पाकिस्तान की बेशर्मी: राष्ट्रपति कोविंद के दौरे से पहले की ये गंदी हरकत   

पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस को भारत के इस्तेमाल के लिए अभी भी खोलने के लिए तैयार नही हैं । पकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान भारत को अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दे सकता है । राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को आइसलैंड, स्विटजरलैंड और स्लोवेनिया के दौरे पर जाने वाले हैं ।

नई दिल्ली: समय-समय पर घड़ियाली आंसू बहाने वाला पकिस्तान भारत से संबंध सुधारने का दिखावा हमेशा करता रहता है । इस बार तो पकिस्तान ने हद ही कर दिया । ताज़ी खबर के अनुसार पाकिस्तान ने देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के लिए एयरस्पेस खोलने से इनकार कर दिया है ।

ये भी देखें : मोदी देंगे सस्ता गोल्ड! सोना खरीदने वालों के लिए बड़ा मौका

महामहिम कई देशों के दौरे पर जाने वाले हैं

पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस को भारत के इस्तेमाल के लिए अभी भी खोलने के लिए तैयार नही हैं । पकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान भारत को अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दे सकता है । राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को आइसलैंड, स्विटजरलैंड और स्लोवेनिया के दौरे पर जाने वाले हैं ।

पाकिस्तान अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की नहीं दी इजाजत

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक बयान में कहा, “भारत की सरकार ने पाकिस्तान से एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत मांगी थी, ये उनके राष्ट्रपति के विदेश दौरे से जुड़ा हुआ था, मौजूदा हालात को देखते हुए पाकिस्तान ने भारत को अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दी है।”

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पाकिस्तान के सरकारी टीवी चैनल पीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस फैसले को हरी झंडी दी है।

ये भी देखें : भारत में हुए आविष्कार सबको करते हैं गौरवान्वित, जिसने बदल दी दुनिया

इस दौरे में भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले को उठाया जायेगा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को तीन देशों की विदेश यात्रा पर रवाना हो रहे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आइसलैंड, स्विटजरलैंड और स्लोवेनिया के दौरे पर सोमवार को निकलने वाले हैं। राष्ट्रपति इस दौरे में इन देशों के साथ भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर भारत का पक्ष रखेंगे। इसके अलावा इन देशों के साथ व्यापार समेत कई द्विपक्षीय मुद्दों पर बात होगी।