×

फ्रांस के बाद अब इस देश में भी 1 महीने के लिए दूसरा लॉकडाउन, इन सेवाओं पर रोक

इंग्लैंड में शनिवार शाम को कहा गया, कि 31 जनवरी से 31 अक्टूबर 2020 के बीच कोरोना के 1,011,660 केस पाए गए हैं। जबकि बीते पिछले 24 घंटों में 21,915 नए मामले सामने आए है और उनमें से 326 लोगों की मौतें हो चुकी हैं।

Newstrack
Published on: 1 Nov 2020 5:02 AM GMT
फ्रांस के बाद अब इस देश में भी 1 महीने के लिए दूसरा लॉकडाउन, इन सेवाओं पर रोक
X
इंग्लैंड में शनिवार शाम को कहा गया, कि 31 जनवरी से 31 अक्टूबर 2020 के बीच कोरोना के 1,011,660 केस पाए गए हैं। जबकि बीते पिछले 24 घंटों में 21,915 नए मामले सामने आए है और उनमें से 326 लोगों की मौतें हो चुकी हैं।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: आज की बड़ी खबर इंग्लैंड से आ रही है। यहां पर प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने 2 दिसंबर तक के लिए लॉकडाउन की घोषणा की है। ये फैसला कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए विशेषज्ञों की सलाह पर लिया गया है।

इससे पहले फ्रांस, बेल्जियम और जर्मनी कोरोना की संभावित दूसरी लहर को देखते हुए सख्त प्रतिबंध लगा चुके हैं।

इंग्लैण्ड के विशेषज्ञों ने साफ कर दिया है कि अगर कड़ी कार्रवाई नहीं की जाती है तो दिसंबर तक कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौत की संख्या में काफी इजाफा हो जाएगा।

इंग्लैंड में कोरोना के मामले दस लाख के पार पहुंच गये हैं। इंग्लैण्ड की सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के एक सदस्य एपिडेमियोलॉजिस्ट जॉन एडमंड्स ने बताया कि इस महीने की शुरुआत में मॉडलर्स ने जो एक सबसे खराब स्थिति का सिनेरियो बनाया था, मामले उस स्थिति से कहीं ऊपर चल रहे हैं। इसलिए लॉकडाउन लगाना जरूरी है।

ये भी पढ़ें…मौसम विभाग का अलर्ट: इन राज्यों में होगी भारी बारिश, यहां पड़ेगी कड़ाके की ठंड

corona-testing कोरोना टेस्ट की तैयारी करते डॉक्टर(फोटो:सोशल मीडिया)

गैर-जरूरी व्यवसायों को बंद रखने का आदेश

अब नए लॉकडाउन में गैर-जरूरी व्यवसायों को बंद रखने के लिए आदेश दे दिए गये है। लोगों से खा गया है कि वे अपने घरों पर ही रहे। लेकिन स्कूल और यूनिवर्सिटी खुले रहेंगे। ब्रिटेन में एक दिन में 20,000 से अधिक कोरोना के नये केस सामने आये हैं।

बता दें कि दूसरे लॉकडाउन की घोषणा इंग्लैंड के लिए की गई है, जो यूनाइटेड किंगडम का सबसे बड़ा और सबसे अधिक आबादी वाला क्षेत्र है, जिसमें स्थानीय लॉकडाउन और वेल्स, स्कॉटलैंड और उत्तरी आयरलैंड में पहले से ही कड़ा प्रतिबन्ध हैं। लोगों को स्कॉटलैंड और इंग्लैंड के बीच यात्रा से बचने को कहा गया है।

ये भी पढ़ें…अब वीगन बनने की बारीः लेकिन जान लें, वीगन और वेजेटेरियन का फर्क

एक महीने तक लागू रहेगा लॉकडाउन

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने संक्रमण के स्तरों के आधार पर ब्रिटेन के लिए स्थानीय प्रतिबंधों की एक प्रणाली शुरू की थी, लेकिन वैज्ञानिकों का कहना था कि यह पर्याप्त नहीं है। टाइम्स ऑफ लंदन के मुताबिक, जॉनसन सोमवार को एक महीने के लॉकडाउन की घोषणा की है।

लॉकडाउन का एलान करते हुए प्रधानमंत्री जॉनसन ने कहा, "कोई भी इस तरह के उपायों को कहीं भी लागू नहीं करना चाहता है। हमने सोचा था कि मजबूत स्थानीय कार्रवाई मजबूत स्थानीय नेतृत्व द्वारा, हम संक्रमण की दरों को कम कर सकते हैं। हम प्रकृति के सामने और इस देश में विनम्र हो गए हैं।

corona test kit कोरोना टेस्ट (फोटो-सोशल मीडिया)

31 जनवरी से 31 अक्टूबर 2020 तक कोरोना के 1,011,660 पाए गये

यूरोप के अधिकांश हिस्सों में वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अगर लॉकडाउन जैसा प्रतिबंध नहीं लगाए गए तो हम अपने देश में प्रति दिन कई हजार तक मौतें देख सकते हैं।”

वहीं एक आधिकारिक बयान में शनिवार शाम को कहा गया, कि 31 जनवरी से 31 अक्टूबर 2020 के बीच इंग्लैंड में कोरोना के 1,011,660 केस पाए गए हैं। जबकि बीते पिछले 24 घंटों में 21,915 नए मामले सामने आए है और उनमें से 326 लोगों की मौतें हो चुकी हैं।

ये भी पढ़ें…तबाही लेकर आ रहा है सुपर टायफून, फिलीपींस में अलर्ट जारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story