×

बच्चों को मिलेगी कोरोना से सुरक्षा, शुरू हुआ वैक्सीन का ट्रायल

दुनियाभर में कोरोना के जो भी टीके तैयार हुए हैं वे 12 साल से कम उम्र के बच्चों को नहीं दिए जा सकते। हालांकि कई कंपनियों ने बच्चों के लिए टीका बनाने की बात कही है। भारत की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन पर काम करने की बात कही है।

Newstrack
Published on: 16 March 2021 4:18 PM GMT
बच्चों को मिलेगी कोरोना से सुरक्षा, शुरू हुआ वैक्सीन का ट्रायल
X
अमेरिका की फार्मा कम्पनी मॉडर्ना ने घोषणा की है कि उसने 6 महीने से 12 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू किया है।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नीलमणि लाल

नई दिल्ली: दुनिया में बच्चों को कोरोना से बचाए रखने की ओर पहला कदम उठा लिया गया है। अमेरिका की फार्मा कम्पनी मॉडर्ना ने घोषणा की है कि उसने 6 महीने से 12 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू किया है।

मॉडर्ना की जो वैक्सीन अभी बाजार में हैं और लोगों को दी जा रही है, वह कम से कम 18 साल की उम्र तक के लोगों के लिए है। मॉडर्ना की वैक्सीन का बच्चों पर ट्रायल अमेरिका और कनाडा में शुरू किया जा रहा है।

संक्रमण का कम खतरा

आमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि वयस्कों की तुलना में बच्चों को कोरोना संक्रमण कम हुआ है और उनकी जान को खतरा भी कुछ हद तक कम है। ज्यादातर संक्रमित बच्चों में हल्के लक्षण होते हैं या फिर लक्षण नहीं होते, लेकिन अगर बच्चे संक्रमित होते हैं तो वायरस को फैलाने में उनकी बड़ी भूमिका हो सकता है क्योंकि बच्चे वयस्कों के ज्यादा करीब रहते हैं। ऐसे में जरूरी है कि बच्चों के लिए भी कोरोना वैक्सीन बने।

ये भी पढ़ें...तेज भूख लगने पर नहीं खाएं ये चीजें, नहीं तो हो सकती है बड़ी समस्या

Moderna

अक्टूबर तक तैयार कर लिया जाएगा टीका

दुनियाभर में कोरोना के जो भी टीके तैयार हुए हैं वे 12 साल से कम उम्र के बच्चों को नहीं दिए जा सकते। हालांकि कई कंपनियों ने बच्चों के लिए टीका बनाने की बात कही है। भारत की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन पर काम करने की बात कही है। कंपनी ने कहा कि इस साल अक्टूबर तक यह टीका तैयार कर लिया जाएगा।

इस बीच मॉडर्ना ने ऐलान किया है कि कोरोना वायरस के दक्षिण अफ्रीकी वैरिएन्ट को निशाना बनाने वाली उसकी नई वैक्सीन टेस्टिंग के लिए तैयार है। वैक्सीन के डोज अमेरिकी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ को जांच के लिए भेज दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें...पुरुषों के लिए बड़े काम का ये चावल, बढ़ाता है फर्टिलिटी पावर, होते हैं कई फायदे

रिसर्च से भी पता चला है कि दक्षिण अफ्रीकी वैरिएन्ट ने वर्तमान वैक्सीन से मिलने वाली सुरक्षा को आंशिक तौर पर कम किया है। हालांकि, शुरुआती परीक्षण में मॉडर्ना की मूल वैक्सीन एमआरएनए-1273 वैरिएन्ट्स के खिलाफ प्रभावी साबित हुई है।

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story