NASA की नई खोज: इस लाल ग्रह की सतह के 2.5 सेंटीमीटर नीचे मिल सकता है पानी

बात अगर स्पेस की हो और नासा का नाम न आए ऐसा हो नहीं सकता। नासा से जुड़ी एक बद्दी खबर आ रही है। सौर मंडल के मंगल ग्रह को लेकर वैज्ञानिक कई तरह के दावे कर चुके हैं।

नई दिल्ली: बात अगर स्पेस की हो और नासा का नाम न आए ऐसा हो नहीं सकता। नासा से जुड़ी एक बद्दी खबर आ रही है। सौर मंडल के मंगल ग्रह को लेकर वैज्ञानिक कई तरह के दावे कर चुके हैं। वैज्ञानिकों के साथसाथ आम लोग भी इस लाल ग्रह के बारे में जानने को काफी इच्छुक और उत्सुक रहते हैं। काफी लंबे टाइम से वैज्ञानिक यहां जीवन और पानी की संभावनाएं तलाश रहे हैं। इसी को देखते हुए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक नया मानचित्र तैयार किया है, जिसमें वैज्ञानिकों का दावा किया है कि मंगल ग्रह में पानी बर्फ के रूप में मौजूद है। कुछ वैज्ञानिकों का अंदाजा है कि लाल ग्रह की सतह से 2.5 सेंटीमीटर नीचे पानी की मौजूदगी हो सकती है।

ये भी देखें:फर्जी मैसेज से परेशान! चिंता करने की जरूरत नहीं, Google लाया ये फीचर

नासा की जेट प्रोपल्शन लैबोरेट्री के रिसर्चर्स ने कहा ये

नासा की जेट प्रोपल्शन लैबोरेट्री (जेपीएल) के रिसर्चर्स ने कहा, ‘मंगल पर पानी की मौजूदगी वहां जीवन की संभावनाओं को और पुख्ता कर देती है।’ उन्होंने कहा कि अब इस बात की संभावनाएं बढ़ गई हैं कि भविष्य में यदि कोई यान मनुष्यों को लेकर अंतरिक्ष के गूढ़ रहस्यों को खोजने निकलता है तो वह लाल ग्रह पर उतर कर पीने के लिए पानी और रॉकेट के लिए ईंधन भी बना सकता है। नासा के मार्स रिकॉनिंसेंस ऑर्बिटर (एमआरओ) और मार्स ओडिसी ऑर्बिटर नामक ये उपग्रह यहां पानी का पता लगाने के लिए प्रक्षेपित किए गए थे।

जेपीएल के रिसर्चर्स और इस अध्ययन के प्रमुख लेखक सिल्वेन पिक्सक्स ने कहा, ‘हमारा अध्ययन यह बताता है कि मंगल पर पानी के लिए आपको किसी बड़ी मशीन के जरिये खोदाई करने की जरूरत नहीं है। आप केवल एक फावड़े से भी खोदाई कर पानी सतह में ला सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि हम मंगल ग्रह पर बर्फ के रूप में दफन हुए पानी का डाटा लगातार एकत्र कर रहे हैं और ऐसे स्थानों की तलाश में हैं जहां अंतरिक्ष यात्री आराम से लैंडिंग कर सकें और पानी प्रत्यक्ष रूप से देख सकें।

नई तकनीक का किया इस्तेमाल

इस अध्ययन में बताया गया है कि अमेरिकी अंतरिक्ष नासा के फीनिक्स लैंडर ने मंगल के ध्रुवों के आस- पास ऐसे कई चित्र लिए हैं, जो वहां पानी से संभावनाओं को और मजबूती देते हैं। इस तथ्य को पुख्ता करने के लिए वैज्ञानिकों ने मार्स ओडिसी ऑर्बिटर पर लगे हीट-सेंसिटिव इंस्ट्रूमेंट्स और थर्मल इमिशन इमेजिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया।

ये भी देखें:चौंकाने वाली रिपोर्ट: यहां के हर 5वें घर में कैंसर का एक मरीज, 35 लोगों की मौत

अगले साल लांच होगा मार्स 2020 रोवर

नासा अगले साल अपने उन्नत रोवर ‘मार्स 2020’ को जीवन से जुड़े साक्ष्य खोजने के लिए मंगल ग्रह पर भेजने की तैयारी में जुट गया है। कैलिफोर्निया के पासाडेना स्थित जेपीएल द्वारा तैयार एक टन वजनी यह रोवर लाल ग्रह पर एक छोटी लैबोरेट्री के रूप में काम करेगा। यह वहां की मिट्टी और चट्टानों के नमूनों से जीवन से जुड़ी जानकारी हासिल करने का काम करेगा। नासा के मुताबिक, इस रोवर को भेजने का मुख्य मकसद मंगल ग्रह पर जीवन के साक्ष्यों का पता लगाना है। इससे पहले खोजी अभियान के तहत नासा ने मंगल पर क्यूरियोसिटी रोवर भेजा था। इस मंगल अभियान के तहत मार्स 2020 को क्यूरियोसिटी से एक कदम आगे बताया जा रहा है।