ऐसा क्या हुआ कि भारत को करना पड़ा पाकिस्तान से अनुरोध 

पाकिस्तान ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी शिविर पर भारतीय वायु सेना के हमले के बाद 26 फरवरी को अपना वायु क्षेत्र पूरी तरह बंद कर दिया था। तब से उसने कुल 11 में से केवल दो वायु मार्ग खोले और दोनों दक्षिण पाकिस्तान से होकर गुजरते हैं।

file photo

नयी दिल्ली: भारत ने पाकिस्तान से किर्गिस्तान के बिश्केक जाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विमान को अपने वायु क्षेत्र से गुजरने देने का अनुरोध किया है। मोदी को बिश्केक में 13 जून और 14 जून को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में भाग लेने जाना है।

पाकिस्तान ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी शिविर पर भारतीय वायु सेना के हमले के बाद 26 फरवरी को अपना वायु क्षेत्र पूरी तरह बंद कर दिया था। तब से उसने कुल 11 में से केवल दो वायु मार्ग खोले और दोनों दक्षिण पाकिस्तान से होकर गुजरते हैं।

ये भी देखें : जानें शासन ने किन विभागों को दिया पौधरोपण का लक्ष्य

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने पाकिस्तान से प्रधानमंत्री के विमान को अपने एक मार्ग से होकर गुजरने देने का अनुरोध किया है जो अभी तक खुला नहीं है। प्रधानमंत्री को 13 जून और 14 जून को एससीओ शिखर सम्मेलन में भाग लेना है।’’

पाकिस्तान ने 21 मई को भारत की तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को किर्गिस्तान के बिश्केक में एससीओ विदेश मंत्रियों की बैठक में शामिल होने के लिए पाकिस्तानी वायु क्षेत्र से सीधे उड़ान भरने की खास अनुमति दी थी।

दक्षिण पाकिस्तान में दो मार्गों के अलावा पड़ोसी देश का वायु क्षेत्र वाणिज्यिक विमानों के लिए अब भी बंद है।

ये भी देखें : वर्ल्ड कप 2019: भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के सामने रखा 353 रनों का लक्ष्य

भारतीय वायु सेना ने 31 मई को घोषणा की थी कि बालाकोट हवाई हमले के बाद भारतीय वायु क्षेत्र पर लगाए सभी अस्थायी प्रतिबंध हटा लिए गए हैं। हालांकि इससे किसी भी वाणिज्यिक एयरलाइन को फायदा मिलने की संभावना नहीं है जब तक पाकिस्तान अपना वायु क्षेत्र नहीं खोलता।

पाकिस्तानी वायु क्षेत्र के बंद होने से एयर इंडिया और इंडिगो की अंतरराष्ट्रीय उड़ानें प्रभावित हैं।

 

(भाषा)