Top

टेलीकॉम कंपनियों के लिए खुशखबरी, अब सरकार देने जा रही ये फायदे

टेलीकॉम कंपनियों द्वारा AGR को बड़ी राहत मिल सकती है। मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार AGR पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से प्रभावित टेलीकॉम कंपनियों के लिए बेलआउट पैकेज देने की तैयारी कर रही है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 25 Feb 2020 10:56 AM GMT

टेलीकॉम कंपनियों के लिए खुशखबरी, अब सरकार देने जा रही ये फायदे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: टेलीकॉम कंपनियों द्वारा AGR को बड़ी राहत मिल सकती है। मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार AGR पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से प्रभावित टेलीकॉम कंपनियों के लिए बेलआउट पैकेज देने की तैयारी कर रही है। वोडाफोन आइडिया, एयरटेल समेत कई कंपनियों को सरकार के इस कदम से राहत मिलेगी। आपको बता दें कि इस महीने सुप्रीम कोर्ट ने टेलीकॉम कंपनियों से स्पेक्ट्रम शुल्क और एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) के मद का 1।47 लाख करोड़ रुपये का साविधिक बकाया 17 मार्च तक जमा करने को कहा है। इतनी बड़ी राशि के बकाये के भुगतान का कंपनियों की वित्तीय स्थिति पर फर्क पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें:तो इतने मंहगे कपड़े और जूते पहनते हैं ट्रंप, यहाँ जानिये कीमत

SC के फैसले के बाद एयरटेल ने 10,000 करोड़ रुपये जबकि वोडाफोन-आइडिया ने अभी तक 3,500 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। वहीं, टाटा टेलीसर्विसेज ने सोमवार को 2,197 करोड़ रुपये का भुगतान किया।

टेलीकॉम कंपनियों के लिए बेलआउट पैकेज़ देने की तैयारी

मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार टेलीकॉम कंपनियों को बेलआउट पैकेज देने की तैयारी कर रही है। सचिवों की कमेटी इस हफ्ते बैठक करेगी। AGR फैसले से प्रभावित कंपनियों को राहत मिलने की उम्मीद है। सरकार राहत के 3-4 विकल्पों पर विचार कर रही है। कंपनियों को USoF से सस्ता कर्ज मिल सकता है।

AGR मामले में टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन-आइडिया और भारती एयरटेल ने सरकार से बेलआउट पैकेज की मांग की थी। इसके साथ टेलीकॉम कंपनियों ने AGR बकाये के भुगतान को लेकर और टाइम मांगा था।

ये भी पढ़ें:दूसरे ‘अभिनंदन’ हुए शहीद: दिल्ली हिंसा में उपद्रवियों ने ले ली जान

किन कंपनियों पर कितना बकाया

दूरसंचार विभाग के आंकड़ों के मुताबिक एयरटेल पर लाइसेंस फीस और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के तौर पर करीब 35,586 करोड़ रुपये का बकाया है। वोडाफोन-आइडिया पर 53,000 करोड़ रुपये का बचा है। इसमें 24,729 करोड़ रुपये स्पेक्टूम बकाया और 28,309 करोड़ रुपये लाइसेंस फीस बचा है। टाटा टेलीसविर्सिज पर 13,800 करोड़ रुपये और BSNL पर 4,989 करोड़ रुपये तथा MTNL पर 3,122 करोड़ रुपये का बकाया है।

ये भी पढ़ें:नहीं रुक रही बाल मजदूरी: मनरेगा के तहत बच्चों से कराया जा रहा काम

टेलीकॉम सेक्टर को कोई खत्म नहीं करना चाहता

SBI के चेयरमैन रजनीश कुमार ने सोमवार को कहा कि टेलीकॉम सेक्टर को कोई खत्म नहीं करना चाहता। देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक ने यह बात ऐसे समय कही है जबकि पहले से भारी कर्ज में दबी टेलीकॉम कंपनियों पर सुप्रीम कोर्ट के हाल के निर्णय के बाद 1.47 लाख करोड़ रुपये के साविधिक बकाये के भुगतान का दबाव भी आ गया है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story