×

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की कुर्सी खतरे में, 'डील' से पलटे प्रचंड

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को एक बार फिर से झटका लगा है। नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड ने उनके साथ हुई डील से पलटी मार ली है।

Newstrack
Published on: 21 July 2020 4:29 AM GMT
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की कुर्सी खतरे में, डील से पलटे प्रचंड
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

काठमांडू: नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को एक बार फिर से झटका लगा है। नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड ने उनके साथ हुई डील से पलटी मार ली है।

पार्टी के वरिष्ठन नेता माधव कुमार के चौतरफा घेरने के बाद प्रचंड ने पार्टी की आम सभा की बैठक जल्द बुलाने की बात से भी इनकार कर दिया है। उन्हों ने कहा कि नवंबर-दिसंबर में पार्टी के आम सभा की बैठक मुमकिन नहीं है।

जिसके बाद एक बार फिर से प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की कुर्सी पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। बता दें कि नेपाल कम्युंनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड का यह बयान ऐसे वक्त पर आया है जब ओली की कुर्सी खतरे में हैं।

भारत पर मंडराता खतरा: नेपाल बना वजह, ये दोनों देश हैं हथियाने की फिराक में

ओली ने कुर्सी बचाने के लिए चली थी ये चाल

ओली अपनी कुर्सी कुछ महीने और बचाने के लिए चाहते हैं कि किसी तरह से नवंबर-दिसंबर में पार्टी के आम सभा की बैठक बुला ली जाये।

जिससे कि उन्हें पीएम की कुर्सी पर बने रहने के लिए कुछ वक्त और मिल जाये। इसलिए वे लगातार इस बात पर जोर दे रहे थे।

बताया जा रहा है कि पीएम ओली और प्रचंड के बीच एक अंतरिम डील भी हुई थी और कहा गया था कि पार्टी की आम सभा की बैठक नवंबर/दिसंबर में बुलाई जाएगी। वहीं ओली प्रचंड को पार्टी अध्यचक्ष के लिए समर्थन देंगे।

नेपाल से प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के लिए आई ऐसी खबर, भारत पर पड़ेगा असर

माधव कुमार नेपाल ने जताई आपत्ति

नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठा नेता माधव कुमार नेपाल को जब इस बात की भनक लगी तो उन्होंने इस डील पर अपना विरोध दर्ज कराया। जिसके बाद प्रचंड को आगे आकर सफाई देनी पड़ी।

स्टैंडिंग कमिटी के सदस्य मैत्रिका यादव ने सोमवार को हुई मीटिंग में प्रचंड के हवाले से कहा, 'बिना तैयारी के आम सभा की बैठक बुलाना गलत विचार है। यह मुमकिन नहीं है क्योंरकि पार्टी की विचारधारा समेत कई मुद्दों का समाधान करने की जरूरत है।'

यादव ने बताया कि ओली ने पार्टी के आम सभा की बैठक बुलाने का प्रस्तााव दिया है लेकिन एक शर्त रखी है कि पीपल्स मल्टी पार्टी डमोक्रेसी को पार्टी की विचारधारा के रूप में अपनाया जाए।

केपी ओली को BJP नेता ने बताया चीन का कुत्ता, कहा- भीख मांग चला रहा नेपाल

Newstrack

Newstrack

Next Story