तानाशाह किम जोंग ने ट्रंप को दिया झटका, अमेरिका का ये प्लान किया फेल

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग ने स्पष्ट कर दिया है कि उनके देश और अमेरिका के बीच कोई बातचीत नहीं हो सकती है। दोनों देशों के बीच परमाणु निरस्‍त्रीकरण को लेकर तनाव बढ़ता जा रहा है।

नई दिल्ली: उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग ने स्पष्ट कर दिया है कि उनके देश और अमेरिका के बीच कोई बातचीत नहीं हो सकती है। दोनों देशों के बीच परमाणु निरस्‍त्रीकरण को लेकर तनाव बढ़ता जा रहा है। किम जोंग की ओर से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को संदेश दिया गया कि अमेरिका संग बातचीत की उन्हें कोई जरूरत नहीं है। किम जोंग सरकार ने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया को राजनैतिक टूल की तरह इस्तेमाल कर रहा है।

किम जोंग ने अमेरिका संग बातचीत से किया इनकार

उत्तर कोरिया के दो टूक जवाब से अमेरिका की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। कूटनीतिक लिहाज से इसे अमेरिका के लिए बड़ा झटका माना जा सकता है। बता दें कि अमेरिकी प्रतिनिधि ने हाल ही में दक्षिण कोरिया की यात्रा की जिसके बाद उत्तर कोरिया के एक वरिष्ठ राजनयिक ने यह बयान जारी किया। उप विदेश मंत्री चोई सोन हुई ने इस बारे में साफ़ कहा कि वॉशिंगटन और प्योंगयांग के बीच कोई बात नहीं होगी। वहीं उन्होंने उत्तर कोरिया की नीति में बदलाव करने से भी इंकार कर दिया।

अमेरिका उत्तर कोरिया को राजनैतिक टूल की तरह कर रहा इस्तेमाल

किम जोंग के उप विदेश मंत्री चोई ने कहा, “हमें यू.एस. के साथ आमने-सामने बैठने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह डीपीआरके-यू.एस बातचीत अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के लिए अपने देश में राजनीतिक संकट के बीच एक टूल से ज्यादा कुछ नहीं है।” यहां डीपीआरके का मतलब है डेमोक्रेटिक पीपल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया, जो कि उत्तर कोरिया का औपचारिक नाम है।

ये भी पढ़ेंः भारत में बैन के बाद TikTok ने चीन पर निकाली भड़ास, ड्रैगन को देगी तगड़ा झटका

राष्ट्रपति चुनाव से पहले ट्रम्प करना चाहते थे नार्थ कोरिया संग चर्चा

वहीं अमेरिकी राज्य उप-सचिव स्टीफन बेगुन जल्द ही दक्षिण कोरिया की यात्रा पर जाने वाले हैं। ये यात्रा उत्तर कोरिया के साथ रुकी हुई बातचीत पर चर्चा के लिए की जा रही है।

परमाणु पर दोनो देशों के बीच वार्ता

इस बारे में दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन ने भी दोनों देशों के प्रतिनिधियों को बातचीत करने की सलाह दी थी। उन्होंने कहा था कि अमेरिका में नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव से पहले डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन को मिलना चाहिए और परमाणु वार्ता को फिर से शुरू करना चाहिए।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।