भारत की परमाणु क्षमता पर मोदी का बयान ‘काफी दुर्भाग्यपूर्ण’: पाक

विदेश विभाग ने बयान जारी कर कहा, ‘‘यह भारतीय अधिकारियों के रूख के पूरी तरह विपरीत है जिन्होंने यह बताने का प्रयास किया कि भारत की इस तरह की कोई योजना नहीं थी और पाकिस्तान पर ‘युद्धोन्माद को बढ़ावा देने’ का आरोप लगाया था।’’

फ़ाइल फोटो

इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने भारत की परमाणु क्षमता पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बयान पर सोमवार को आपत्ति जताते हुए उन्हें ‘‘काफी दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार दिया और कहा कि इस तरह के परमाणु अस्थिरता वाले बयान नहीं दिए जाने चाहिए।

विदेश विभाग ने बयान जारी कर कहा, ‘‘यह भारतीय अधिकारियों के रूख के पूरी तरह विपरीत है जिन्होंने यह बताने का प्रयास किया कि भारत की इस तरह की कोई योजना नहीं थी और पाकिस्तान पर ‘युद्धोन्माद को बढ़ावा देने’ का आरोप लगाया था।’’

ये भी पढ़ें— ट्रंप ने दिया भारत को बड़ा झटका, ईरान से तेल खरीदने पर नहीं मिलेगी कोई छूट

बयान में कहा गया है, ‘‘इस तरह की परमाणु अस्थिरता को बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए।’’ पाकिस्तान में 26 फरवरी को बालाकोट आतंकवादी शिविर पर हवाई हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के विमानों के बीच 27 फरवरी को हवाई झड़प हुई थी जिसमें पड़ोसी देश ने विंग कमांडर अभिनंदन को गिरफ्तार किया था और एक मार्च की रात को उन्हें रिहा किया था।

मोदी ने गुजरात के पाटण में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अभिनंदन के पकड़े जाने के बाद विपक्ष ने उनसे जवाब मांगना शुरू कर दिया था। उन्होंने कहा, ‘‘हमने संवाददाता सम्मेलन किया और पाकिस्तान को चेतावनी दी कि अगर हमारे पायलट को कुछ भी हुआ तो आप दुनिया को बताते फिरेंगे कि मोदी ने आपके साथ क्या किया।

ये भी पढ़ें— विवादित बयान देने के मामले में प्रज्ञा के खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश

अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दूसरे दिन कहा कि मोदी ने 12 मिसाइलें तैयार रखी हैं और हमला कर सकते हैं और स्थिति बिगड़ सकती है। पाकिस्तान ने पायलट को लौटाने की घोषणा की नहीं तो वह ‘कत्ल की रात’ होती।’’ विदेश विभाग ने बयान जारी कर कहा, ‘‘पाकिस्तान इन बयानों को काफी दुर्भाग्यपूर्ण और गैर जिम्मेदाराना मानता है।’’

(भाषा)