पाकिस्तान फिर झूठा साबित! ICJ में कश्मीर पर नहीं पेश कर पाया सबूत

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से पाकिस्तान की बौखलाहट इस तरह बढ़ गई है कि भारत का आंतरिक मामला होने के बावजूद पाकिस्तान इस मसले को दुनिया के कई मंचों पर उछालने की कोशिश कर रहा है।

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर की चाहत पाकिस्तान को लगातार भारी पड़ रही हैा सीमा पार से दुश्मन देश रोज नई नई साजिश रचता रहा है, साथ ही जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान हमेशा मुंह की खाई हैा

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से पाकिस्तान की बौखलाहट इस तरह बढ़ गई है कि भारत का आंतरिक मामला होने के बावजूद पाकिस्तान इस मसले को दुनिया के कई मंचों पर उछालने की कोशिश कर रहा है।

बता दें कि हाल ही में पाकिस्तान ने कहा था कि वह इस मसले को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में ले जाएगा, लेकिन अब इस मोर्चे पर भी उसे निराशा ही हाथ लगी है।

यह भी पढ़ें:  बरसात, बाढ़ और बिहार में अब नया पोस्टर वार

अंतरराष्ट्रीय कोर्ट पाकिस्तानी वकील की दलील…

अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में पाकिस्तान की तरफ से दलील रखने वाले वकील खावर कुरैशी का कहना है कि अगर जम्मू-कश्मीर में नरसंहार हो रहा है तो अभी उसके सबूत इकट्ठा करना काफी मुश्किल है और अगर सबूत नहीं होंगे तो पाकिस्तान के लिए जम्मू-कश्मीर के मसले को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में पेश करना काफी मुश्किल होगा।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद…

बताते चलें कि पाकिस्तान ने कुछ दिनों पहले इस मसले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाने की कोशिश की थी, तो उसे सभी देशों की नाराजगी का सामना करना पड़ा था। इसी के बाद ही पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि पाकिस्तान इस मसले को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ले जाएगा।

यह भी पढ़ें:   मारी गई पाकिस्तानी सेना! इमरान को आज नहीं आएगी नींद

कुलभूषण जाधव मामले में हार…

पाकिस्तान को भारत के खिलाफ हमेशा हार ही मिली है, किसी भी मामले में पाकिस्तान भारत से नहीं जीत पाया है। बता दें कि कुलभूषण जाधव मामले में भी पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में हार का सामना करना पड़ा था।

खास बात यह है कि ICJ ने कुलभूषण मामले में कुलभूषण की फांसी की सजा पर रोक लगा दी थी। ICJ ने पाकिस्तान के खिलाफ भारत के पक्ष में फैसला सुनाया था। इतना ही नहीं, अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के दखल के बाद ही कुलभूषण को कॉन्सुलर एक्सेस मिला था।

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से पाकिस्तान की बौखलाहट इस तरह बढ़ गई है कि भारत का आंतरिक मामला होने के बावजूद पाकिस्तान इसे भारत के द्वारा किया गया संयुक्त राष्ट्र के नियमों का उल्लंघन बता रहा है।