बिहार STET: रद्द परीक्षा पर गाइडलाइन जारी, अब नहीं करना होगा ये काम

 बिहार  एसटीईटी (STET ) 2020 की परीक्षा के दौरान अनियमितताओं और पेपर लीक के विभिन्न मामलों की जांच के बाद परीक्षा को रद्द कर दिया था। बीएसईबी ने शिक्षा विभाग से बीएसटीईटी परीक्षा फिर से आयोजित करने का भी अनुरोध किया है। नियत समय में तिथियों को अधिसूचित किया जाएगा।

Published by suman Published: May 18, 2020 | 11:32 am

पटना :  बिहार  एसटीईटी (STET ) 2020 की परीक्षा के दौरान अनियमितताओं और पेपर लीक के विभिन्न मामलों की जांच के बाद परीक्षा को रद्द कर दिया था। बीएसईबी ने शिक्षा विभाग से बीएसटीईटी परीक्षा फिर से आयोजित करने का भी अनुरोध किया है। नियत समय में तिथियों को अधिसूचित किया जाएगा। परीक्षा रद्द करने के साथ ही बोर्ड ने बिहार सरकार के शिक्षा विभाग को फिर से परीक्षा आयोजित करने की अनुशंसा भी भेजी है। बोर्ड ने कहा है कि एसटीईटी  की पुनर्परीक्षा के लिए तिथि निर्धारित होते ही परीक्षार्थियों को जानकारी दी जाएगी।

यह पढ़ें…जन्मदिन विशेष: जब सिर्फ 46 सीटों के बावजूद एचडी देवगौड़ा बन गए प्रधानमंत्री

 

एसटीईटी 2019 राज्य भर में 28 जनवरी को 317 केंद्रों पर ली गयी थी। दो पाली में हुई परीक्षा में दो लाख 47 हजार 241 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। जांच कमिटी ने अपनी रिपोर्ट में परीक्षा रद्द करने की अनुशंसा की थी। साथ ही इस परीक्षा के दोबारा आयोजन कराए जाने की भी सिफारिश की गई है। इसके लिए बिहार शिक्षा विभाग के पास अनुशंसा भेजी जा चुकी है। इस संबंध में बिहार बोर्ड ने नोटिस जारी कर पूरी सूचना दी है

परीक्षा रद्द किए जाने के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने यह घोषणा की है। परीक्षा समिति ने कहा कि वर्ष 2019 की परीक्षा में शामिल होने के लिए किसी भी परीक्षार्थी (जिसने पूर्व में फॉर्म भरा था) को फिर से इस परीक्षा का न तो फॉर्म भरना होगा और न ही इस परीक्षा के लिए उनसे कोई शुल्क ली जाएगा।  इसके साथ ही बोर्ड ने साफ कर दिया है कि पुनर्परीक्षा के लिए किसी भी अभ्यर्थी को अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी।

 

यह पढ़ें…CBSE Datesheet 2020: आज जारी होगी 10वीं 12वीं की परीक्षा की डेटशीट, ऐसे करें चेक

 

बता दें जनवरी महीने में हुई बिहार की शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी एसआईटी को जांच कमेटी द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर रद्द कर दिया गया था, यह परीक्षा राज्य के 317 केंद्रों पर आयोजित की गई थी। परीक्षा के दौरान राज्य के कई केंद्रों पर काफी हंगामा हुआ था।कई परीक्षार्थियों ने प्रश्नों के कोर्स से बाहर से पूछे जाने का आरोप लगाया था।  बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर के मुताबिक रद्द की गई इस परीक्षा में दोबारा शामिल होने के लिए परीक्षा फॉर्म भरे हुए अभ्यर्थियों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन लगा हुआ है। बिहार में भी बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर एहतिहात के तौर पर सभी कार्य ठप पड़े हैं। इसके अलावा अक्टूबर में बिहार विधानसभा का चुनाव भी है। ऐसे में बिहार एसटीईटी 2020 की पुन: परीक्षा जल्द हो पाना संभव नहीं हैं। लेकिन ऐसी भी संभावना जताई जा रही है कि बिहार एसटीईटी (STET ) 2020 की परीक्षा के लिए नोटिफिकेशन नियत समय में जारी हो सकती है।