पाकिस्तान ने 100 से ज्यादा किताबों पर लगाया बैन, वजह जान रह जाएंगे दंग

पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त से एक बड़ी खबर आ रही है। यहां ‘ईशनिंदा और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को देश का हिस्सा नहीं दिखाने पर 100 सौ से अधिक पाठ्यपुस्तकों पर बैन लगा दिया गया है।

Published by Aditya Mishra Published: July 26, 2020 | 10:10 am

लाहौर: पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त से एक बड़ी खबर आ रही है। यहां ‘ईशनिंदा और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को देश का हिस्सा नहीं दिखाने पर 100 सौ से अधिक पाठ्यपुस्तकों पर बैन लगा दिया गया है।

इसे आपत्तिजनक माना गया है। जिसके बाद उक्त कार्रवाई पंजाब प्रान्त सरकार की ओर से की गई है। बताया जा रहा है कि जो किताबें बैन की गई हैं उनमें से कई इंटरनेशनल पब्लिशर्स की हैं।

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है बल्कि अभी पिछले महीने ही यहां ब्रिटिश-अमेरिकन लेखक लेस्ली हेजलटन की किताब को ईशनिंदा के आरोपमें बैन किया गया  था।

पाकिस्तान की बड़ी साजिश, भारत से जंग के लिए यहां तैनात किये कई लड़ाकू विमान!

तारीखें छपी थीं गलत

प्राप्त जानकारी के मुताबिक पंजाब पाठ्यसामग्री और पाठ्यपुस्तक बोर्ड के प्रबंध निदेशक राय मंजूर नासिर ने बताया कि कई किताबों में पाकिस्तान के संस्थापक मुहम्मद अली जिन्ना और राष्ट्रीय कवि मुहम्मद इकबाल के जन्म की सही डेट भी नहीं छपी थी

वहीं कुछ पुस्तकों में दो-राष्ट्र सिद्धांत के खिलाफ सामग्री थी। नासिर ने कहा कि 30 समितियों ने सरकारी और निजी स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली करीब 10,000 पुस्तकों की समीक्षा की।

जमीन हड़पने के लिए मालिक को बताया पाकिस्तानी, अब प्रधान समेत 7 पर FIR

बाजार से जब्त होंगी

नासिर ने कहा, ‘किताबों में ईशनिंदा की गई थी और पाकिस्तान-विरोधी सामग्री थी। कुछ में छपे नक्शे में (पाकिस्तान अधिकृत) कश्मीर भी नहीं था। सरकार इस तरह का आपत्तिजनक कॉन्टेंट को बच्चों को नहीं पढ़ाने देगी।’

इनमें से कुछ पुस्तकों का प्रकाशन ऑक्सफर्ड, कैम्ब्रिज, लिंक इंटरनैशनल पाकिस्तान, पैरागॉन बुक्स द्वारा किया गया है। बोर्ड ने इन किताबों को बाजार से जब्त करने का आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा कि अगले छह महीनों के भीतर अन्य पाठ्यपुस्तकों का भी निरीक्षण किया जाएगा।

गुप्त समझौते का खुलासा: चीन-पाकिस्तान का ये है प्लान, खतरा और भी घातक

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App