Top

कोरोना बना सिरदर्द- मेंटल हेल्थ को किया चौपट, अब स्वास्थ्य पर नया संकट

कोरोना महामारी से उपजी अनिश्चितता, आर्थिक संकट और दहशत का असर करोड़ों लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। इस महामारी ने करोड़ों लोगों को अलग थलग और बेरोजगार कर दिया है।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 25 March 2021 9:23 AM GMT

कोरोना बना सिरदर्द- मेंटल हेल्थ को किया चौपट, अब स्वास्थ्य पर नया संकट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नीलमणि लाल

लखनऊ। कोरोना के कारण लोगों के मेंटल हेल्थ चौपट हो गयी है और बदतर होती चली जा रही है। कोरोना महामारी से उपजी अनिश्चितता, आर्थिक संकट और दहशत का असर करोड़ों लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। इस महामारी ने करोड़ों लोगों को अलग थलग और बेरोजगार कर दिया है। डॉक्टरों की चेतावनी है कि इस महामारी की वजह से चिंता, डिप्रेशन और आत्महत्या के मामले बढ़ सकते हैं और मानसिक स्वास्थ्य नए संकट का रूप ले सकता है।

डब्लूएचओ ने खास तौर पर दक्षिण पूर्व एशिया के देशों से कहा है कि वे मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या रोकने पर अधिकाधिक ध्यान दें। वैसे पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के कारण लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत खराब असर पड़ रहा है। कोरोना संकट को देखते हुए भारत ने 24 मार्च को देश भर में लॉकडाउन लागू किया जिससे 135 करोड़ लोगों की जिंदगी अचानक एकदम थम गई। काम धंधे बंद हो जाने से बहुत से लोग बेरोजगार हो गए। महामारी से पहले जिन्हें कभी मानसिक समस्याएं नहीं हुई उन्हें भी तनाव और चिंता घेरने लगी।

ये भी पढ़ेँ- हैंड सैनिटाइजर में मिले खतरनाक केमिकल्स, अध्ययन में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

मानसिक स्वास्थ्य पर असर

इंडियन सायकाइट्री सोसाइटी (आईपीएस) के एक सर्वे में पता चला है कि लॉकडाउन लागू होने के बाद से मानसिक बीमारियों के मामले बीस फीसदी बढ़े हैं और हर पांच में से एक भारतीय इनसे प्रभावित है। आईपीएस ने चेतावनी दी है कि भारत में हाल के दिनों में कई कारणों से मानसिक संकट का खतरा पैदा हो रहा है। इनमें रोजी-रोटी छिनना, आर्थिक तंगी बढ़ना, अलग थलग होना और घरेलू हिंसा बढ़ना शामिल हैं। ये कारण किसी व्यक्ति को आत्महत्या के लिए भी उकसा सकते हैं। मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर अब दिखने लगेंगे। यह संकट अब लोगों को प्रभावित कर रहा है।

depress man

युवा सबसे ज्यादा प्रभावित

मानसिक तनाव, चिंता, घबराहट और बेचैनी के सबसे ज्यादा शिकार युवा हो रहे हैं। लखनऊ के फिजीशियन व हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ अतुल खरबन्दा बताते हैं कि बीते एक साल से उनकी क्लीनिक में 50 फीसदी से ज्यादा मामले स्ट्रेस और एंक्जाइटी से पीड़ित युवाओं के आ रहे हैं। सभी पेशेंट्स में में एक जैसे लक्षण दिखते हैं और सब चिंता से ग्रसित हैं। डॉ खरबन्दा का कहना है कि युवाओं में स्ट्रेस और संकट झेलने की क्षमता न होने की वजह से ऐसा हो रहा है। पेरेंट्स अपने बच्चों की परवरिश बहुत अधिक सुरक्षित वातावरण में करते हैं जिस कारण बच्चे किसी भी विपरीत परिस्थिति में बहुत जल्दी स्ट्रेस में आ जाते हैं।

ये भी पढ़ेँ- पूर्व सीएम की बिगड़ी तबीयत: जल्द से जल्द लाया जा रहा एम्स, कोरोना से हुए थे संक्रमित

बच्चों के लिए जोखिम

मनोवैज्ञानिक चेतावनी देते हैं कि महामारी के इस दौर में बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए खासतौर से दिक्कतें हो रही हैं। वे घर में तनाव और कहीं कहीं हिंसा का गवाह भी बन रहे हैं ऐसे में उनके मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है। अगर बड़ों में तनाव और गुस्सा है तो वह बच्चों पर हिंसा के रूप में निकल सकता है। इसलिए यह बड़ी चिंता का कारण है।

corona virus

आईसीएमआर, आयुष मंत्रालय और मौलाना आज़ाद इंस्टीट्यूट और सफदरजंग अस्पताल द्वारा किए गए एक सर्वे से भी ये निकाल कर आया है कि कोरोना वाइरस की दहशत के कारण लोग अत्यधिक चिंता में हैं इस डर को लॉकडाउन के अकेलेपन ने और भी बढ़ा दिया है।

मुश्किलें कम नहीं

एक्स्पर्ट्स कहते हैं कि भारत में मानसिक स्वास्थ्य एक बड़ा संकट बन कर सामने आ रहा है। सबके सामने एक आर्थिक संकट है जिसकी वजह से ज्यादा आत्महत्याएं, शराब की लत और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मामले आने लगे हैं। पिछले वित्तीय संकट में भी ऐसा ही देखा गया था।

ये भी पढ़ेँ- हाईकोर्ट ने कोविड गाइडलाइन के पालन पर उठाए सवाल, लोग क्यों नहीं पहन रहे मास्क

डब्लूएचओ की चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना महामारी के व्यापक स्वरूप को देखते हुये दक्षिण पूर्व एशिया के देशों से कहा है कि वे अपने नागरिकों के मान्सिक स्वास्थ्य और उनमें सुसाइड की प्रवृति को रोकने के लिए उपायों पर तत्काल ध्यान दें। डब्लूएचओ ने अनुसार दुनिया भर में होने वाली आत्महत्याओं में से 39 फीसदी दक्षिण पूर्व एशिया के देशों में होती हैं। स्थिति पहले से ही खराब है और अब महामारी की वजह से इसमें और भी इजाफा होने का अंदेशा है।

corona virus

दिल्ली, मुंबई में बुरी स्थिति

एक स्टडी में पता चला है कि भारत में मानसिक स्वास्थ्य के बारे में डाक्टरों से ऑनलाइन परामर्श के मामले 180 फीसदी बढ़े हैं। सबसे ज्यादा मामले मुंबई (205 फीसदी) में और उसके बाद दिल्ली (180 फीसदी) बढ़े हैं। इसके बाद पुणे, अहमदाबाद, चेन्नई, बंगलुरु, कोलकाता और हैदराबाद का नंबर है। इस लिस्ट में इंदौर और लखनऊ भी हैं। जहां ऑनलाइन परामर्श क्रमशः 141 फीसदी और 135 फीसदी बढ़ा है। उम्र की बात करें तो सबसे ज्यादा मामले 25 से 45 आयु वर्ग के हैं इसके बाद 45 से 60 वर्ष के लोग आते हैं।

Shivani

Shivani

Next Story