Top

बाढ़ की विभीषिकाः खाने की तलाश में लोग, पेट भरने के लिए घोंघा खाने पर मजबूर

मानसून का सीजन शुरू होने के साथ ही पूरे बिहार में बारिश कहर मचा रही है। बिहार के कई जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। लगातार हो रही जोरदार बारिश से पानी का बहाव लगातार बढ़ता जा रहा है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 22 July 2020 11:14 AM GMT

बाढ़ की विभीषिकाः खाने की तलाश में लोग, पेट भरने के लिए घोंघा खाने पर मजबूर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: मानसून का सीजन शुरू होने के साथ ही पूरे बिहार में बारिश कहर मचा रही है। बिहार के कई जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। लगातार हो रही जोरदार बारिश से पानी का बहाव लगातार बढ़ता जा रहा है। सरकार और प्रशासन भी पानी के सामने बेबस नजर आ रहे हैं। सरकार और प्रशासन पर बाढ़ प्रभावित इलाके में कोई इंतजाम ना करने के आरोप लग रहे हैं। बाढ़ की वजह से लोग अपने घर के साथ-साथ अपनी जान भी गंवा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: जब सिंधिया-दिग्विजय का हुआ आमना-सामना, आई ये खास तस्वीर

घोंघा खाकर पेट भर रहे हैं लोग

बाढ़ की वजह से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आलम ये है कि लोगों को अपना पेट भरने के लिए घोंघा तक खाना पड़ रहा है। लोग ऐसे मुश्किल वक्त में घोंघा खाने को मजबूर हो गए हैं। गरीब महिलाएं बाढ़ के पानी से घोंसा छानकर लाती हैं और उसका मीट निकालकर बेच रही हैं। लोगों का कहना है कि बाढ़ प्रभावितों तक प्रशासन राहत कार्य पहुंचाने में नाकाम साबित हो रहा है। पटना के धनरुआ रोड पर महिलाएं काफी मात्रा में घोंघा लेकर बेचती हुई नजर आ रही हैं।

यह भी पढ़ें: सुशांत सिंह की आत्माः क्या मजाक है या हकीकत, इन्होंने की बात

पटना में कई इलाकों में हुआ जलभराव

वहीं बिहार की राजधानी पटना के किनारे बसे इलाकों में पूरी तरह जलभराव हो गया है। गंगा नदी का जल स्तर बढ़ने की वजह से दियारा इलाके में हर तरफ केवल पानी ही पानी दिखाई दे रहा है। कई स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा इन इलाकों में खाने के पैकेट पहुंचाए जा रहे हैं, लेकिन वो पर्याप्त नहीं हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कब्र से निकली आवाज: मुर्दे की गवाही से मचा हड़कंप, किया हत्या का खुलासा

वज्रपात की चपेट में आकर दस की मौत

वहीं, दूसरी ओर वज्रपात (Thunderclap) की चपेट में आने से दस लोगों की मौत हो गई है। अधिकारियों के मुताबिक, वज्रपात की चपेट में आने की वजह से बांका जिले में चार, नालंदा में तीन, जमुई में दो और नवादा में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। वहीं सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस घटना पर शोक जताते हुए कहा कि मुश्किल की घड़ी में वह प्रभावित परिवारों के साथ हैं। इसके साथ ही उन्होंने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रूपये देने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: राजा मानसिंह एनकाउंटरः मुठभेड़ दिखा मार दिया था, दोषी पुलिसकर्मियों को उम्रकैद

सरकार ने लोगों से की ये अपील

इसके अलावा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों से खराब मौसम में पूरी सतर्कता बरतने की अपील की है। साथ ही खराब मौसम होने पर आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा वज्रपात से बचाव के लिये समय-समय पर जारी किए जा रहे सुझावों का अनुपालन करें। ऐसे मौसम में घरों में रहें और सुरक्षित रहें। गौरतलब है कि रविवार को राज्य में वज्रपात की वजह से 16 लोगों की मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें: सेना हुई सतर्क: सीमा पर चीन की तरफ से नहीं हो रहा कोई बदलाव, आई ये बड़ी खबर

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story