×

मौत के मुहाने पर खड़ा ये देश, कभी भी हो सकता है ब्लास्ट, खाली कराया जा रहा शहर

फिलीपीन प्रशासन ने राजधानी मनीला के नजदीक एक ज्वालामुखी से राख और धुंआ निकलने के कुछ घंटों बाद इसमें विस्फोट होने की रविवार को चेतावनी दी। ताल ज्वालामुखी के पास झील पर्यटक स्थल है और हजारों लोग रहते हैं लेकिन ज्वालामुखी से राख निकलने

suman

sumanBy suman

Published on 13 Jan 2020 1:45 AM GMT

मौत के मुहाने पर खड़ा ये देश, कभी भी हो सकता है ब्लास्ट, खाली कराया जा रहा शहर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मनीला: फिलीपीन प्रशासन ने राजधानी मनीला के नजदीक एक ज्वालामुखी से राख और धुंआ निकलने के कुछ घंटों बाद इसमें विस्फोट होने की रविवार को चेतावनी दी। ताल ज्वालामुखी के पास झील पर्यटक स्थल है और हजारों लोग रहते हैं लेकिन ज्वालामुखी से राख निकलने, भूंकप के झटकों और गर्जन की आवाज के मद्देनजर इलाके को खाली कराया जा रहा है।

यह पढ़ें...पाकिस्तान का हुक्का-पानी बंद करेगा भारत: आया बड़ा फैसला, जानें क्या है पूरी योजना

फिलीपीन की भूकंप एजेंसी ने चेतावनी दी है ‘‘ कुछ घंटों या आने वाले दिनों में ज्वालामुखी में घातक विस्फोट हो सकता है और इससे निकलने वाली राख से वहां से उड़ने वाले विमानों को खतरा हो सकता है।’’ विमानन अधिकारियों ने राख के बादल के 50,000 फीट की ऊंचाई पर पहुंचने के बाद मनीला स्थित नीनॉय एक्वीनो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सभी उड़ानों को स्थगित करने का आदेश दिया। सरकार के भूकंप विशेषज्ञों ने पाया है कि लावा ताल ज्वालामुखी के मुख की ओर आ रहा है। मनीला से 65 किलोमीटर दक्षिण स्थित यह देश का सबसे सक्रिय ज्वालामुखी है और आखिरी बार 1977 में इसमें विस्फोट हुआ था।

यह पढ़ें...इराक में फिर भयानक हमला: दनादन दागे गए रॉकेट, कई सैनिक घायल, ताजा अपडेट्स

ज्वालामुखी के पास करीब एक किलोमीटर ऊंची राख की दीवार दिखाई दे रही है आसपास झटके महसूस किए जा रहे हैं। स्थानीय आपदा कार्यालय ने बताया कि ज्वालामुखी वाले द्वीप से करीब दो हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। अधिकारियों के मुताबिक स्थिति बिगड़ी तो नजदीकी द्वीप के लोगों को भी हटने का आदेश दिया जाएगा। उन्होंने बताया, ‘‘राख मनीला पहुंच चुकी है...इस माहौल में सांस लेना लोगों के लिए खतरनाक है। गौरतलब है कि जनवरी 2018 में माउंट मेयन से निकले लाखों टन राख और लावा की वजह से हजारों लोगों को विस्थापित होना पड़ा था।

suman

suman

Next Story