फिर दांव पर लगा लाखों परीक्षार्थियों का भविष्य, UPPSC की नई परीक्षाएं स्थगित

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की आगामी परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं और पहले से चल रही परीक्षाओं के परिणाम को लेकर भी संशय है। लाखों परीक्षार्थियों का भविष्य दांव पर लगा है।

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की आगामी परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं और पहले से चल रही परीक्षाओं के परिणाम को लेकर भी संशय है। लाखों परीक्षार्थियों का भविष्य दांव पर लगा है। आयोग फिर पुराने ढर्रे पर लौटता नजर आ रहा है और ऐसे में परीक्षाओं के सत्र कई साल पीछे जा सकते हैं।

यह भी देखें… 50 से ज्यादा महिलाओं का यौन शोषण करने वाला हुआ गिरफ्तार

आयोग ने जुलाई से दिसंबर तक के अर्धवार्षिक कैलेंडर को स्थगित कर दिया है। इस कैलेंडर की परीक्षा अब अगले साल ही आयोजित की जा सकेंगी, लेकिन आयोग के लिए इससे बड़ी चुनौती पिछली परीक्षाओं का परिणाम जारी करना है। अभ्यर्थियों ने पिछले साल 29 जुलाई को एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा दी थी। एक साल पूरे होने वाले हैं और अब तक प्रमुख विषयों के परिणाम भी घोषित नहीं किए गए हैं। एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती का पेपर आउट होने का मामला सामने आने और परीक्षा नियंत्रक की गिरफ्तारी के कारण परीक्षा में शामिल हुए चार लाख अभ्यर्थी उहापोह की स्थिति में है। एलटी ग्रेड शिक्षकों के 10768 पदों पर भर्ती पूरी होगी या नहीं, इस पर भी अब असमंजस की स्थिति है।

जेई के 3222 पदों परिणाम फंसा: सम्मिलित राज्य अभियंत्रण सेवा परीक्षा-2013 के तहत अवर अभियंता (जेई) के 3222 पदों का परिणाम फंसा हुआ है। परीक्षा छह साल पुरानी है। इसके साथ एई के पदों पर भर्ती के लिए भी परीक्षा हुई थी, जिसका अंतिम चयन परिणाम घोषित हो चुका है, लेकिन परीक्षा नियंत्रक की गिरफ्तारी के बाद अब जेई के परिणाम को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है।

आयोग कोर्ट में हलफनामा दे चुका है कि पीसीएस जे के 610 पदों के लिए अंतिम चयन प्रक्रिया मई तक पूरी कर ली जाएगी। जून का महीना शुरू हो गया है और आयोग अब तक मुख्य परीक्षा का परिणाम भी घोषित नहीं कर सका है। परिणाम कब जारी होगा, इस पर आयोग के अफसर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। सिर्फ यही बताया जा रहा है कि कॉपियां जांचने का काम चल रहा है।

यह भी देखें… जानिए कौन हैं दिव्या स्पंदना, क्यों डिलीट किया अपना ट्विटर अकाउंट

पीसीएस-2017 की मुख्य परीक्षा पिछले साल दिसंबर में हुई थी। इसके तहत पीसीएस के 677 पदों पर भर्ती होनी है, लेकिन अब तक लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं हुआ है। मुख्य परीक्षा के दौरान गलत पेपर बंट जाने के कारण दो पेपरों की परीक्षा निरस्त कर दोबारा कराई गई थी। एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती पेपर लीक मामला सामने आने के बाद यह परीक्षा भी जांच के दायरे में आ गई है। परीक्षा परिणाम को लेकर उहापोह की स्थिति बनी हुई है।

समीक्षा अधिकारी (आरओ)/सहायक समीक्षा अधिकारी (एआरओ) परीक्षा-2017 के तहत 809 पदों पर भर्ती होनी है। मुख्य परीक्षा इस साल फरवरी में हो चुकी है। अभ्यर्थियों को इस परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार है लेकिन आयोग में पेपर लीक का विवाद होने के कारण अब इस परीक्षा का परिणाम भी अधर में लटक गया है।

समीक्षा अधिकारी (आरओ)/सहायक समीक्षा अधिकारी (एआरओ) परीक्षा-2017 के तहत 809 पदों पर भर्ती होनी है। मुख्य परीक्षा इस साल फरवरी में हो चुकी है। अभ्यर्थियों को इस परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार है लेकिन आयोग में पेपर लीक का विवाद होने के कारण अब इस परीक्षा का परिणाम भी अधर में लटक गया है।

आरओ/एआरओ परीक्षा-2016 का रिजल्ट भी लंबे समय से विवादों में फंसा है। 640 पदों पर भर्ती के लिए हुई प्रारंभिक परीक्षा में पेपर व्हाट्स एप पर वायरल हो जाने की सीबीसीआईडी जांच कर रही थी।

यह भी देखें… जाह्नवी के शॉर्ट्स पर कैटरीना कैफ ने किया ये अजीबोगरीब कमेंट

हालांकि कुछ दिनों पहले सीबीसीआई अपनी रिपोर्ट में कहा चुकी है कि उसे पेपर लीक के कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं। ऐसे में आयोग के सामने रिजल्ट जारी करने का रास्ता साफ हो गया था लेकिन इस बीच एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती का पेपर लीक मामला सामने आने से अब इस परीक्षा का रिजल्ट भी फंस गया है।