अब तक नहीं जानते थे तो अब जान लें, सिंदूर लगाते समय दें ध्यान तो खुद-ब- खुद बना रहेगा आपका सुहाग

शादीशुदा हिंदू महिलाओं के सिर पर लाल रंग का सिंदूर बहुत फबता है। महिलाओं के लिए सिंदूर, हर गहने से बढ़कर है। औरतों को सिंदूर के अलावा मंगलसूत्र भी उन्हें किसी भी अन्य मूल्यवान वस्तु से अधिक प्रिय है। महंगे से महंगे अभूषण भी उनके लिए मंगलसूत्र के आगे कम हैं। ये मान्यताएं और उनका विश्वास ही है,

जयपुर:शादीशुदा हिंदू महिलाओं के सिर पर लाल रंग का सिंदूर बहुत फबता है। महिलाओं के लिए सिंदूर, हर गहने से बढ़कर है। औरतों को सिंदूर के अलावा मंगलसूत्र भी उन्हें किसी भी अन्य मूल्यवान वस्तु से अधिक प्रिय है। महंगे से महंगे अभूषण भी उनके लिए मंगलसूत्र के आगे कम हैं। ये मान्यताएं और उनका विश्वास ही है, जो इन चीजों को इतना अधिक महत्व देता है। लेकिन आपको पता है कि जो सिंदूर महिलाएं लगाती है वो कितनी बारीकी से लगानी चाहिए और उसका महत्व भी है। सुहाग की निशानी सिंदूर का संबंध पति की खुशियों से जुड़ा होता हैं। विवाहित होकर भी सिंदूर ना लगाना अशुभ माना जाता है। सिंदूर उस महिला के लिए रिवाज और मान्यताओं के नाम पर भी जरूरी होता है। सिंदूर लगाते वक्त इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

 बिंदिया बिंदिया सिर्फ नहींं उड़ाती साजन की निंदिया, बल्कि माथे की शोभा बनकर बढ़ाती हैं हर नारी का सम्मान

सिंदूर लगाने के पीछे की कहानी
जो औरत बीच मांग में सिंदूर लगाती है और सिंदूर भी काफी लंबा लगाती है, तो उसके पति की आयु लंबी होती है। इस वजह से सुग्रीव ने बलि से बहुत मार खाई और किसी तरह अपनी जान बचाते हुए वह श्रीराम के पास पहुंचा और यह सवाल किया कि उन्होंने बलि को क्यों नहीं मारा। जिस पर श्रीराम ने कहा कि तुम्हारी और बलि की शक्ल एक सी है, इसलिए मैं भ्रमित हो गया और वार ना कर सका। किंतु यह पूरी सच्चाई नहीं है। क्योंकि भगवान श्रीराम किसी को पहचान ना सकें, ऐसा नहीं हो सकता। उनकी दृष्टि से कोई नहीं बच सकता। असली बात तो यह थी कि जब श्रीराम बलि को मारने ही वाले थे तो उनकी नजर अचानक बलि की पत्नी तारा की मांग पर पड़ी, जो कि सिंदूर से भरी हुई थी। इसलिए उन्होंने सिंदूर का सम्मान करते हुए बलि को तब नहीं मारा। किंतु अगली बार जब उन्होंने यह पाया कि बलि की पत्नी स्नान कर रही है, तो मौका पाते ही उन्होंने बलि को मार गिराया। इसी कहानी के आधार पर यह मान्यता बनी हुई है कि जो पत्नी अपनी मांग में सिंदूर भरती है, उसके पति की आयु लंबी होती है।

इन बातों का ध्यान रखें
शादीशुदा महिलाओं को अपनी मांग में सिंदूर लगाते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है अन्यथा इसकी वजह से बुरा परिणाम होता है, अगर महिलाएं इन बातों का ध्यान रखती है तो इससे भाग्य मजबूत बनता है।
शादीशुदा महिलाओं को सबसे पहली बात यह ध्यान में रखनी होगी कि जिस डिब्बी के अंदर सिंदूर रखा हुआ है वह डिब्बी कहीं से टूटी नहीं होनी चाहिए, आप हमेशा साबुत डिब्बी में ही सिंदूर रखें।

महिलाएं भूल कर भी अपनी सिंदूर दानी किसी अन्य महिला को ना दें, अपने सुहाग को किसी अन्य स्त्री के साथ मत बांटिए।
अगर महिलाएं पार्लर में जाती है तो उनको इस बात का ध्यान रखना होगा कि सुहाग की सभी सामग्रियां दूसरी महिला से लगवा लें परंतु सिंदूर किसी से भी ना लगवाए, आप सिंदूर को अपनी मांग में खुद भरे।

 

इस जड़ी-बूटी से पुरुषों की अंदरूनी कमजोरी होती है दूर, करें इसके नियमित सेवन से इलाज

महिलाओं को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि जब अपनी मांग में सिंदूर लगाती है तो मांग के बीचो-बीच सिंदूर लगाएं, इससे आपके पति की लंबी आयु होती है, इसके अलावा अगर शादीशुदा महिला अपने मांग में सिंदूर इधर-उधर लगाती है तो इससे पति और पत्नी के बीच दूरियां बढ़ने की संभावना रहती है।

आज कल का मॉडर्न जमाना हो गया है अक्सर महिलाएं अपने मांग में सिंदूर तो लगाती हैं परंतु वह अपने बालों से छिपा लेती हैं, ऐसा करने से हर महिला को बचना होगा, क्योंकि इसकी वजह से आपके पति के मान-सम्मान में हानि हो सकती है। जब मांग में सिंदूर लगाती है तो उस समय के दौरान अपने सिर पर चुन्नी जरूर रख लीजिए, खुले मांग कभी भी सिंदूर ना लगाएं।

शादीशुदा महिलाओं को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि मांग में सिंदूर लगाती हैं तो खड़े होकर ना लगाएं बल्कि बैठ कर आराम से अपनी मांग में सिंदूर लगाएं, इसके अतिरिक्त कभी भी टूटे हुए शीशे के समक्ष बैठकर अपनी मांग में सिंदूर ना लगाएं, यह गलत है।

यहां सुहागिन महिलाएं रहती है सुनी मांग, नहीं कर सकती श्रृंगार, जानिए क्यों है ऐसी परंपरा?