इस चैनल पर देखें, चंद्रयान-2 की एक्सक्लूसिव लाइव लैंडिंग

इसके साथ ही नेशनल ज्योग्राफिक ने मंगलवार को घोषणा करते हुए बताया कि यह अपने दर्शकों के लिए ऐतिहासिक अनुभव होगा। चंद्रयान-2 की लैंडिंग का एक्सक्लूसिव लाइव प्रसारण करके दिखाएगा। बता दें कि चंद्रयान-2 की लैंडिंग 6 सितंबर को रात 01:30 से 02:30 के बीच होगी।

Published by Harsh Pandey Published: September 4, 2019 | 9:28 am
Modified: September 4, 2019 | 9:30 am

नई दिल्ली:  चंद्रयान-2 की लैंडिंग को देखने के लिए देश के साथ साथ सभी विदेशों की नजरें बेताब है। खास बात यह है कि चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर चांद का 35 KM दूर चक्कर लगा रहा है।

नेशनल ज्योग्राफिक…

इसके साथ ही नेशनल ज्योग्राफिक ने मंगलवार को घोषणा करते हुए बताया कि यह अपने दर्शकों के लिए ऐतिहासिक अनुभव होगा। चंद्रयान-2 की लैंडिंग का एक्सक्लूसिव लाइव प्रसारण करके दिखाएगा। बता दें कि चंद्रयान-2 की लैंडिंग 6 सितंबर को रात 01:30 से 02:30 के बीच होगी।

यह भी पढ़ें: ट्रैफिक नियमों को तोड़ना पड़ा भारी, 15 हजार की स्कूटी, 23 हजार का कटा चालान

साथ ही साथ ये अंतरिक्षयात्री भी लायेंगे शो…

इतना ही नहीं टीवी चैनल ने इस घटना के लिए अच्छे से तैयारी कर रखी है और वह नासा के अंतरिक्षयात्री जेरी लिलेनगर को भी इस एक्सक्लूसिव शोastro पर लेकर आएंगे। जो दर्शकों के साथ अपने अंतरिक्ष के अनुभव भी शेयर करेंगे।

‘चंद्रयान-2’ मानव समाज के फायदा…

चंद्रयान-2 के संबंध में अंतरिक्षयात्री लिलेनगर ने कहा कि धरती से अगल अंतरिक्ष में खोजों के बारे में पिछले कुछ सालों में भारत का योगदान महत्वपूर्ण रहा है। चंद्रयान-2 एक महत्वपूर्ण मिशन है जो कि हमें यह जानने में मदद करेगा कि चांद पर पानी का अस्तित्व है या नहीं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस जानकारी से सिर्फ भारत को ही नहीं बल्कि पूरी मानव सभ्यता के लिए फायदा होगा।

यह भी पढ़ें:  पीएम मोदी की रूस यात्रा! ईईफ में लेंगे हिस्सा, पुतिन से करेंगे मुलाकात

लिनेनगर ऐर अंतरिक्ष में लगी आग…

लिनेनगर ने अपना अनिभव साझा करते हुए बताया कि मैं भारत में इस ऐतिहासिक क्षण का साक्षी बनने के लिए उत्साहित हूं और आप लोगों से भी गुजारिश करता हूं कि आप भारत को इतिहास बनाते हुए देखें।

लिनेनगर, अंतरिक्ष में रहने के दौरान एक खतरनाक आग से बचकर वापस धरती पर लौट आए थे। इस कारनामे के चलते उन्हें उस दौरान बहुत ख्याति मिली थी। इस घटना को अंतरिक्ष के इतिहास की सबसे ड्रामे से भरी घटनाओं में गिना जाता है. उन्होंने रूसी स्पेस स्टेशन मीर में करीब-करीब पांच महीने अंतरिक्ष में गुजारे थे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App