दसवीं के छात्र ध्यान दें, इस तारीख से होंगे बचे हुए पेपर्स, दो दिनों का मिलेगा गैप

तेलंगाना हाईकोर्ट के आदेश के बाद इस राज्य में भी दसवीं के एग्जाम आयोजित करने के लिए शेड्यूल जारी कर दिया गया है। दसवीं क्लास की परीक्षाएं 8 जून से शुरू होंगी और 5 जुलाई को खत्म होंगी।

Published by Aditya Mishra Published: May 23, 2020 | 12:25 pm
Modified: May 23, 2020 | 12:36 pm

नई दिल्ली: तेलंगाना हाईकोर्ट के आदेश के बाद इस राज्य में भी दसवीं के एग्जाम आयोजित करने के लिए शेड्यूल जारी कर दिया गया है। दसवीं क्लास की परीक्षाएं 8 जून से शुरू होंगी और 5 जुलाई को खत्म होंगी। पेपर सुबह 9:30 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक आयोजित किया जाएगा।

बता दें कि मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बीते दिनों ही सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं के बचे हुए पेपर आयोजित करने के लिए तारीखों का एलान किया था।

कोरोना के खतरे को देखते हुए सभी परीक्षा केन्द्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का पालन करने के लिए 2005 एग्जाम सेंटर बनाए जाएंगे। ये सेंटर पहले स्थापित किए गए 2530 सेंटर्स से अलग होंगे। शिक्षा मंत्री पी. सबिता इंदिरा रेड्डी ने बताया कि तेलंगाना हाईकोर्ट के सुझाव के तहत हर पेपर के बीच में दो दिन का गैप रखा गया है।

यूपी बोर्ड परीक्षा की कॉपियों का मूल्यांकन शुरू, ऑरेंज जोन में शिक्षक ऐसे कर रहे काम

 गृह मंत्रालय ने परीक्षा कराने के लिए नियमों दी छूट

गृह मंत्रालय ने कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए लॉकडाउन के नियमों में छूट दी है। अमित शाह ने ट्वीट किया, “बड़ी संख्या में छात्रों के शैक्षणिक हितों को ध्यान में रखते हुए, सामाजिक दूरी अपनाने, फेस मास्क पहनने आदि जैसी शर्तों के साथ कक्षा 10 वीं और 12 वीं के लिए बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए लॉकडाउन उपायों से छूट देने का निर्णय लिया गया है।”

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को लिखे अपने पत्र में, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि  बोर्ड परीक्षाओं के संचालन के लिए राज्य सरकारों और सीबीएसई से अनुरोध प्राप्त हुए हैं और गृह मंत्रालय में मामले की जांच की गई है।

2022 की यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए 1011 स्कूलों को मिली मान्यता

उन्होंने आगे कहा, “बड़ी संख्या में छात्रों के शैक्षणिक हित को ध्यान में रखते हुए, कक्षा 10 और 12 के लिए बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए लॉकडाउन के उपायों से छूट देने का निर्णय लिया गया है।”

हालांकि किसी भी परीक्षा केंद्र को कंटेनमेंट जोन में अनुमति नहीं दी जाएगी। शिक्षकों, कर्मचारियों और छात्रों को अनिवार्य रूप से फेस मास्क पहनना होगा। इसके अलावा, परीक्षा केंद्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजर की व्यवस्था की जाएगी।

सामाजिक दूरी मानदंडों का पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विभिन्न बोर्डों द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं के मद्देनजर, परीक्षाओं का समय निर्धारित किया जाना चाहिए। छात्रों को परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाने के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा विशेष बसों की व्यवस्था की जा सकती है।

CBSE ने शहीद सैनिकों के बच्चों को बोर्ड परीक्षा में दी बड़ी राहत