फ्रांस में पैगंबर के कार्टून पर बवाल

पेरिस के उपनगर में एक स्कूल में सैमुएल पाटी ने आठवीं कक्षा के छात्रों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वाली क्लास में पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया। हालाँकि उन्होंने ऐसा करने से पहले मुस्लिम छात्रों को कक्षा से बाहर भेज दिया था।

france

पैगंबर के कार्टून पर बवाल (फोटो:सोशल मीडिया)

पेरिस: फ्रांस में पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर टीचर सैमुएल पाटी की हत्या के बाद फ्रांस और तुर्की आमने सामने हैं। फ्रेंच राष्ट्रपति अभिव्यक्ति की आजादी का झंडा बुलंद कर रहे हैं तो तुर्क राष्ट्रपति इस्लाम का। ये मामला आगे चल कर कोई भी रूप अख्तियार कर सकता है।

अभिव्यक्ति की आजादी

पेरिस के उपनगर में एक स्कूल में सैमुएल पाटी ने आठवीं कक्षा के छात्रों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वाली क्लास में पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया। हालाँकि उन्होंने ऐसा करने से पहले मुस्लिम छात्रों को कक्षा से बाहर भेज दिया था। कार्टून दिखाए जाने के पीछे पाटी का मकसद फ्रांस में अभिव्यक्ति की आज़ादी की चर्चा करना था। बाद में स्कूल से बाहर एक चेचेन शरणार्थी ने सिर काटकर उनकी हत्या कर दी। पुलिस की कार्रवाई में इस चेचेन शरणार्थी भी मारा गया।

ये भी पढ़ें:प्यार और विश्वास का प्रतीक है करवा चौथ, जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त

शुरुआती जांच से जो तस्वीर सामने आई है उससे पता चल रहा है कि टीचर की हत्या कार्टून दिखाने की वजह से की गई। इस हत्या पर फ्रांस में जबरदस्त प्रतिक्रिया हुई और बड़ी संख्या में लोगों ने टीचर के समर्थन में प्रदर्शन किया। टीचर सैमुएल पाटी को देश का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान भी दिया गया। राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों ने पाटी को श्रद्धांजलि देते वक्त यह ऐलान किया कि फ्रांस अपने रुख से पीछे नहीं हटेगा। राष्ट्रपति ने साफ कहा कि उनका देश कार्टून बनाना बंद नहीं करेगा और देश के लिए अभिव्यक्ति की आजादी सर्वोपरि है।

फ्रांस में 2015 में भी शार्ली हेब्दो पत्रिका के दफ्तर पर हमला कर आतंकवादियों ने वहां मौजूद कर्मचारियों की हत्या कर दी थी। पत्रिका ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून छापा था। इसके बाद भी देश में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए और यूरोपीय संघ के तमाम बड़े नेताओं ने इन प्रदर्शनों में हिस्सा लिया। इसके पहले स्वीडन में भी इस तरह के कार्टून और उनके लिए हत्या और विरोध प्रदर्शन दुनिया देख चुकी है।

इस्लामी देश लामबंद

पैगंबर के कार्टूनों पर इस्लामी देशों में विरोध प्रदर्शन और यूरोपीय देशों का अभिव्यक्ति की आजादी के पक्ष में लामबंद होने में नया इस बार यह है कि इस्लामी देशों की तरफ से विरोध की कमान तुर्की ने अपने हाथ में ले ली है तो दूसरी तरफ फ्रांस के राष्ट्रपति अभिव्यक्ति की आजादी को हर तरह से सबसे अहम बताने में जुटे हैं। तुर्की के विरोध करने के बाद शार्ली हेब्दो पत्रिका ने तो तुर्की के राष्ट्रपति का भी एक कार्टून अपने कवर पेज पर छाप दिया। तुर्की ने इस पर आक्रामक रुख जताया और इस मामले में कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है।

france
france (Photo by social media)

घरेलू राजनीति का असर

फ्रांस के राष्ट्रपति को आने वाले दो सालों में चुनाव का सामना करना है। कोरोना को रोकने में नाकामी और अर्थव्यवस्था को बुरे हाल में जाने से बचाने के लिए बहुत कुछ ना कर पाने की विवशता उन्हें ऐसे मुद्दों को उठाने के लिए उकसा रही है। फ्रांस के लिए अभिव्यक्ति की आजादी ऐसा ही एक मुद्दा है जिस पर देश के लोगों को लामबंद किया जा सकता है। अगर वैचारिक आजादी के मुद्दे ने अपना रंग जमा लिया तो माक्रों के लिए दोबारा चुने जाने की राह आसान हो जाएगी।

दूसरी तरफ तुर्की का भी कुछ यही हाल है। बीते दस सालों से तुर्की को आर्थिक, सामाजिक और अंतरराष्ट्रीय मंच पर मजबूत बनाने की एर्दोवान की कोशिश बहुत रंग नहीं ला सकी है। उल्टे जर्मनी, ग्रीस और दूसरे यूरोपीय देशों के साथ चल रही तनातनी में तुर्की के आगे बढ़ने के मौके सिमटते जा रहे हैं। यूरोपीय संघ के साथ तुर्की की चल रही खींचतान को भी इस विवाद के उभरने की एक वजह कहा जा रहा है। नाटो में शामिल और यूरोपीय संघ के साथ सहयोग की पींगें बढ़ाता तुर्की एर्दोवान के शासन में हर महीने अलग अलग वजहों से गुत्थमगुत्था हो रहा है। यूरोपीय संघ का प्रमुख देश होने के नाते फ्रांस के मन में भी तुर्की को लेकर कुछ शिकायतें हैं।

एर्दोवान का विरोध

लंबे समय से देश की सत्ता पर काबिज एर्दोवान के लिए घरेलू मोर्चे पर भी विरोध बढ़ रहा है। अर्थव्यवस्था से लेकर मुद्रा और तमाम दूसरे मोर्चों पर उनके हाथ सिर्फ नाकामी है और उसका जवाब वे धार्मिक और अंतरराष्ट्रीय मामलों में उग्र तेवरों से देना चाहते हैं। इसके लिए वे अपने को इस्लामी जगत का नेता बनाने की पुरजोर कोशिशें कर रहे हैं। तुर्की का इस्लामीकरण भी इसी रणनीति का हिस्सा है। एर्दोवान मुसलमानों को यह भी बताना चाहते हैं कि वो ना सिर्फ राजनीतिक बल्कि धार्मिक मुद्दों के भी पैरोकार हैं।

पैगंबर मोहम्मद का ही कार्टून क्यों?

एक्स्पेट्स का कहना है कि इस समय जो चुनाव का बाजार है उसमें धर्म जैसे छोटे समय के लिए लोगों को भावुक बनाने वाले मुद्दे सामने आ रहे हैं। पहले यह तीसरी दुनिया के देशों में होता था अब यूरोपीय देशों में भी हो रहा है। फ्रांस में कोविड को संभालने की नाकामी, घरेलू खींचतान, अर्थव्यवस्था इन सबसे निबटने के लिए राजनीतिक पार्टियां पहले से कहीं ज्यादा दक्षिणपंथी रुख अपना रही हैं। इस समय पूरी दुनिया का एजेंडा दक्षिणपंथी पार्टियां तय कर रही हैं और जो कम दक्षिणपंथी हैं उन्हें भी इसी रास्ते पर चलने के लिए मजबूर होना पड़ा है। एर्दोवान और माक्रों दोनों ने इस वक्त यही रास्ता चुना है।

शरणार्थियों का संकट

पूरे यूरोप में फ्रांस में सबसे ज्यादा मुसलमान हैं। इसके अलावा यूरोप ने हाल के वर्षों में अपने दरवाजे शरणार्थियों के लिए खोल दिए तो इन देशों में सीरिया आदि मुस्लिम देशों के असली-नकली शरणार्थियों की बाढ़ आ गयी है जिससे सामाजिक तानाबाना छिन्न भिन्न हुआ जा रहा है। ऐसे में ईसाई लोगों का शरणार्थियों के प्रति विरोध बढ़ता जा रहा है।

मुस्लिम जगत की नेतागीरी

कार्टून के मुद्दे पर तुर्की के अलावा प्रमुख रूप से पाकिस्तान और ईरान ने ज्यादा उग्र तेवर दिखाए हैं और फ्रांस के दूतावास अधिकारियों को बुला कर अपना विरोध जताया है। इस मुद्दे पर बांग्लादेश, मालदीव समेत कुछ मुस्लिम देशों में विरोध प्रदर्शन हुए हैं लेकिन अब तक इस्लाम का झंडाबरदार रहे सऊदी अरब और अरब जगत के देशों ने कुछ बहुत खास नहीं किया है। शायद इन देशों को अब समझ आ गया है कि इस्लाम का झंडा उठाने भर से काम नहीं चलेगा।

दूसरी तरफ तुर्की, ईरान और पाकिस्तान आपस में मिलकर मुस्लिम जगत में नेतृत्व की खाली हुई जगह को भरने की फिराक में हैं। तुर्की अपनी ओटोमन विरासत, पाकिस्तान अपनी परमाणु और ईरान सांस्कृतिक रूप से समृद्धि के दम पर अपनी जगह पक्की कर लेना चाहते हैं। ईरान ने पैंगबर के कार्टून को किसी भी तरह सहन नहीं करने की बात कही तो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी तुर्की के सुर में सुर मिला रहे हैं। इन तीनों को अहसास है कि साथ मिलकर ही कुछ हो सकता है इसलिए आपस में सहयोग की ताकत बढ़ाई जा रही है।

ये भी पढ़ें:Realme Festive Days: इतना सस्ता हुआ स्मार्टफोन, फीचर्स जानकर उड़ जाएंगे होश

हिमायत नहीं दुष्प्रचार

विरोध की इस अंतरराष्ट्रीय राजनीति में उस टीचर की हत्या कहीं दब गई है जो क्लास में कार्टून दिखाने की वजह से निर्मम हत्या का शिकार हुआ। इस समय इसकी चर्चा कोई नहीं कर रहा कि ऐसे काम के लिए किसी की हत्या कर देना कहां तक जायज है या फिर ऐसी घटना दोबारा ना हो इसके लिए क्या किया जाए। अभिव्यक्ति के लिहाज से एक स्वतंत्र देश में पैदा हुआ टीचर अपनी बंदिशों से मुक्त सोच की वजह से मारा गया और उसकी कहीं कोई बात नहीं कर रहा।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App