सावधान रहें गले के इंनफेक्शन से, कोरोना और सर्दी से ऐसे करें बचाव

लखनऊ के कान, नाक और गले के स्पेशलिस्ट डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि नाक और गला हमारे शरीर का एंट्री प्वाइंट है। यहीं से इंफेक्शन इंसान के शरीर में प्रवेश करता है, जिसके कारण व्यक्ति को सर्दी, जुकाम, वायरल फीवर, खांसी, पेट में दर्द जैसे बीमारियां जन्म लेती है। वहीं ठंड के शुरूआती दौर में वायु प्रदूषण का भी प्रकोप जारी रहता है।

winter health

सावधान रहें गले के इंनफेक्शन से, कोरोना और सर्दी से ऐसे करें बचाव (photo- social media)

लखनऊ: सर्दी के मौसम की शुरूआत हो चुकी है,ऐसे में खांसी-जुकाम होना लाजमी है। वहीं देश में कोरोना महामारी का भयंकर प्रकोप जारी है। इस बदलते मौसम में अपने स्वास्थ्य को कैस स्वस्थ रखें, यह भी एक बड़ी जिम्मेदारी है। यूं तो सर्दी में गरम कपड़े से हम अपनी रक्षा करते ही है, मगर नाक, कान और गले का भाग अधिकतर समय खुला ही होता है, जिसके वजह से महामारी और सर्दी में इंनफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। तो आइए आज हम आपको बताते है कि इस साल कोरोना महामारी और सर्दी से अपने गले, नाक और कान को इंनफेक्शन से कैसे रक्षा किया जाएं…

ईएनदी स्पेशलिस्ट डॉक्टर ने दी जानकारी

लखनऊ के कान, नाक और गले के स्पेशलिस्ट डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि नाक और गला हमारे शरीर का एंट्री प्वाइंट है। यहीं से इंनफेक्शन इंसान के शरीर में प्रवेश करता है, जिसके कारण व्यक्ति को सर्दी, जुकाम, वायरल फीवर, खांसी, पेट में दर्द जैसे बीमारियां जन्म लेती है। वहीं ठंड के शुरूआती दौर में वायु प्रदूषण का भी प्रकोप जारी रहता है। ऐसे में इंनफेक्शन का खतरा और भी बढ़ जाता है। अगर यह इंनफेक्शन 1-2 दिन में ना खत्म हो, तो व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: क्या है यूवाइटिस: जाने इस बीमारी के लक्षण, ऐसे बच सकते हैं आप इससे

खान-पान के बदलाव से भी होती है बीमारियां- डॉ. पंकज

डॉ. श्रीवास्तव कहना है कि आज कल के बदलते समय के अनुसार, इंसान के खान-पान भी बदलाव आया है। नए लाइफस्टाइल के चलते लोग तंबाकू, पान मसाला, धूम्रपान और एल्कोहल जैसी चीजों का सेवन करने लगें हैस जिसके कारण गले में कैंसर जैसे बड़े रोग जन्म होता है। तंबाकू, पान-मसाला खाने से होने वाले बीमारी को म्यूकस फाइब्रोसिस कहा जाता है। इस बीमारी के होने से इंसान का मुंह खुलना बंद हो जाता है। डॉक्टर ने इस बीमारी के बारे आगे जानकारी देते हुए कहा कि म्यूकस फाइब्रोसिस का अब तक कोई इलाज नहीं है। अगर इस बीमारी का इलाज सर्जिकल ट्रीटमेंट के जरिए किया जाए, तो दिक्कतें बढ़ जाती हैं।

immunity system

यह भी पढ़ें: सर्दी-जुकाम से बचने के लिए सर्दियों में ना खाएं ये 4 चीजें, सेहत के लिए है फायदेमंद

ठंडे पदार्थ के सेवन से बचें- डॉक्टर

डॉक्टर पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि अगर आपको सर्दी, जुकाम, वायरल फीवर जैसी समस्या हो रही है, तो आप घरेलू नुस्खा भी अपना सकते है। सर्दी जुकाम होने पर आपको ठंडे पदार्थ का सेवन करने से बचना चाहिए, जैसे दही, चावल, छाछ, ठंडा पानी, कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम आदि। इस दौरान आप अपने डाइट में सिर्फ खाने की चीज शामिल करें, जो आपके शरीर को ताकत और इम्यूनिटी पावर को बढ़ाए। सर्दी, जुकाम, खांसी होने पर आप च्वनप्राश का इस्तेमाल जरूर करें। यह आपको इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉग रखेगा, साथ ही बीमारियों से लड़ने में सहायता भी करेंगा।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App