बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम: 80 दिनों बाद हुआ ऐसा, यहां जानें नए रेट

लॉकडाउन के पांचवे चरण यानि की अनलॉक 1 शुरू होने के साथ ही पेट्रोल और डीजल की मांग में सुधार आना शुरू हो गया है। वहीं कच्चे तेल की कीमत करीब 42 डॉलर प्रति बैरल हो गई है।

नई दिल्ली: लॉकडाउन के पांचवे चरण यानि की अनलॉक 1 शुरू होने के साथ ही पेट्रोल और डीजल की मांग में सुधार आना शुरू हो गया है। वहीं कच्चे तेल की कीमत करीब 42 डॉलर प्रति बैरल हो गई है। जिसके बाद पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतो में करीब 80 दिनों बाद बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतो में 60-60 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है।

80 दिनों बाद पेट्रोल और डीजल की बढ़ी कीमत

बता दें कि लॉकडाउन के दौरान पिछले करीब 80 दिन ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (Oil Marketing Companies) की ओर से पेट्रोल और डीजल के बेस प्राइस में कोई बदलाव नहीं किया गया था। पिछली बार कंपनियों ने ईंधन की कीमतों में 16 मार्च को बदलाव किया था।

यह भी पढ़ें: अर्चना तिवारी OBC: जमकर मच रहा बवाल, 69000 शिक्षक भर्ती की हैं टॉपर

राज्य सरकारों की वजह से कीमतों में आए उतार-चढ़ाव

लॉकडाउन के दौरान राज्य सरकारों की वजह से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में उतार-चढ़ाव आए हैं। क्योंकि राज्य सरकारों ने अपना राजस्व बढ़ाने के लिए वैट या सेस में बढ़ोत्तरी की थी, जिसके बाद ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी देखने को मिली थी। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन की वजह से सभी राज्यों के राजस्व में भारी कमी आई है। ऐसे में राज्यों ने अपने राजस्व में सुधार लाने के लिए ये कदम उठाया है।

कच्चे तेल की कीमत के आधार पर तय होते हैं पेट्रोल-डीजल की कीमत

देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में रोजाना होने वाला बदलाव कच्चे तेल की कीमत के आधार पर तय किया जाता है। क्योंकि भारत अपनी जरूरत का 83 फीसदी से अधिक कच्चा तेल आयात करता है। इसके लिए भारत को हर साल करीब 100 अरब डॉलर का भुगतान करना पड़ता है। वहीं कमजोर रुपया से भारत का आयाज बिल और बढ़ जाता है और सरकार इसकी भरपाई करने के लिए टैक्स की दरें उंची रखती हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली बॉर्डर पर बड़ा फैसला: इस दिन हटाया जाएगा सील, लोगों को मिलेगी राहत

कच्चा तेल पहुंचा 42 डॉलर प्रति बैरल

बता दें कि इंटरनेशल मार्केट में कच्चा तेल तीन महीने के उच्‍चस्‍तर पर पहुंचकर 42 डॉलर प्रति बैरल हो चुका है। वहीं अप्रैल में कच्चा तेल 30 डॉलर प्रति बैरल के भी नीचे था। हालांकि अभी भी कच्चे तेल की कीमत पिछले साल (2019) के आखिरी समय से कम हैं। अप्रैल में पेट्रोल-डीजल की मांग भी करीब आधी रह गई थी। लेकिन अब छूट के साथ ही मांग में भी बढ़ोत्तरी हुई है।

पेट्रोलियम उत्‍पादों की मांग में सुधार

इंडियन ऑयल के मुताबिक, पिछले महीने सरकार द्वारा लॉकडाउन में दी गई छूट के चलते अप्रैल की तुलना में मई में पेट्रोलियम उत्‍पादों की मांग में सुधार दर्ज किया गया है। हालांकि फिर भी पिछले साल मई की तुलना में पेट्रोल और डीजल व जेट फ्यूल की मांग में 38.9 फीसदी कम रही।

यह भी पढ़ें: सोनू का जबरा फैन: बनाई ऐसी तस्वीर, अब तेजी से हो रही वायरल

महानगरों में कितना है पेट्रोल व डीजल का दाम?

दिल्ली- पेट्रोल 71.86 रुपये, डीजल 69.99 रुपये (प्रति लीटर)

गुरुग्राम- पेट्रोल 71.68 रुपये, डीजल 63.65 रुपये (प्रति लीटर)

मुंबई- पेट्रोल 78.91 रुपये, डीजल 68.79 रुपये (प्रति लीटर)

चेन्‍नई- पेट्रोल 76.07 रुपये,  68.74 रुपये (प्रति लीटर)

यह भी पढ़ें: शव से ऐसी बदसलूकी: लोग रह गए हैरान, कोरोना से हुई थी मौत

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।