसी प्रतिबद्ध है कि वह पहली महिला को चंद्रमा पर भेजेगी।

ये भी देखें : झारखंड बोर्ड: 12वीं का रिजल्ट जारी, साइंस में राधेश्याम और कॉमर्स में अमीषा ने किया टॉप

इतना ही नहीं, 12 अंतरिक्ष यात्रियों में से पांच महिलाएं हैं। फिर भी नासा के प्रशासक के रूप में एक महिला ने कभी भी पूरी अंतरिक्ष एजेंसी का नेतृत्व नहीं किया है। यह आश्चर्य की बात है कि इसके बावजूद अमेरिकी सरकार के सबसे शक्तिशाली पदों पर महिलाओं का प्रतिनिधित्व अभी भी कम ही है।

ट्रंप की कैबिनेट के 21 सदस्यों में से महज चार ही महिलाएं हैं। हालांकि, महिलाओं की आबादी लगभग 51 फीसद है फिर भी कांग्रेस में सिर्फ 24 फीसद महिलाओं का प्रतिनिधित्व है।

निकोला फॉक्स, हेलियोफिजिक्स डिवीजन की निदेशक

वह नासा के प्रयासों को देखती हैं कि सूर्य हमारे ग्रह और बाकी सौर मंडल पर कैसे प्रभाव डालता है। साथ ही हम अपने अंतरिक्ष यात्रियों, उपग्रहों और रोबोट मिशनों की सुरक्षा कठोर विकिरण से कैसे कर सकते हैं। वैज्ञानिक सूर्य की तुलना ग्रहों की मेजबानी करने वाले अन्य तारों से भी कर सकते हैं। इससे उन दूर की दुनिया यों के बारे में पता चल सकता है, जहां जीवन हो सकता है।

लोरी ग्लेज, प्लेनेटरी साइंस डिवीजन की डायरेक्टर

मंगल पर जब साल 2020 में कार के आकार का अगला रोवर लैंड करेगा, तो इस अलौकिक प्रयास की प्रमुख भौतिक विज्ञानी लोरी होंगी। वह नासा के उस विभाग की प्रमुख हैं, जो मानवता के सबसे अधिक दबाव वाले प्रश्नों के जवाब तलाश रही हैं। सवाल है कि क्या हमारे ग्रह के बाहर सौर मंडल में जीवन है? फिलहाल, इस बात के कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं कि कहीं और जीवन मौजूद है। मगर, ग्लेज एंड कंपनी इसकी जांच कर रही है।

ये भी देखें : व्हाट्सएप पर साइबर हमला, आपने अपना एप अपडेट नहीं किया तो तत्काल करें

सैंड्रा कॉफमैन, अर्थ साइंस डिवीजन की एक्टिंग डायरेक्टर

वह नासा के सबसे महत्वपूर्ण मिशन पर काम कर रही हैं, जो हमारे ग्रह को समझना है। पृथ्वी विज्ञान प्रभाग का काम तेजी से प्रासंगिक हो रहा है क्योंकि हमारा ग्रह परिवर्तन का अनुभव कर रहा है। यह मानव द्वारा कार्बन के उत्सर्जन और भूगर्भिक इतिहास, दोनों में अभूतपूर्व है।