हर बात पर रोते हैं आप तो जान लीजिए इसका फायदा है या नुकसान

अक्सर आप बात बात पर लोगों रोते देखते होंगे। अगर लड़का रोएं, तो कहते है कि पागल है, क्योंकि लड़के कभी रोते नहीं है। वहीं लड़कियों के रोने पर उन्हें चुप कराया जाता है। इमोशनल कहा जाता है। यहां तक की उनका नाम ‘क्राई बेबी’ रख देते है। माना जाता है कि जो लोग रोते है वह दिल से कमजोर होते है। समाज उसे कमजोर मानता है, लेकिन यह बिल्कुल गलत है। हर बात पर रोते है तो ये गुण है।

Published by suman Published: June 17, 2020 | 8:42 am

जयपुर: अक्सर आप बात बात पर लोगों रोते देखते होंगे। अगर लड़का रोएं, तो कहते है कि पागल है, क्योंकि लड़के कभी रोते नहीं है। वहीं लड़कियों के रोने पर उन्हें चुप कराया जाता है। इमोशनल कहा जाता है। यहां तक की उनका नाम ‘क्राई बेबी’ रख देते है। माना जाता है कि जो लोग रोते है वह दिल से कमजोर होते है। समाज उसे कमजोर मानता है, लेकिन यह बिल्कुल गलत है। हर बात पर रोते है तो ये गुण है।

 

यह पढ़ें…अभी से हो जाइए सतर्क, कुछ दिन बाद लगेगा सूर्य ग्रहण, भूलकर भी न करें ये सारे काम

क्योंकि आज के समय में अच्‍छी सेहत हर कोई चाहता है। सभी अपनी सेहत को बेहतरीन रखने की कोशिश करते हैं। ऐसे में अच्छी सेहत के लिए अक्‍सर हंसने की सलाह दी जाती है। लेकिन यह सच भी है कि रोने से भी बड़ा लाभ होता है। जानते हैं रोने के फायदे….

*जो लोग रोते है, वो औरों से भावनात्मक रुप से अच्छे होते है। साथ ही जो लोग रोते हैं उनके स्वभाव बेमिसाल होता है। अगर  बात-बात रोने की आदत है तो शर्माने की जरुरत नहीं। यह एक अच्छा गुण है। जो लोग रोते है कैसा होता है उनके गुण।

*जो लोग रोते हैं उन्हें कभी भी कमजोर न समझें, ये लोग यह नहीं सोचते हैं कि दूसरे के सामने रोने से वो लोग क्या कहेंगे। न ही वह खुद को कमजोर मानते हैं। उनके रोने को लेकर लोग क्या कहेंगे इसके बारें में कोई परवाह नहीं है। जो कि एक अच्छी आदत है।

आप सभी ने देखा ही होगा कई बार रोने के बाद मन हल्‍का हो जाता है और अच्छा लगने लगता है। इसी के साथ वैज्ञानिकों द्वारा की गई एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि आंसुओं के जरिये मन का बोझ उतर जाता है और व्यक्ति हल्का महसूस करता है।

 

यह पढ़ें…किचेन में रखा चकला-बेलन बना सकता है धनवान, इस दिन खरीदने से बचें आप

*कहते हैं कि रोना तनाव को भगाने का अच्छा तरीका है। अगर तनाव में है और उससे नहीं निकल पाएं, तो अंदर निगेटिव चीजें ज्यादा आने लगती है। जिसके कारण कई बीमारियों की चपेट में आ जाते है। इसलिए बेहतर है कि तनाव से बचने के लिए थोड़ा रो लें। जिससे दिल हल्का हो जाएं।

*जो लोग थोड़ा इमोशनल होते हैं। वह एक अच्छे दोस्त साबित होते है, क्योंकि यह दूसरों की भावनाओं को भी समझते हैं और उनकी कद्र करते है। जिसके कारण यह दूसरें की भावनाओं को आसानी से समझ लेते हैं।

 

*इमोशनल इंटेलिजेंस या इमोशनल कोशेंट जिसे ईक्यू भी कहते हैं। आज के समय में इसे किसी और ही नजरिए से तौला जाने लगा है। माना जाता है कि अगर कोई दुख है, तो साथ देने के लिए रोना पड़ेगा। जो कि एक अच्छा रिस्पॉंस देता है। ऐसे लोग जरुर इसमें खरे उतरते है।

*आंखों को धूल-मिट्टी और प्रदूषण का सामना भी करना पड़ता है। ऐसे में इस वजह से कई हानिकारक तत्व आंखों के पास जमा होने लगते हैं लेकिन जब हम रोते हैं तो आंसुओं के साथ ये तत्व भी बाहर निकल जाते हैं। आंसुओं में लाइसोजाइम एंटी बैक्टेरियल और एंटी वायरल तत्‍व होते हैं।ऐसे में जब आंसू निकलते हैं, तो इनसे आंखें साफ हो जाती हैं।

 

यह पढ़ें…इस शहर में घर में नहीं, पिंजरे में रहते हैं लोग, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

*बता दें कि नहीं रोने से आंखों की मेमब्रेन की चिकनाहट कम होने लगती है और इसका असर हमारी आंखों की रोशनी पर पड़ता है। ऐसे में आंखों से निकलने वाले आंसू इस चिकनाहट को बनाए रखते हैं। इससे आंखों में नमी बनी रहती है।

*हालांकि कई बार बहुत ज्यादा रोना सेहत के लिए बुरा भी हो सकता है। अगर जरा-जरा सी बात पर बार-बार रोना आता है, तो इसका मतलब कुछ गलत है। ऐसे में किसी एक्सपर्ट की जरुर सलाह लें। जिससे कि आगे चलकर कोई समस्या न हो।