RILAGM: रिलायंस को मिला इतिहास का सबसे बड़ा निवेश, अब 75 बिलियन खर्च

वैसे रिलायंस की एनुअल जनरल मीटिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी का साथ देने उनकी पत्नी नीता अंबानी तो मौजूद थीं। साथ में, अंबानी का हौसला बढ़ाने के लिए एनुअल जनरल मीटिंग में उनकी मां कोकिलाबेन अंबानी भी शामिल हुईं।

RILAGM: रिलायंस को मिला इतिहास का सबसे बड़ा निवेश, अब 75 बिलियन खर्च

RILAGM: रिलायंस को मिला इतिहास का सबसे बड़ा निवेश, अब 75 बिलियन खर्च

नई दिल्ली: मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्‍ट्रीज (RIL) को अब तक का सबसे बड़ा निवेश मिला है। सऊदी अरब की कंपनी ‘सऊदी अरेमेको’ रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के ऑयल और केमिकल डिविजन में 20 फीसदी का निवेश करने वाली है।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में अमन की ईद, सुरक्षाबलों से गले मिल खिलाई गई मिठाई

रिलायंस की एनुअल जनरल मीटिंग को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि विदेशी निवेश के मामले में कंपनी ने नया मुकाम हासिल कर लिया है। रिलायंस का सऊदी अरेमेको संग करार हो गया है, जिसके बाद वह 75 बिलियन डॉलर खर्च करेगी।

5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्‍य पर जताया भरोसा

मुकेश अंबानी ने अब मोदी सरकार के 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्‍य पर भरोसा जताते हुए कहा कि भले ही इस वक़्त भारत की इकोनॉमी थोड़ी सुस्त पड़ी हो लेकिन यह सब ज्यादा समय तक नहीं चलेगा। अंबानी ने इस दौरान ये भी कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन डॉलर तक जरूर पहुंचेगी।

यह भी पढ़ें: जो कुकिंग ऑयल खाने के लिए है नुकसानदेय, वो है गाड़ियों के इंजन के लिए है फायदेमंद

इस दौरान मुकेश अंबानी ने कंपनी के अलग-अलग सेग्‍मेंट ग्रोथ की जानकारी दी। उन्‍होंने बताया कि ऑयल एंड गैस के अलावा जियो और रिटेल ग्रोथ के प्रमुख इंजन हैं। रिलायंस के रिटेल बिजनेस और जियो ने आलोचकों को गलत साबित किया। ये दोनों अपने- अपने सेग्मेंट में टॉप 10 कंपनियों में शामिल हैं।

कोई नई रिफाइनरी लगाने की योजना नहीं

रिलायंस की योजना विशेष आर्थिक क्षेत्र (सेज) स्थित केवल निर्यात रिफाइनरी की रिफाइनिंग क्षमता को मौजूदा 3.52 करोड़ टन से बढ़ाकर 4.1 करोड़ करोड़ टन करने की है। उसकी देश में कोई नई रिफाइनरी लगाने की योजना नहीं है।

यह भी पढ़ें: जम्म-कश्मीर को किया काला, अब बुरा फंसी विवादित एक्ट्रेस सोशल मीडिया पर

बता दें कि रिलायंस गुजरात के जामनगर में दो रिफाइनरियों का परिचालन करती है, जिनकी कुल क्षमता 6।82 करोड़ टन सालाना की है। फिलहाल कंपनी का ध्यान वर्तमान में अपने पेट्रोरसायन और दूरसंचार कारोबार का विस्तार करने पर है।

कोई नई रिफाइनरी लगाने की रिलायंस

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज कस्‍टम और एक्‍साइज ड्यूटी देने वाली प्राइवेट सेक्‍टर की सबसे बड़ी कंपनी है। कंपनी ने इसके लिए 26 हजार 379 करोड़ रुपये चुकाए हैं।

यह भी पढ़ें: एक तरफ अजान की गूंज तो दूसरी तरफ भोले बाबा के भक्तों का हुजूम, देखें काशी का नजारा

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने 67 हजार 320 करोड़ रुपये जीएसटी पर खर्च करने पड़े हैं। इसी तरह इनकम टैक्‍स की बात करें तो कंपनी ने 12 हजार 191 करोड़ रुपये दिए हैं।

5.7 लाख करोड़ का मिला रेवेन्‍यू

रिलायंस के ऑयल टू केमिकल बिजनेस की बात करें तो 5.7 लाख करोड़ का रेवेन्‍यू मिला है। वहीं कंपनी ने 2.2 लाख करोड़ का एक्‍सपोर्ट किया है।

यह भी पढ़ें: चमोली: बादल फटने से मचा कहर, रोंगटे खड़े कर देगा ये दृश्य

एजीएम को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने पीएम मोदी का धन्‍यवाद किया। उन्‍होंने कहा, ”मैं पीएम मोदी को धन्‍यवाद कहना चाहता हूं कि वह अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान अल साउद के साथ मिलकर ऑयल और गैस सेग्‍मेंट में नए विजन पर काम कर रहे हैं।

एजीएम में शामिल हुआ पूरा परिवार

वैसे रिलायंस की एनुअल जनरल मीटिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी का साथ देने उनकी पत्नी नीता अंबानी तो मौजूद थीं। साथ में, अंबानी का हौसला बढ़ाने के लिए एनुअल जनरल मीटिंग में उनकी मां कोकिलाबेन अंबानी भी शामिल हुईं। यही नहीं, मीटिंग के दौरान ईशा अंबानी, आकाश अंबानी और श्लोका मेहता को भी देखा गया।