अब समझ आया ठंड में ही क्यों खाते हैं ये चीज, धर्म कर्म के साथ खाने में भी है बहुत यूज

सर्दियों में तिल और तिल से बनी गजक, चिक्की और लड्डू खाने का मजा ही अलग होता है। हिन्दू धर्म में जनवरी के महीने में आने वाले ‘मकर संक्राति’ और ‘संकष्टि चतुर्थी’  पर भी खास तौर पर तिल से पूजा की जाती है,साथ ही तिल से बने व्यंजनों को खाना शुभ माना जाता है।

जयपुर: सर्दियों में तिल और तिल से बनी गजक, चिक्की और लड्डू खाने का मजा ही अलग होता है। हिन्दू धर्म में जनवरी के महीने में आने वाले ‘मकर संक्राति’ और ‘संकष्टि चतुर्थी’  पर भी खास तौर पर तिल से पूजा की जाती है,साथ ही तिल से बने व्यंजनों को खाना शुभ माना जाता है। आमतौर पर तिल के साथ गुड़ और चीनी मिलाकर बहुत सारी मीठी चीजें(गजक, चिक्की और लड्डू) बनाई जाती है। तिल के बहुत फायदे होते हैं।

यह पढ़ें…13 को है सकट चौथ, सिर्फ पुत्र के लिए है या पुत्री के लिए भी, जानिए इस व्रत का महत्व

धार्मिक व वैज्ञानिक महत्व

*छोट-छोटे काले-सफेद रंग के तिल में बहुत सारे औषधिय गुण पाए जाते हैं। तिल की तासीर गर्म होती है, जिसकी वजह से इसका सेवन सर्दियों में करना फायदेमंद होता है। तिल के सेवन से जहां शरीर को गर्माहट मिलती है, तो वहीं तिल में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट तत्व कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को रोकने में कारगर साबित होते हैं। तिल में मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड भी होता है जो शरीर से बुरे कोलेस्ट्रोल को कम करता है।

*तिल का इस्तेमाल पूजा-पाठ में भी किया जाता है। शास्त्रों के मुताबिक, भगवान विष्णु की पूजा तिल के अनुपस्थिति में हमेशा अधूरी मानी जाती है। ऐसे में  तिल के फायदे बता रहे हैं, तिल से कई सारी और चीजें भी बनती हैं, जिनमें तिल को सड़ाने से सिरका बनता है, तो वहीं तिल को पीसकर तेल भी निकाला जाता है , जो बेहद उपयोगी होता है।

 

*तिल में कैल्श‍ियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम समेत कई बहुत सारे ऐसे तत्व पाएं जाते हैं, लंबे समय तक तिल का सेवन किया जाए , तो तिल को खाने से शरीर के लिए जरूरी लवण और विटानिम पाए जाते हैं, जो हमारे तनाव को खत्म करने में सहायक होता है। साथ ही बार-बार डिप्रेशन की शिकायत को भी दूर करते हैं तिल।

*तिल में पाएं जाने वाले मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड आपके शरीर के कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल रखने में मदद करता है, जिससे दिल की मजबूत होता है और दिल की मांसपेशियां सक्रिय रूप से काम कर पाती है। तिल त्वचा से जुड़ी परेशानियों में बेहद फायदेमंद होता है। तिल के तेल को लगाने से जहां त्वचा मॉश्चराइज रहती है, तो वहीं तिल के तेल में बने खाने का सेवन करने से शरीर के लिए जरूरी पोषण मिलता है।तिल में प्रोटीन और एमिनो एसिड भरपूर मात्रा में होता है जो बच्चों की हड्डियों के विकास में मदद करता है। इसके अलावा यह मांसपेशियों में आने वाले खिंचाव को भी रोकता है।

 

यह पढ़ें…कल रात मिस कर दिया ‘फुल मून’ नजारा तो ना हो उदास, यहां देख ले तस्वीरें व VIDEO

इसके लिए है रामबाण

*अगर अपच, गैस या कब्ज जैसी पेट की बीमारियों से परेशान रहते हैं, तो ऐसे में तिल का सेवन करना बेहद फायदेमंद रहेगा। इसके लिए रोजाना तिल से बने लड्डूओं को खाएं।सर्दियो में सांस लेने में होने वाली दिक्कत या अस्थमा की परेशानी होने पर भी तिल का सेवन करना लाभकारी होता है।

*कफ को ठीक करने के लिए रोजाना दूध के साथ एक तिल के लड्डू का सेवन करें। बढ़ती उम्र में जोड़ो के दर्द की परेशानी होने लगती है और सर्दियों में ये समस्या बढ़ जाती है। अगर आप इस परेशानी से बचना चाहते है।

*तिल के लड्डुओं को रोज़ाना रात को दूध के साथ खाएं,क्योंकि दूध में मौजूद कैल्शियम और विटामिन डी भी आपकी हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है।थोड़ा सा काम करने,हल्का दौड़ने या फिर सीढ़ियां चढ़ने पर आपकी सांसे फूल जाती हैं, तो ये लड्डू आपके लिए संजीवनी का काम करते हैं।

*ऐसे में शारीरिक कमजोरी को खत्म करने के लिए तिल से बने लड्डू,गजक या तिलकूट का सेवन करना चाहिए। इससे शरीर छोटी-छोटी बीमारियों से बचने के साथ ही आपको एनर्जी मिलेगी।तिल की तासीर गर्म की वजह से तिल के लड्डू शरीर को गर्म रखते हैं,जिससे सर्दी, खांसी और कफ की समस्या में आराम मिलता है।साथ ही जिन लोगों को बहुत ज्यादा ठंड लगती है, उन्हें तिल का सेवन करना बेहद फायदेमंद रहता है।