Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

बिहार के रोल मॉडल: जिसे सलाम करती है पूरी दुनिया, अपनी प्रतिभा के लिए हैं मशहूर

बिहार से ऐसे ऐसे प्रतिभा निकले हैं, जिन्हें पूरी दुनिया आज भी सलाम करती है। ये ना केवल अपने देश बल्कि विदेशों में भी बिहार का गौरव बढ़ा रहे हैं। 

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 23 Oct 2020 11:12 AM GMT

बिहार के रोल मॉडल: जिसे सलाम करती है पूरी दुनिया, अपनी प्रतिभा के लिए हैं मशहूर
X
बिहार के रोल मॉडल: जिसे सलाम करती है पूरी दुनिया, अपनी प्रतिभा के लिए हैं मशहूर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) के चलते एक बार फिर से बिहार की चर्चा जोरो शोरो पर है। सभी पार्टियां जनता से अलग-अलग वादे कर रही हैं। साथ ही नेता ये भी बताने में पीछे नहीं हट रहे कि उन्होंने इस राज्य को क्या क्या दिया है। लेकिन इस बीच आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे प्रतिभाओं के बारे में जिन्होंने देश-विदेश में बिहार का गौरव बढ़ाया है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि बिहार से ऐसे ऐसे प्रतिभा निकले हैं, जिन्हें पूरी दुनिया आज भी सलाम करती है। अपने पूर्वजों के गौरव को बढ़ा रहे वर्तमान में ये सभी बिहारी।

पटवा टोली

जिन्हें देश में बिहार की प्रतिभा को लेकर किसी तरह का शक है, उनके लिए ये गांव आईना की तरह है। ये गांव कभी बुनकरी के काम के लिए जाना जाता था। काफी पिछड़ा हुआ था, पर पिछले 28 सालों से इस गांव के लड़के कुछ ऐसा कमाल कर रहे हैं, जो संभवत: देश के दूसरे गांवों में देखने को नहीं मिलता। बुनकरों के इस गांव से हर साल दर्जनों छात्र आईआईटी और एनआईटी के लिए चुने जाते हैं। इतना ही नहीं दुनिया के 12 देशों में यहां के आईआईटी पास आउट बढ़िया नौकरियों में हैं।

यह भी पढ़ें: दिवाली बोनस: इस बार एक-एक सरकारी कर्मचारी के खाते में आएगी इतनी बड़ी रकम

कहां है ये गांव?

पटवा टोली नाम का ये गांव नक्सल प्रभावित गया जिले में है। हालांकि, ये गांव भी बिहार के अन्य सामान्य गांवों की तरह ही है, लेकिन यहां से आईआईटी में चुने गए छात्रों ने इसे एक अलग पहचान दे दी है। पिछले 28 सालों से यहां के छात्र आईआईटी के लिए चुने जा रहे हैं। इस साल भी गांव के कई स्टूडेंट्स ने जेईई एडवांस्ड क्लीयर कर आईआईटी जैसे संस्थानों में दाखिला पाया है। गांव वालों की माने तो अब तक करीब 300 से ज्यादा छात्र छात्राओं गांव में पढ़ाई करके आईआईटी और एनआईटी जैसे इंजीनियरिंग संस्थानों में पहुंच चुके हैं।

कभी नक्सल प्रभावित था ये गांव

गया जिले का ये गांव कभी नक्सल और जातीय हिंसा से प्रभावित था। यहां के पटवा, बुनकरी का काम करते हैं। ये अन्य पिछड़ी जाति में आते हैं। पहली बार 1992 में इस गांव से एक छात्र जितेन्द्र ने आईआईटी में दाखिला पाया था। ख़ास बात ये है कि आईआईटी में एडमिशन पाने वाले अधिकांश छात्रों के माता-पिता या तो कम पढ़े-लिखे हैं या पूरी तरह से निरक्षर हैं। अधिकांश को आईआईटी का मतलब भी नहीं पता है।

यह भी पढ़ें: भूंकप लाएगा तबाही: भयानक मंजर होगा दिल्ली का, बड़े झटकों से थर्राएगा देश

BIHAR (फोटो- सोशल मीडिया)

अभयानंद, आनंद कुमार , आरके श्रीवास्तव

अब हम बात कर रहे उन शिक्षकों के बारे में जो अपने शैक्षणिक कार्यशैली से लाखों युवाओं के रोल मॉडल बन चुके हैं। बिहार के चर्चित शिक्षक अभयानंद, आनंद कुमार और आरके श्रीवास्तव को कौन नहीं जानता, जो प्रत्येक वर्ष आर्थिक रूप से गरीब स्टूडेंट्स को इंजीनियर बना उनके सपने को पंख लगा रहे हैं। ये तीनों बिहार के अनमोल रत्न राजनीती से काफी दूर रहते हैं।

जब जब बिहार में चुनाव आता है तो लोगों के बीच ये चर्चा जरूर होता है की बिहार के ये तीनों चर्चित चेहरे भी चुनाव लड़ सकते हैं, परन्तु ये सभी शिक्षक राजनीती से हमेशा दूरी बनाये रखते हैं, इनका कहना है की समाज सेवा बिना राजनीती में आये हुये भी किया जा सकता है, ये सभी शिक्षक ने आर्थिक रूप से गरीब स्टूडेंट्स को आईआईटी, एनआईटी, बीसीईसीई ,एनडीए प्रवेश परीक्षा सफ़लता दिलाकर बेहतर राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दे रहे है ।

यह भी पढ़ें: कांप उठेंगी पत्नियाँ: जरा देखें इस हैवान पति की हरकत, हर कोई रह गया दंग

अनूठे एकेडमिक्स के चलते देशभर में मशहूर है बिहार

बिहार देशभर में अनूठे एकेडमिक्स की वजह से भी चर्चित है। अभयानंद और आनंद कुमार ( Anand Kumar) ने गरीब बच्चों को आईआईटी (IIT) जैसे संस्थानों में भेजकर ऐसी लकीर खींच दी है कि पूरी दुनिया उनके काम को सलाम करती है। एक मैथमेटिक्स गुरु आरके श्रीवास्तव (RK Srivastava) भी गज़ब तरीके से बच्चों को पढ़ाते हैं।

आरके चुटकले और कबाड़ों के जरिए से खेल-खेल में बच्चों को गणित की मुश्किल पढ़ाई करवाते हैं। कबाड़ को जुगाड़ से खिलौने बनाकर प्रैक्टिकल में यूज करते हैं। वो सामाजिक सरोकार से गणित को जोड़कर, सवाल हल करना बताते हैं। आरके 52 तरीके से पाइथागोरस प्रमेय (Pythagoras theorem) को सिद्ध कर दुनिया को हैरान कर चुके हैं। वो 450 से ज्यादा बार फ्री नाईट क्लासेज चलाकर भी सुर्खियां बटोर चुके हैं। उनकी क्लास में स्टूडेंट पूरी रात 12 घंटे गणित की पढ़ाई कर चुके हैं। जो खुद मैं हैरान करने वाली बात है।

यह भी पढ़ें:राहुल -मोदी आमने-सामने: बिहार रैलियों में जमकर उठाए ये मुद्दे, हुई ताबड़तोड़ सभाएं

BIHAR FAMOUS FACES फोटो- सोशल मीडिया

सुपर 30 की तरह गरीब स्टूडेंट को बनाते हैं इंजीनियर

लोग बताते हैं कि वह भी सुपर 30 की तरह भी गरीब स्टूडेंट को इंजीनियर बनाते हैं। इसके बदले में मात्र एक रुपए गुरुदक्षिणा लेते हैं। आकड़ों के अनुसार अभी तक 540 आर्थिक रूप से गरीब स्टूडेंट्स को आईआईटी,एनआईटी, बीसीईसीई प्रवेश परीक्षा में सफलता दिलाकर उनके सपनो को पंख लगा चुके है। कई लोग दावा करते हैं कि आरके, सुपर 30 के आनंद कुमार की परंपरा के टीचर हैं।

गरीब परिवार में जन्मे बिक्रमगंज रोहतास के आरके श्रीवास्तव का जीवन काफी संघर्ष से भरा रहा। जिससे लड़ते हुए वह अपनी पढ़ाई पूरी की। लेकिन, टीबी की बीमारी के कारण आईआईटी की प्रवेश परक्षा नहीं दे पाए। बाद में ऑटो चलने से होने वाले इनकम से परिवार का भरण-पोषण होने लगे।

रामानुजन और वशिष्ठ नारायण सिंह को आदर्श मानने वाले आरके श्रीवास्तव बाद में कोचिंग पढ़ाने लगे। गणित के लिए इनके द्वारा चलाया जा रहा निःशुल्क नाईट क्लासेज अभियान पूरे देश मे चर्चा का विषय बना हुआ है। इस क्लास को देखने और उनका शैक्षणिक कार्यशैली को समझने के लिए कई विद्वान उनके इंस्टीट्यूट आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें: सुशांत डेथ केस: गुपचुप मुंबई पहुंचे NCB बॉस, कई सितारों पर एक्शन की तैयारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story