×

भारत के लिए खतरा! सऊदी अरब ने बुलाई कश्मीर मुद्दे पर मुस्लिम देशों की बैठक 

वैसे से केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद से भारत और सऊदी अरब के बीच दोस्ती गहरी हुई है। दोनों देशों में रिश्ते मजबूत हुए हैं लेकिन अब सउदी अरब का एक कदम दोनों देशों के बीच खटास ला सकता है। दरअसल, सबसे बड़े खाड़ी देश सऊदी अरब ने इस्लामिक देशों के विदेश मंत्रियों के 'आर्गनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन' (ओआईसी) की बैठक का आयोजन किया है। इस बैठक का मुख्य मुद्दा कश्मीर है।

Shivani Awasthi
Updated on: 29 Dec 2019 6:19 AM GMT
भारत के लिए खतरा! सऊदी अरब ने बुलाई कश्मीर मुद्दे पर मुस्लिम देशों की बैठक 
X
Saudi Arabia
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

वैसे से केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद से भारत और सऊदी अरब के बीच दोस्ती गहरी हुई है। दोनों देशों में रिश्ते मजबूत हुए हैं लेकिन अब सउदी अरब का एक कदम दोनों देशों के बीच खटास ला सकता है। दरअसल, सबसे बड़े खाड़ी देश सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने इस्लामिक देशों के विदेश मंत्रियों के 'आर्गनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन' (OIC) की बैठक का आयोजन किया है। इस बैठक का मुख्य मुद्दा कश्मीर है।

कश्मीर मुद्दे पर सऊदी अरब ने बुलाई OIC की बैठक:

बता दें कि 26 दिसंबर को सऊदी के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान अल सउद ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से इस्लामाबाद की यात्रा के दौरान मुलाकात की थी। इस दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, विदेश सचिव सोहेल महमूद, आईएसआई डायरेक्टर जनरल लेफ्टिनेंट फैज हमीद व अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए थे। बैठक में प्रिंस फैसल कश्मीर मुद्दे पर चर्चा कराने का आश्वासन दिया था।

ये भी पढ़ें: ब्लास्ट से दहला पाकिस्तान: कैफे में हुए जोरदार धमाके में 13 घायल, मचा हड़कंप

इस्लामाबाद को अपनी तरफ करने के लिए सऊदी का कदम

गौरतलब है कि इससे पहले मलेशिया में भी इस्लामिक शिखर सम्मेलन का आयोजन होना था, जिसमें पाकिस्तान के शामिल होने पर सऊदी अरब ने इसके लिए मना कर दिया था। माना जा रहा है कि अब ये बैठक इस्लामाबाद को अपनी तरफ करने का एक कदम है।

भारत से बिगड़ सकते हैं सऊदी के रिश्ते:

फिलहाल ओआईसी की बैठक की तारीख अभी तय नहीं हुई है। हालाँकि माना जा रहा है कि इस बैठक से भारत और सऊदी के रिश्तों में नकारात्मकता आएगी। बता दें कि भारत आईओसी का सदस्य नहीं है, हालाँकि मार्च 2019 में पहली बार भारत गेस्ट ऑफ़ ऑनर के तौर पर विदेशमंत्रियों की बैठक में आमंत्रित किया गया था।

वहीं पाकिस्तान के लिए यह किसी उपलब्धि से कम नहीं है, क्योंकि अब तक उसे इस मुद्दे पर किसी इस्लामिक देश का समर्थन नहीं मिला था।

क्या है OIC :

ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉर्पोरेशन (OIC) इस्लामिक देशों का संगठन हैं, जिसमें 57 सदस्य देश शामिल हैं। इसका मुख्यालय सऊदी अरब के जेद्दा में स्थित है। संयुक्त राष्ट्र के बाद आईओसी दूसरा सबसे बड़ा अंतर-सरकारी संगठन है। इस संगठन का लक्ष्य शांति और सद्भाव को बढ़ावा देने की भावना से मुस्लिम जगत के हितों की रक्षा और संरक्षण देना है।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी पाकिस्तान से परवेज मुशर्रफ की फांसी की सजा पर आई ये बड़ी खबर

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story