रिसर्च में खुलासा, ई-सिगरेट में है ये विटामिन, जिसकी वजह से हो रही है मौत

सिगरेट नहीं, ई-सिगरेट पीने से होने वाली फेफड़े की बीमारियों से अमेरिका में कई लोगों ने दुनिया को अलविदा कह दिया है। वहां के अधिकारियों ने बताया कि सैकड़ों लोग अन्य फेफड़े की बीमारी से जूझ रहे हैं। एक रिसर्च में पता चला है

जयपुर: सिगरेट नहीं, ई-सिगरेट पीने से होने वाली फेफड़े की बीमारियों से अमेरिका में कई लोगों ने दुनिया को अलविदा कह दिया है। वहां के अधिकारियों ने बताया कि सैकड़ों लोग अन्य फेफड़े की बीमारी से जूझ रहे हैं। एक रिसर्च में पता चला है कि इसमें वही विषाक्त रासायनिक पदार्थ होते हैं जो तम्बाकू के धुएं में पाए जाते हैं। इससे फेफड़ों का जीवाणु रोधी रक्षा तंत्र बाधित होता है।

 

यह पढ़े…. STOP: अभी न करिए WhatsApp इस्तेमाल, खराब हो सकता है अपना फोन

 

 

अमेरिका के रिसर्चर ने बताया कि सिगरेट के धुएं में पाए जाने वाले जहरीले एल्डिहाइड की तरह ही ई – सिगरेट में मौजूद रसायनिक पदार्थ सिन्नामेल्डिहाइड का उपयोग सामान्य कोशिका को नुकसान पहुंचाता है। इससे सांस संबंधी बीमारियां विकसित तथा जटिल हो सकती है।अमेरिकी स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों  ने एक खुलासा किया है कि उन्‍होंने विटामिन ई एसिटेट  की पहचान की है, जिसके कारण यह ई सिगरेट (वेपिंग) के जरिये अंदर जाने पर फेफड़े को भारी नुकसान पहुंचा रहा था। अधिकारियों का कहना है कि इस महामारी में इसी विटामिन के शामिल होने की आशंका है। इसमें 39 लोगों की मौत हो गई थी और दो हजार से अधिक लोग इससे बीमार हो गए थे।

 

यह पढ़े…. मंहगा पड़ेगा इंटरनेट! टेलिकॉम विभाग करने जा रहा ये बड़ा काम

 

रिसर्च में बताया गया कि सिन्नामेल्डिहाइड मनुष्य के शरीर में सांस के जरिए सामान्य हवा के श्वसन की क्रिया को बाधित करती है। जिससे यह पता चलता है कि ई – सिगरेट में उपयोग होने वाला एक सामान्य फ्लेवर फेफड़ों के महत्वपूर्ण एंटी – बैक्टीरियल रक्षा तंत्र को नुकसान पहुंचाता है।  अमेरिका में 2006 से ई-सिगरेट उपलब्ध है और कई बार पारंपरिक धूम्रपान छोड़ने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। अमेरिका में 2018 में 36 लाख माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक कक्षा के छात्र ई-सिगरेट का इस्तेमाल करते हैं। सिन्नामेल्डिहाइड एक ऐसा रसायन है जिसमें दालचीनी जैसा स्वाद और गंध होती है। ई – सिगरेट पारंपरिक सिगरेट के मुकाबले सुरक्षित विकल्प के रूप में उभरा है क्योंकि इसमें तम्बाकू के बिना ही धूम्रपान करने जैसा एहसास होता है।

 

यह पढ़े…. दिल्ली में प्रदूषण: लोधी रोड में PM 2.5 का स्तर 230 और PM 10 का स्तर 218 दर्ज

 

रिसर्च के अनुसार  विटामिन ई एसिटेट कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता ह। यह कई सप्‍लीमेंट और स्किन क्रीम जैसे कॉस्‍मेटिक प्रोडक्‍ट में पाया जाता है. लेकिन जब यह शरीर के अंदर जाता है तो फेफड़ों पर बुरा असर डालता है. सीडीसी के मुताबिक अभी इस मामले में और अधिक शोध करने की आवश्‍यकता है। ऐसा भी हो सकता है कि इन मौतों के पीछे एक से अधिक जहरीले तत्‍व हों. स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों के अनुसार इसमें ई सिगरेट और अन्‍य वेपिंग उत्‍पाद भी शामिल हो सकते हैं