PCS Mains-2018 की परीक्षा स्थगित कराने को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर

पीसीएस मेंस 2018 में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को एक विषय छोड़ना है। पिछली परीक्षा के अंकपत्र दिखाए जाने पर अभ्यर्थियों को सही विषय का चयन करने में आसानी होगी।

प्रयागराज: प्रतियोगी छात्रों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करके पीसीएस मेंस 2018 स्थगित करने की मांग की गई है। कहा गया है कि यह परीक्षा पीसीएस मेंस 2017 का परिणाम घोषित कर अंकपत्र दिखाने के बाद ही ली जाए।

क्योंकि दो की जगह एक वैकल्पिक विषय का चुनाव करना है। पिछली परीक्षाओं के अंकों की जानकारी मिलने पर अभ्यर्थियों के लिए एक वैकल्पिक विषय का चयन करने में आसानी होगी। याचिका पर ग्रीष्मावकाश के पूर्व सुनावई होने की संभावना है।

ये भी पढ़ें— प्रदेश में तबादलों का काम शुरू, मुख्यमंत्री ने जारी किया फरमान

अभिषेक त्रिपाठी व अन्य की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है कि पीसीएस मेंस 2018 17 जून को प्रस्तावित है। इस बार परीक्षा में दो की जगह एक वैकल्पिक विषय चुनना है जबकि इससे पहले दो वैकल्पिक विषयों का चयन करना पड़ता था। लोक सेवा आयोग ने पीसीएस 2017 का परिणाम नहीं घोषित किया है, जिसमें अभ्यर्थियों ने दो वैकल्पिक विषयों की परीक्षा दी थी।

पीसीएस मेंस 2018 में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को एक विषय छोड़ना है। पिछली परीक्षा के अंकपत्र दिखाए जाने पर अभ्यर्थियों को सही विषय का चयन करने में आसानी होगी।

ये भी पढ़ें— यूपी पुलिस में इन पदों पर चयनित अभ्यर्थियों को मिलेगा नियुक्ति पत्र

अभ्यर्थियों का यह भी कहना है कि अब तक पीसीएस मेंस 2016 के अंकपत्र भी नहीं दिखाए गए हैं। याचिका में पीसीएस मेंस 2018 स्थगित करने के लिए अंतरिम आदेश करने और यह परीक्षा पीसीएस 2017 का परिणाम घोषित होने के बाद ही कराने का आदेश करने की मांग की गई है।