×

पाक फिर हुआ बेनकाब, संयुक्त राष्ट्र ने मुफ्ती नूर को घोषित किया वैश्विक आतंकवादी

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान ने एक बार फिर बेनकाब हो गया है। संयुक्त राष्ट्र ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान के नेता मुफ्ती नूर वली महसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है।

Newstrack
Updated on: 17 July 2020 5:09 AM GMT
पाक फिर हुआ बेनकाब, संयुक्त राष्ट्र ने मुफ्ती नूर को घोषित किया वैश्विक आतंकवादी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

न्यूयॉर्क: अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान ने एक बार फिर बेनकाब हो गया है। संयुक्त राष्ट्र ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान के नेता मुफ्ती नूर वली महसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है। भारत ने हाल में संयुक्त राष्ट्र की बैठक में पाकिस्तान को घेरा था और आरोप लगाया था कि पाकिस्तान आतंकवादियों को पनाह दे रहा है। संयुक्त राष्ट्र की इस कार्रवाई से भारत के दावे की पुष्टि हुई है।

ये भी पढ़ें:आतंकियों की बिछीं लाशें, ताबड़तोड़ एनकाउंटर, खोज-खोजकर मार रही सेना

भारतीय दावे की हुई पुष्टि

आतंकी गतिविधियों के संचालन के लिए पाकिस्तान पर हमेशा सवाल उठते रहे हैं। भारत का आरोप है कि पाकिस्तान की सेना और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई आतंकी संगठनों को फंडिंग के साथ ही हथियार भी मुहैया करा रही है ताकि वे घाटी में आतंकी गतिविधियों का संचालन कर सकें। संयुक्त राष्ट्र की ओर से उठाए गए कदम से पाकिस्तान एक बार फिर दुनिया के सामने बेनकाब हुआ है और अंतरराष्ट्रीय जगत में उसकी किरकिरी हुई है।

तहरीक-ए-तालिबान का मुखिया है मुफ्ती नूर

सूत्रों के मुताबिक मुफ्ती नूर वली महमूद का संबंध अलकायदा से है। वह अलकायदा के सहयोगी के रूप में पाकिस्तान में पूरी तरह सक्रिय है और आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है। उस पर आतंकी संगठनों को वित्तीय मदद देने और आतंकी गतिविधियों के संचालन में मदद करने का आरोप लगता रहा है। उसका संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान में काफी सक्रिय है। ट्रंप प्रशासन ने नूर वली महमूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के संयुक्त राष्ट्र के कदम का स्वागत किया है।

सैकड़ों बेगुनाहों की हत्या का आरोप

मुफ्ती नूर वाली महमूद को जून 2018 में मुल्ला फजलुल्लाह की मौत के बाद तहरीक-ए-तालिबान तालिबान का नेता नामित किया गया था। यह संगठन कई आत्मघाती विस्फोटों को अंजाम देता रहा है। संगठन पर सैकड़ों बेगुनाहों की हत्या का आरोप है। अमेरिकी विदेश विभाग का कहना है कि नूर वली की अगुवाई में इस संगठन ने पाकिस्तान में कई घातक आतंकी हमलों को अंजाम दिया है। अमेरिका ने गत सितंबर में नूर वली को आतंकवादी के रूप में नामित किया था।

पाक करता है कार्रवाई का नाटक

भारत ही नहीं बल्कि विश्व समुदाय की ओर से पाकिस्तान पर बार-बार आतंकवादी समूहों का समर्थन करने के आरोप लगते रहे हैं। लश्कर-ए-तैयबा और जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकवादी समूह पाकिस्तान की जमीन से आतंकी घटनाओं को अंजाम देते रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र ने पिछले साल जैश ए मोहम्मद के मुखिया मौलाना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया था।

ये भी पढ़ें:बिहार में पुल की एप्रोच सड़क बही: ग्रामीणों समेत इनके खिलाफ FIR, लगा ये आरोप

पाकिस्तान दुनिया को दिखाने के लिए मौलाना मसूद अजहर और हाफिज सईद जैसे आतंकी सरगनाओं पर कार्रवाई का नाटक करता है मगर सच्चाई है कि इन दोनों आतंकी सरगनाओं सहित कई अन्य आतंकियों को पाकिस्तान की सेना और वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआई की ओर से मदद मिलती रही है। कश्मीर में हुई कई आतंकी घटनाओं में पाकिस्तानी सरकार के संरक्षण की पुष्टि हुई है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story