बहुत कपटी है कोरोना वायरस, सामने आए इतने प्रकार के नए लक्षण

कोरोना वायरस बहुत कपटी है। शरीर में घुसने के बाद ये अलग अलग तरह के लक्षण उत्पन्न करता है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस बहुत कपटी है। शरीर में घुसने के बाद ये अलग अलग तरह के लक्षण उत्पन्न करता है। ज्यादातर मामलों में तो कोई भी लक्षण पैदा नहीं होते। दुनिया भर के विशेषज्ञ यही पता करने की कोशिश में जुटे हैं कि आखिर किन लक्षणों से कोरोना वायरस की पुख्ता पहचान की जाए। अभी तक कोरोना वायरस के जो शुरुआती लक्षण बताए जा रहे थे, उनमें छह नए लक्षण और जोड़ दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें:जम्मू-कश्मीर में चुनाव पर उपराज्यपाल के बयान से EC नाराज, जानें पूरा मामला

छह नए लक्षण

अभी तक विशेषज्ञों का कहना था की सूखी खांसी, तेज बुखार, थकान-कमजोरी और सांस लेने में तकलीफ को कोरोना वायरस का हमला माना जा सकता है।

बाद में एक्सपर्ट्स ने लक्षणों की लिस्ट में सीने में दर्द और खिंचाव, नींद से जागने पर भ्रम की स्थिति, चेहरा या होंठ नीले पड़ने को भी शामिल किया था। अब अमेरिका की स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (सीडीसी) ने छह और लक्षण इसमें जोड़ दिए हैं। सिर दर्द, कंपकंपी लगना या गले में खराश को भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। कंपकंपी के साथ शरीर थरथराने, मांसपेशियों में तनाव, मुंह का स्वाद बिगड़ने या सूंघने की क्षमता कमजोर पड़ने की शिकायत होने पर भी तुरंत चिकित्सकों से संपर्क करना चाहिए। सीडीसी का कहना है कि कुछ संक्रमितों खासकर बच्चों और युवाओं में पैर और पंजे में नीले और बैगनी रंग के छाले भी पड़ सकते हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि कुछ मरीजों में कोरोना के लक्षण तुरंत दिखाई देने लगते हैं जबकि कुछ मरीजों में ये लक्षण कुछ देर से सामने आते हैं। लक्षण दो दिन से लेकर 14 दिनों में दिखाई पड़ सकते हैं। इसका कारण बताते हुए विशेषज्ञों का कहना है कि हर व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता अलग-अलग होती है। यदि किसी व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होती है तो उसमें इस वायरस के लक्षण दिखने में ज्यादा समय लगता है।

कोरोना के लक्षण

स्वाद और गंध की शक्ति पर असर।
हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक।
सूखी खांसी।
तेज बुखार।
थकान-कमजोरी।
सांस लेने में तकलीफ।
मतिभ्रम की स्थिति।
चेहरा या होंठ नीला पड़ना।
सिर दर्द।
कंपकंपी लगना।
मांसपेशियों में तनाव।
पैर और पंजे में नीले और बैगनी रंग के छाले पड़ना।
त्वचा पर चक्कते पड़ना।
खून गाढ़ा होने की समस्या।

ये भी पढ़ें:जानिए कौन हैं ग्रुप कैप्‍टन हरकीरत सिंह, जो होंगे राफेल के पहले कमांडिंग ऑफिसर

बचाव के उपाय

– बाहर जाने पर हर समय मास्क पहनना। मास्क भी कॉटन का तीन लेयर वाला होना चाहिए।
– बार बार साबुन से अच्छी तरह हाथ धोना चाहिए।
– भीड़ भाड़ से दूर रहना चाहिए।
– चेहरे को छूना नहीं चाहिए।
– बाहर जाने के बाद लौटने पर पहने हुए कपड़े तुरंत धो दें।
– बाहर का जूता चप्पल घर के भीतर नहीं लाएं।
– अपनी इम्यूनिटी बढ़ाएं नियमित व्यायाम करें, काढ़ा पिएं, दूध हल्दी पीएं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App