×

कई बीमारियों के इलाज में कारगर है गेहूं, यहां जानें इसके औषधीय गुणों के बारे में

गेहूं के आटे की रोटी खाने का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है और गेहूं को हम चाह कर भी नजरअंदाज नहीं कर सकते। गेहूं से बनी चीजें बहुत पौष्टिक होती हैं और इसको खाने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी नहीं होती।

Aditya Mishra
Updated on: 15 July 2019 10:30 AM GMT
कई बीमारियों के इलाज में कारगर है गेहूं, यहां जानें इसके औषधीय गुणों के बारे में
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: गेहूं के आटे की रोटी खाने का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है और गेहूं को हम चाह कर भी नजरअंदाज नहीं कर सकते। गेहूं से बनी चीजें बहुत पौष्टिक होती हैं और इसको खाने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी नहीं होती।

एक्सपर्ट के अनुसार गेहूं, मैदे के मुकाबले ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। गेहूं पेट के लिये बहुत हल्का होता है और आसानी से पचाया जा सकता है। आइए जानें, शरीर को और किस तरह से लाभ पहुंचाता है गेहूं।

ये भी पढ़ें...यह सिर्फ सब्जी नहीं,नैचुरल एंटीबायोटिक है,जो हर बीमारी के इलाज में है मददगार

कई गंभीर बीमारियों में भी बेहद कारगर

आपको गेहूं और उसे साथ कुछ चीजें मिला कर खाने के वो अचूक फायदे बताएंगे जो स्वास्थ्य के लिए ही नहीं बल्कि कई गंभीर बीमारियों में भी बेहद कारगर होते हैं।

गेहूं बेहद आसानी से हर जगह मिल जाता है। इसमें मौजूद जिंक प्रोटीन के निर्माण तथा उपज की गुणवत्ता को बनाए रखता है वहीं बोरान कोशिकाओं के विभाजन और वृद्धि के लिए जरूरी है।

इसमें मौजूद आयरन, मैगनीज , मोलिब्डेनम , सल्फर और कॉपर शरीर की कई कमियों को दूर करने के साथ बीमारियों को ठीक करने में भी काम आते हैं।

यहां आपको कई बीमारियों के इलाज के लिए गेहूं के दानों का ही प्रयोग करना होगा। इन दानों को पानी में भिगो कर, उबाल, भून कर कर या पेस्ट बना कर बीमारी के आधार पर प्रयोग करना होगा। इसलिए घर में गेहूं के दानों को रखना शुरू कर दें। तो आइए आज कुछ खास बीमारियो में गेहूं का प्रयोग कैसे करें यह जानें।

ये भी पढ़ें...अगर हाथ धोने में की लापरवाही तो हो सकती है बड़ी बीमारी !

क्यों है गेहूं के जादुई औषधीय गुण

1. यदि आप खांसी और कफ से परेशान हैं तो कम से कम 20 ग्राम गेहूं के दानों को लें और उसे करीब 250 ग्राम पानी में उबाले। उबालने के दौरान इसमें नमक भी मिला लें। जब पानी की मात्रा एक तिहाई हो जाए तो इस पानी को छान कर गरमा-गर्म ही सिप ले कर पीएं। रोज सुबह शाम इसे एक हफ्ते तक पीएं।

2. जिनकी स्मरण शक्ति कमजोर हो या पढ़ने वाले बच्चों को गेहूं से बने हरीरा में बादाम और चीनी मिलाकर रोज खिलाएं। ये याददाश्त बढ़ाने का सबसे बेहतरीन नुस्खा है।

3. कई बार ऐसे कीड़े या मच्छर काट लेते हैं कि खुजली खत्म ही नहीं होती। बरसात में फोड़े-फुंसी भी बहुत होते हैं। तो ऐसे में आप गेहूं के दानों को भिगो कर पीस लें या गेहूं के आटे को गूथ कर प्रभावित जगह पर लगा दें। अगर कोई जहरीला कीड़ा काट ले तो गेहूं के आटे में सिरका मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं। तुरंत आराम मिलेगा।

4. आज कल पथरी की समस्या बहुत आम हो गई है। अगर आप भी पथरी से जूझ रहे तो आप गेहूं और चने के दानों को उबाल कर उसके बचे पानी को पीएं। ऐसा करने से किडनी कि पथरी बाहर आ जाती है।

5. यदि आप फैक्चर के शिकार हो गए हैं तो आप गेहूं के दानों का तवे पर भून कर भूरा कर लें। इसके बाद इसे पीस लें। अब इस चूर्ण में आप शहद मिला कर चाटना शुरू कर दें। कुछ ही दिनों में आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

ये भी पढ़ें...इस कंपनी के बेबी शैम्पू की बिक्री पर रोक का आदेश, मिले इस खतरनाक बीमारी के तत्व

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story