Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

Google ने इस ऐप को हटाया, चला रहा था भारत विरोधी अभियान

गूगल ने प्ले स्टोर से एक एप को हटा दिया है। गूगल ने इस एप को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की मांग पर हटाया है। यह अलगाववादी और भारत विरोधी अभियान चला रहा था। गूगल ने जिस एप को हटाया है उसका नाम '2020 सिख रिफरेंडम' है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 19 Nov 2019 4:03 PM GMT

Google ने इस ऐप को हटाया, चला रहा था भारत विरोधी अभियान
X
Google ने दिया बड़ा झटका, जल्द ही बंद हो जाएगी ये सर्विस
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: गूगल ने प्ले स्टोर से एक एप को हटा दिया है। गूगल ने इस एप को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की मांग पर हटाया है। यह अलगाववादी और भारत विरोधी अभियान चला रहा था। गूगल ने जिस एप को हटाया है उसका नाम '2020 सिख रिफरेंडम' है।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के कार्यालय के प्रवक्ता ने मंगलवार को यह जानकारी दी। प्रवक्ता ने बताया कि भारत में मोबाइल उपभोक्ताओं के लिए गूगल प्ले स्टोर पर अब यह मोबाइल एप मौजूद नहीं है।

यह भी पढ़ें...दिल्‍ली-एनसीआर समेत इन राज्यों में लगे भूकंप के झटके, ऐसे करें बचाव

मुख्यमंत्री ने इस संबंध में केंद्र सरकार से भी गूगल पर दबाव बनाने की अपील की थी। इसके अलावा उन्होंने 'आईसटैक' द्वारा बनाई गई एप को लांच करने से पैदा होने वाले खतरे से निपटने के लिए राज्य के डीजीपी को भी केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ तालमेल करने के लिए कहा था।

इस एप के जरिए आम लोगों को 'पंजाब रिफरेंडम 2020 खालिस्तान' के लिए वोट करने और ऐप के साथ खुद को रजिस्टर करने के लिए कहा गया था। इसी तर्ज पर ही www.yes2khalistan.org के नाम से एक वेबसाइट की गई थी।

यह भी पढ़ें...संसद में प्रदूषण पर चर्चा: गंभीर बोले- वायू प्रदूषण से हर 3 मिनट में 1 बच्चे की मौत

डीआईटीएसी लैब पंजाब में इस एप और वेबसाइट की जांच-पड़ताल के दौरान पाया कि इस एप के जरिए रजिस्टर्ड होने वाले वोटरों का डाटा www.yes2khalistan.org वेबसाइट के सर्वर के साथ जुड़कर स्टोर हो जाता है। इस वेबसाइट को 'सिखज फॉर जस्टिस' ने बनाया है और इसके द्वारा ही इसे चलाया जाता है जबकि इस संगठन पर भारत सरकार ने पाबंदी लगाई हुई है।

यह भी पढ़ें...मुकेश अंबानी की कंपनी ने RIL मचाया धमाला, इस मामले में बनी देश की पहली कंपनी

गूगल के लीगल सेल को भेजा था नोटिस

पंजाब के साइबर क्राइम सेंटर के जांच ब्यूरो ने गूगल प्ले स्टोर से इस एप को हटाने और भारत में वेबसाइट को ब्लॉक करने के लिए जरूरी कदम उठाए। आठ नवंबर को गूगल प्ले स्टोर से यह मोबाइल एप तत्काल तौर पर हटाने के लिए गूगल लीगल सेल को सूचना प्रौद्यौगिकी अधिनियम की धारा 79 (3) बी के अंतर्गत नोटिस भेजा गया।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story