Birthday Special: नफरत थी राजकपूर से इन्हें, कुछ ऐसा था 1 रु का ये किस्सा

द मिस्ट्री गर्ल एक्ट्रेस साधना हिंदी सिनेमा की एक जानी पहचानी अभिनेत्री हैं साधना को ‘मेरा साया’, ‘आरजू’, ‘एक फूल दो माली’, ‘लव इन शिमला’, ‘वक्त’ और ‘वो कौन थी’ जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है। साधना सिर्फ 15 साल की उम्र से कॉलेज के ड्रामा में हिस्सा लेने लगी थीं।  

मुंबई: ‘झुमका गिरा रे बरेली के बाज़ार में’ ये मशहूर गाना 60 के दशक की सबसे खूबसूरत और टॉप एक्ट्रेसेज में से एक साधना शिवदसानी के ऊपर ही फिल्माया गया था । साधना को ‘द मिस्ट्री गर्ल’ के नाम से भी जाना जाता हैं । 2 सितंबर 1941 को साधना का जन्म कराची, सिंध में हुआ था ।

ये भी देखें : जानिये सरकार के दबाव के आगे क्यों नतमस्तक हुआ रिजर्व बैंक

आज इस ‘द मिस्ट्री गर्ल’ साधना का जन्मदिन है तो आइये जानें उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें ।

द मिस्ट्री गर्ल एक्ट्रेस साधना हिंदी सिनेमा की एक जानी पहचानी अभिनेत्री हैं साधना को ‘मेरा साया’, ‘आरजू’, ‘एक फूल दो माली’, ‘लव इन शिमला’, ‘वक्त’ और ‘वो कौन थी’ जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है। साधना सिर्फ 15 साल की उम्र से कॉलेज के ड्रामा में हिस्सा लेने लगी थीं।

 

प्रतिभा को छुपाया नहीं जा सकता

उनकी प्रतिभा ज्यादा दिन तक लोगों की नजर से छुप नहीं सकी।  इसी बीच एक प्रोड्यूसर की नजर साधना पर पड़ी और उन्होंने एक रुपये का टोकन मनी देकर साधना को अपनी सिंधी फिल्म अबाना के लिए साइन कर लिया।  फिल्म के प्रमोशन के दौरान उनकी एक तस्वीर मैगजीन में छपी हुई थी। तब उस जमाने के मशहूर प्रोड्यूसर शशिधर मुखर्जी की नजर उनकी तस्वीर पर गई।

प्रोड्यूसर शशिधर मुखर्जी ने साधना को अपने साथ हिमालय एक्टिंग स्कूल ले गए, जहां उन्होंने अपने बेटे के साथ लविंग शिमला में लॉन्च किया। इस फिल्म को आरके नय्यर ने डायरेक्ट किया था ये फिल्म ब्लॉकबस्टर हिट साबित हुई थी। इस फिल्म के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

ये भी देखें : ये टल्ली एक्टर्स: शराब रीकर बीच सड़क पर मचा चुके हैं हंगामा

ऐसे हुई राज कपूर के साथ अनबन

इसके बाद उन्हें एक के बाद एक कई शानदार फिल्में की। साधना पहली बार जब फिल्म 420 के एक गाने के लिए आईं थी, तब उनकी छोटी सी बात पर राज कपूर के साथ अनबन हो गई थी। जिसके बाद वो राज कपूर से नफरत करने लगी थीं।

‘अबाना’ के लिए उन्हें एक रुपए का टोकन बतौर मेहनताना दिया गया

साधना ने 14 साल की उम्र में राज कपूर की फिल्म श्री 420 से बॉलीवुड डेब्यू किया था। इस फिल्म में वे एक गाने में कोरस गर्ल के साथ नजर आई थीं. इस छोटी सी झलक के बाद उन्होंने पहली भारतीय सिंधी फिल्म ‘अबाना’ में काम किया। अबाना के लिए उन्हें एक रुपए का टोकन बतौर मेहनताना दिया गया।

साधना अपने हेयरस्टाइल के लिए भी जानी जाती थीं

कहा जाता है कि सेट पर वो अपने हेयरस्टाइल पर खास ध्यान देती थी, जो कि राजपूर को बिल्कुल पसंद नहीं था। ऐसे में राज कपूर ने सेट पर उनसे गुस्से में कहा कि एक्टिंग छोड़कर उन्हें शादी कर लेनी चाहिए। इस पर साधना काफी गुस्सा हुईं और सेट छोड़कर वहां से चली गईं। हालांकि कुछ समय बाद दोनों ने फिल्म दुल्हा-दुल्हन में एक साथ काम भी किया था।

ये भी देखें : 139 आतंकी ढ़ेर! भारतीय सेना का ऐसा रहा 8 महीना, खो दिये कई जवान

माता-पिता की इकलौती बेटी थी साधना

पाकिस्तान के कराची में जन्मी साधना का परिवार भारत-पाकिस्तान के विभाजन के बाद मुंबई में आ कर बस गया था। साधना अपने माता-पिता की इकलौती बेटी थी, ऐसे में उन्हें बेहद लाड प्यार से पाला गया। साधना का नाम उनके पिता ने अपनी फेवरेट एक्ट्रेस साधना बोस के नाम पर रखा था।

इचक दाना-इचक दाना

साधना को एक्ट्रेस बनना था ऐसे में वो कराची के बाद मुंबई में आ गईं। बेटी के शौक को पूरा करने के लिए उनके पिता ने काफी कोशिश की, जिसके बाद साधना को फिल्म 420 में एक गाने (इचक दाना इचक दाना) में आने का मौका मिला।

साधना चाहती थीं कि जिस तरह लोग उन्हें परदे पर देखते हैं और पसंद करते हैं। वे उसी तरह हमेशा याद की जाती रहें। उन्होंने संघर्ष फिल्म साइन की थी, जिसके बाद उनकी थायराइड की दिक्कत पैदा हो गई थी। इसके बाद वह धीरे-धीरे एक गुमनामी दुनिया में चलती चली गईं।