फिर गिरा पाकिस्तान! यहां 14 साल की ईसाई लड़की के साथ जबरन हुआ ऐसा काम

पाकिस्तान में हिंदू या अन्य धर्म के लोगों के साथ जबरन धर्म परिवर्तन की घटनाएं आए दिन होती रहती है जो रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। अभी कुछ दिन पहले पाकिस्तान से खबर थी कि यहां की लड़कियां चीन भेजी जाती हैं तो यहां रहने वाली दूसरे धर्म की लड़कियां भी सुरक्षित नहीं हैं। 

कराची: पाकिस्तान में हिंदू या अन्य धर्म के लोगों के साथ जबरन धर्म परिवर्तन की घटनाएं आए दिन होती रहती है जो रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। अभी कुछ दिन पहले पाकिस्तान से खबर थी कि यहां की लड़कियां चीन भेजी जाती हैं तो यहां रहने वाली दूसरे धर्म की लड़कियां भी सुरक्षित नहीं हैं।

यह पढ़ें…IND vs WI T-20 निर्णायक मुकबला, भारत लेगा पुराना बदला या विंडीज करेगा पलटवार

अभी ताजा मामला कराची का है जहां 14 साल ही ईसाई लड़की हुमा यूनुस का पहले अपहरण किया गया फिर जबरन धर्म परिवर्तन कराकर उसे अपहृत करने के आरोपी अब्दुल जब्बार से ही उसकी शादी करा दी गई।

खबरों के अनुसार, आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली हुमा को डेरा गाजी खान ले जाया गया, उसका धर्म परिवर्तन कराने और शादी के कागज उसके माता-पिता के पास भेजे गए हैं। यह मामला फिलहाल अदालत में है। पाकिस्तान की पत्रकार ने इस संबंध में ट्वीट भी किया है। एक अदालत में सुनवाई के बाद हुमा की मां नगीना यूनुस ने सवाल किया कि क्या पाकिस्तान में अपहरण और धर्म परिवर्तन ही उनका भविष्य है। अगर ऐसा ही है तो क्या ईसाई माताओं को अपनी बेटियों को मार देना चाहिए? उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, बिलावल भुट्टो और सेना प्रमुख से मदद की गुहार भी लगाई है।

यह पढ़ें…जानिए कौन है ये पाकिस्तानी लड़की, जिसे देख थम जा रहा दिल

पाकिस्तान में इसी तरह का मामला इस साल अगस्त व मार्च में आया था। सिंध प्रांत के घोटकी जिले से दो हिंदू बहनें रीना मेघवार और रवीना मेघवार गायब हो गईं। दोनों लड़कियों को उनके घर से उठा लिया गया था। और लाहौर के ननकाना साहिब से गायब हुई सिख लड़की का भी पता नहीं चल पाया है। बताया जा रहा है कि सिख लड़की का जबरन धर्म परिवर्तन कर निकाह करवाया गया है।