×

पाकिस्तान में हिंदुओं पर बड़ा हमला, कट्टरपंथियों ने मार-मारकर घर से भगाया

पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता राहत ऑस्टिन ने इमरान खान सरकार की पोल खोल कर रख दी है। राहत ने हिंदुओं पर हमले का वीडियो ट्वीट कर कहा है कुछ दिनों पहले ही सिंध सूबे के खीप्रो के प्रशासन ने हिंदू भील समुदाय के मकानों को गिरा दिया।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 28 Nov 2020 2:40 PM GMT

पाकिस्तान में हिंदुओं पर बड़ा हमला, कट्टरपंथियों ने मार-मारकर घर से भगाया
X
राहत ने हिंदुओं पर हमले का वीडियो ट्वीट कर कहा है कुछ दिनों पहले ही सिंध सूबे के खीप्रो के प्रशासन ने हिंदू भील समुदाय के मकानों को गिरा दिया।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में हिंदुओं के खिलाफ अच्याचार बढ़ता ही जा रहा है। हिंदुओं पर पड़ोसी देश की सरकार भी कहर ढा रही है। सिंध राज्य में हिंदू भील जाति के कई मकानों को वहां की स्थानीय सरकार ने तोड़वा दिया है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद सरकार ने दबाव में कार्रवाई को रोक दिया। अब वहां कट्टरपंथियों ने टूटे-फूटे घरों में रह रहे हिंदुओं पर हमला कर भगा दिया है।

मानवाधिकार कार्यकर्ता ने खोली पोल

पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता राहत ऑस्टिन ने इमरान खान सरकार की पोल खोल कर रख दी है। राहत ने हिंदुओं पर हमले का वीडियो ट्वीट कर कहा है कुछ दिनों पहले ही सिंध सूबे के खीप्रो के प्रशासन ने हिंदू भील समुदाय के मकानों को गिरा दिया।

उन्होंने आगे कहा कि जब वीडियो वायरल हो गया तो सरकार ने कार्रवाई बंद कर दी, लेकिन कट्टरपंथियों ने गरीब-बेसहारा हिंदुओं पर हमला किया और उन्हें भगा दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि इस हमले में कई पुरुष, महिलाएं और बच्चे घायल भी हैं।

Hindu in Pakistan

ये भी पढ़ें...परमाणु वैज्ञानिक की हत्या, ईरान के राष्ट्रपति ने इजरायल पर कर दिया ये बड़ा ऐलान

अल्पसंख्यकों पर अत्याचार के लिए बदनाम है सिंध

पाकिस्तान के सिंध में अल्पसंख्यकों पर आए दिन अत्याचार होता रहता है। पाकिस्तान के सिंध में ही सबसे अधिक हिंदू और ईसाई लड़कियों के जबरदस्ती धर्म परिवर्तन और निकाह कराया जाता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में हर साल 1000 से हिंदु और ईसाई लड़कियों का अपहरण होता है। इसके बाद उनका धर्म परिवर्तन करा दिया जाता है और इस्लामिक रीति रिवाज से निकाह किया जाता है। इन पीड़ित लड़कियों की उम्र 12 साल से 25 साल के अंदर होती है।

ये भी पढ़ें...पाक की डूबती नैयाः क्या बचा पाएंगे इमरान, लोन को मिली मंजूरी

गरीब परिवार की लड़कियों पर अधिक अत्याचार

मानवाधिकार संस्था ने बताया है कि आंकड़ें इससे भी अधिक हो सकते हैं, क्योंकि पुलिस अधिकतर मामले दर्ज नहीं करती है। जिन लड़कियों को अपहरण किया जाता है वह गरीब परिवार से होती हैं। उनकी कोई खोज-खबर लेने वाला नहीं रहता है। इन आंकड़ों के बाद पाकिस्तान की इमरान खान सरकार की पोल खुल गई है।

ये भी पढ़ें...चीन का घिनौना खेल: अब भारत को फंसा रहा इस चाल में, ठोका ये दावा

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story