Day in History: आज ही के दिन रॉकेट से हमले में दहल उठा था अफगानिस्तान

11 सितंबर के हमले जिन्हें अक्सर सितम्बर 11 या 9/11 कहा जाता है। 11 सितम्बर 2001 को संयुक्त राज्य अमेरिका पर अल-क़ायदा द्वारा समन्वित आत्मघाती हमलों की एक श्रंखला थी। उस दिन सुबह, 19 अल कायदा आतंकवादियों ने चार वाणिज्यिक यात्री जेट वायुयानों का अपहरण कर लिया।

काबुल: 11 सितंबर के हमले जिन्हें अक्सर सितम्बर 11 या 9/11 कहा जाता है। 11 सितम्बर 2001 को संयुक्त राज्य अमेरिका पर अल-क़ायदा द्वारा समन्वित आत्मघाती हमलों की एक श्रंखला थी। उस दिन सुबह, 19 अल कायदा आतंकवादियों ने चार वाणिज्यिक यात्री जेट वायुयानों का अपहरण कर लिया।

आज 9/11 हमले की बरसी पर अफगानिस्तान में अमेरिकी दूतावास पर आधी रात को एक रॉकेट से हमला हुआ है। हमला इतना जबरदस्त था कि धुएं का गुबार काफी दूर से देखा जा सकता था। इस दौरान चेतावनी के सायरन बजने लगे और लोगों को अलर्ट कर दिया गया। हालांकि इस हमले में किसी के मारे जाने की कोई खबर नहीं है।

ये भी देखें:‘मोटिवेजर्स गाट टैलेंट’ में बुजुर्गों की अनोखी और दिलचस्प प्रस्तुति

ये पहला हमला तालिबान से बातचीत रद्द करने के बाद

यू।एस।ए। की तरफ से तालिबान से बातचीत रद्द करने के बाद ये पहला हमला है। इस हमले में अबतक जान-माल के कोई नुकसान की पुष्टि नहीं हो सकी है। घटनास्थल के आस-पास कई देशों के दूतावास स्थित हैं। आपको बता दें कि पिछले सप्ताह अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका-तालिबान शांति वार्ता को बंद करने का फैसला किया था।

कुछ समय पहले हुआ था काबुल में ब्लास्ट

इससे पहले पिछले हफ्ते दो तालिबान कारों में बम धमाके ने काबुल को हिलाकर रख दिया था। इस हमले में कई नागरिक और नाटो मिशन के दो सदस्य मारे गए थे। अफगानिस्तान के साथ शांति वार्ता को रद्द करने के पीछे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यही वजह बताई थी।

ये भी देखें:Apple के नए iPhone और Series 5 वॉच लॉन्च, जानें पूरी डीटेल्स

आज 9/11 की 18वीं बरसी

अमेरिका में 2001 में हुए आतंकी हमलों की आज 18वीं बरसी भी है। 2001 में 11 सितंबर के दिन आतंकवादियों ने यात्री विमानों को मिसाइल की तरह इस्तेमाल करते हुए अमेरिका के विश्वप्रसिद्ध वर्ल्ड ट्रेड टावर और पेंटागन को निशाना बनाया। इसे अमेरिका के इतिहास के सबसे बड़े आतंकी हमले के तौर पर देखा जाता है।

साल 2001 में अमेरिका में आतंकवादियों ने विमान अपहरण कर न्यूयार्क के वर्ल्ड ट्रेड टावर की दो इमारतों, वर्जीनिया स्थित पेंटागन और पेन्सिलवेनिया पर हमला किया। इस हमले में 2977 लोगों की मौत हुई थी।