कोरोना पर आपके लिए गुड न्यूज, ऐसे नहीं फैलता वायरस लेकिन इनसे बचने में ही है आपकी भलाई

कोरोना का संक्रमण इंसान से इंसान में तभी फैलता है जब कोरोना से प्रभावित कोई व्यक्ति खांस रहा हो, छींक रहा हो या कफ निकाल रहा हो। उस समय उसकी छींक खांसी और कफ के साथ कोरोना के वायरस भी बाहर आते हैं और वह आसपास की चीजों पर गिर जाते हैं, जिसके चलते दूसरे व्यक्ति में इंफेक्शन की आशंका बढ़ जाती है।

लखनऊः जागरूक रहें और सब को जागरुक करते रहें। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोरोना का संक्रमण हवा से नहीं फैलता इस तरह का कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है। इससे पहले एक रिपोर्ट में चीन के अधिकारियों ने कहा था अस्पतालों में गहन चिकित्सा कक्ष आईसीयू में हवा में तैरते कणों के चलते कोरोना फैलने की आशंका बढ़ जाती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह स्पष्ट किया है कोरोना से पीड़ित मरीजों के इलाज में लगे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और उनके परिजनों को मरीजों की खांची और कफ से दूर रहना चाहिए। इससे जितना अधिक दूर रहेंगे उतना ही अधिक बचाव होगा।

इसे भी पढ़ें

मोटे लोगों को कोरोना से ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत, जानिए क्या है इसका कारण

पान, पान मसाला, सिगरेट या खैनी का सेवन करने वालों को जहां तहां थूकने से बचना चाहिए। इनके राह चलते कहीं भी थूकने से कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें

कोरोना संकट: सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, की ये बड़ी मांग

कोरोना का संक्रमण इंसान से इंसान में तभी फैलता है जब कोरोना से प्रभावित कोई व्यक्ति खांस रहा हो, छींक रहा हो या कफ निकाल रहा हो। उस समय उसकी छींक खांसी और कफ के साथ कोरोना के वायरस भी बाहर आते हैं और वह आसपास की चीजों पर गिर जाते हैं, जिसके चलते दूसरे व्यक्ति में इंफेक्शन की आशंका बढ़ जाती है।

चीन का ठीक उलट है दावा

हालांकि चीन के अधिकारियों का यह दावा था कि कोरोना का संक्रमण हवा के चलते भी हो सकता है उनके अनुसार कोरोनावायरस हवा में 8 घंटे तक रह सकता है। ऐसे में किसी क्षेत्र विशेष में जाने वाले व्यक्ति को मास्क पहनना जरूरी हो जाता है।

इसे भी पढ़ें

कोरोना वायरस: चीन ने किया ऐलान, 8 अप्रैल से आवागमन के प्रतिबंध हटेंगे

डब्ल्यूएचओ का कहना है फिलहाल हवा के चलते कोरोना वायरस फैलने के मामले नहीं आए हैं। आंकड़ों के विश्लेषण की जरूरत है। अभी तक कोरोना वायरस का संक्रमण बीमार लोगों के साथ में और संपर्क में आने से ही फैला है। इसीलिए डब्ल्यूएचओ बार बार हाथ धोने और सांस लेने में सावधानी बरतने का सुझाव देता रहता है। कोरोना संक्रामक रोग महामारी प्रमुख का भी कहना है कोरोना का संक्रमण खांसी से ज्यादा फैलता है इसलिए जहां कहीं भी जो कोई भी खांस रहा हो या बलगम निकाल रहा हो उससे दूरी बना कर रखना ही हितकर है। कुल मिलाकर किसी भी अपने खास वायरस वाहक से सतर्क, सचेत रहकर हमें कोरोना का नया वाहक बनने से बचना है।