करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन में पाक पीएम इमरान ने मुस्लिमों पर कही ये बात

करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत-पाकिस्तान में खींचतान का दौर जारी है। ऐसे में आज शनिवार 9, नवंबर भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के लिए, करतारपुर साहिब कॉरिडोर शुरू हो गया है।

इस्लामबाद: करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत-पाकिस्तान में खींचतान का दौर जारी है। ऐसे में आज शनिवार 9, नवंबर भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के लिए, करतारपुर साहिब कॉरिडोर शुरू हो गया है। इसी मामलें पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कहा कि ऐतिहासिक करतारपुर साहिब कॉरिडोर का उद्घाटन क्षेत्रीय शांति के लिए पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का रिजल्ट है। इमरान खान ने सिख समुदाय के संस्थापक बाबा गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती पर सिख समुदाय को बधाई दी।

ये भी देखें:‘ बाला ‘ के बाद एक्टिंग नहीं, इस काम को आयुष्मान ने करने की जताई इच्छा….

हत्या की साजिश: इमरान सरकार पूर्व पीएम को दे रही धीमा जहर

पीएम ने आगे कहा कि भारत में गुरदासपुर में डेरा बाबा साहिब और पाकिस्तान में गुरुद्वारा करतारपुर साहिब को जोड़ने वाले करतारपुर साहिब गलियारे को शनिवार से तीर्थयात्रियों के लिए खोल दिया गया है। इस ऐतिहासिक कदम से दोनों देशों के बीच संबंधों में सुधार की उम्मीद जगती है।

Kartarpur Corridor ceremony

– पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर क्षेत्रीय शांति के लिए पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

– इस ऐतिहासिक कदम से दोनों देशों के बीच संबंधों में सुधार की उम्मीद जगती है

– इमरान बोले की मुस्लिमों को धार्मिक स्थलों और पूजा स्थलों की पवित्रता और प्रतिष्ठा की बहुत अच्छी समझ है।

गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पाकिस्तान में रावी नदी के पार स्थित है और पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक मंदिर से लगभग चार किलोमीटर दूर है। करतारपुर साहिब कॉरिडोर के उद्घाटन के अवसर पर अपने संदेश में पीएम इमरान ने कहा कि हम मानते हैं कि क्षेत्र की समृद्धि और हमारी आने वाली पीढ़ी के उज्ज्वल भविष्य की राह शांति में निहित है।

आज हम न केवल सीमा खोल रहे हैं, बल्कि सिख समुदाय के लिए भी अपने दिल भी खोल रहे हैं। पीएम इमरान ने कहा कि उनकी सरकार से सद्भावना का अभूतपूर्व संकेत बाबा गुरु नानक देव के प्रति उनके गहरे सम्मान और सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं का प्रतिबिंब था।

ये भी देखें:अयोध्या: क्या हैं ASI के प्रमाण, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने फैसले का बनाया आधार?

रिपोर्ट में कहा गया है कि इमरान ने सीमा के दोनों ओर के सिख समुदाय और ऐतिहासिक दिन पर बधाई दी। पाकिस्तान का मानना ​​है कि अंतर-सद्भाव और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व दोनों देशों के लोगों के बड़े हितों के लिए काम करने का अवसर प्रदान करेगा। पीएम ने कहा कि मुस्लिमों को धार्मिक स्थलों और पूजा स्थलों की पवित्रता और प्रतिष्ठा की बहुत अच्छी समझ है।