×

ट्रंप का WHO पर बड़ा हमला, संगठन को चीन की पीआर एजेंसी बताया

अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक बार फिर दोहराया कि कोरोना वायरस की शुरुआत चीन के वुहान इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी से ही हुई है। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात में तनिक भी शक नहीं है।

Shivani Awasthi
Updated on: 1 May 2020 4:45 AM GMT
ट्रंप का WHO पर बड़ा हमला, संगठन को चीन की पीआर एजेंसी बताया
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

अंशुमान तिवारी

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) पर बड़ा हमला बोला है। ट्रंप ने आरोप लगाया है कि यह संगठन अपनी जिम्मेदारियों को पूरा नहीं कर रहा है और चीन के लिए एक पीआर एजेंसी की तरह काम रहा है।

वुहान से ही फैला कोरोना वायरस

अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक बार फिर दोहराया कि कोरोना वायरस की शुरुआत चीन के वुहान इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी से ही हुई है। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात में तनिक भी शक नहीं है। जब उनसे पूछा गया कि क्या उनके पास इस बात का कोई सबूत है, उन्होंने कहा कि हां मेरे पास सबूत है लेकिन अभी उसे शेयर नहीं किया जा सकता।

चीन रच रहा मेरे खिलाफ साजिश

उन्होंने चीन को घेरते हुए कहा कि चीन उन्हें दोबारा राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। ट्रंप ने कहा कि उनके प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार बाल्डिंग को जिताने की कोशिश में चीन जुटा हुआ है ताकि चीन के अमेरिका के साथ व्यापार संबंधों में दबाव को कम किया जा सके। उन्होंने पूरी दुनिया में कोरोना के संक्रमण के लिए चीन को एक बार फिर जिम्मेदार ठहराया और कहा कि उसे जल्द से जल्द इसके बारे में पूरी दुनिया को जानकारी देनी चाहिए।

ये भी पढेंः US इंटेलिजेंस ने कोरोना वायरस पर किया बड़ा खुलासा, ट्रंप को नहीं हो रहा विश्वास

डब्ल्यूएचओ को आनी चाहिए शर्म

ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि यह संगठन चीन की कारगुजारियों से आंख मूंदे हुए है और बिल्कुल उसकी पीआर एजेंसी की तरह काम कर रहा है। अपने काम करने के ढंग पर विश्व स्तर के इस संगठन को शर्म आनी चाहिए। उन्होंने सवाल किया कि क्या विश्व स्वास्थ्य संगठन को इस तरह काम करना चाहिए जिससे कि लोगों का उस पर से भरोसा ही उठ जाए।

डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोक चुके हैं ट्रंप

ट्रंप इधर कुछ दिनों से विश्व स्वास्थ संगठन पर हमलावर रुख अपनाए हुए हैं और उन्होंने पिछले दिनों इस संगठन को अमेरिका से मिलने वाली फंडिंग पर रोक लगा दी थी। उनका कहना है कि डब्ल्यूएचओ समय पर कोरोना महामारी से जुड़ी जानकारियों को साझा करने में पूरी तरह विफल रहा है। इस बीच अमेरिका में विदेश मामलों पर यूएस हाउस कमेटी ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग को रोकने वाले ट्रंप प्रशासन के फैसले की जांच भी शुरू कर दी है।

ये भी पढेंः चीन से दुनिया का मोह भंग, अब तगड़ा झटका देने की तैयारी में भारत

चीन का असली चेहरा जल्द आएगा सामने

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है। अमेरिका ने पहले भी चीन की इस थ्योरी को गलत बताया था जिसमें कहा गया है कि कोरोना वायरस चीन के वाइल्डलाइफ मार्केट से फैला है। अमेरिका शुरू से ही आरोप लगाता रहा है कि कोरोना वायरस का संक्मण चीन की वुहान लैब से ही फैला है। ट्रंप का आरोप है कि चीन ने इस वायरस के बारे में जानकारी छुपाए रखी और दुनिया को इस बारे में अंधेरे में रखा। ट्रंप का कहना है कि वे सच्चाई का पता लगाने में जुटे हुए हैं और जल्द ही पूरी दुनिया को चीन की भूमिका के बारे में जानकारी मिल जाएगी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story