3 साल पहले 28 सितंबर की पूरी रात नहीं सोए थे PM मोदी, जानिए क्यों

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका दौरे भारत लौट आए हैं। वह शनिवार को दिल्ली पहुंचे। पीएम मोदी का दिल्ली पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत दिल्ली के सांसदों ने एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। हजारों समर्थक मौजूद थे।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका दौरे भारत लौट आए हैं। वह शनिवार को दिल्ली पहुंचे। पीएम मोदी का दिल्ली पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत दिल्ली के सांसदों ने एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। हजारों समर्थक मौजूद थे।

एयरपोर्ट के बाहर मौजूद समर्थकों को कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आप सबके माध्यम से पूरे हिंदुस्तान के मेरे प्यारे भाई-बहनों को मैं सिर झुकाकर प्रणाम करता हूं। 130 करोड़ देशवासियों का अभिनंदन करता हूं।

यह भी पढ़ें…अमेरिका से लौटकर बोले पीएम मोदी, दुनिया में बढ़ा भारत का मान

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि आज 28 सितंबर है, तीन साल पहले इसी तारीख को मैं पूरी रात एक पल भी सोया नहीं था। पूरी रात जागता रहा था। हर पल टेलिफोन की घंटी कब बजेगी, इसी के इंतजार में था। वो 28 सितंबर भारत के वीर जवानों के पराक्रम की एक स्वर्णिम गाथा लिखने वाला था।

यह भी पढ़ें…ऐसा क्या कह दिया पाक PM इमरान ने, आरएसएस को देनी पड़ गई बधाई?

बता दें कि भारत ने बदला लेने के लिए 28 सितंबर की रात को पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था। पीएम मोदी इसी का जिक्र कर रहे थे।

गौरतलब है कि 18 सितम्बर 2016 को जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर में एलओसी के पास भारतीय सेना के स्थानीय मुख्यालय पर आतंकियों ने बड़ा हमला किया था। इस आतंकी हमले में 18 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इस आतंकी हमले को भारतीय सेना पर सबसे बड़ा माना गया था। उरी हमले के पीछे सीमा पार बैठे आतंकियों का हाथ था।

यह भी पढ़ें…लता हुईं थी खून से लतपथ, जब इन्होंने मारा था ऐसा जोरदार थप्पड़

इसी हमले का बदला लेने के लिए 28 सितंबर की रात को भारतीय सेना पाकिस्तान की सीमा में घूसकर उसके आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था। भारतीय सेना का यह कदम एक साहसिक कदम था। सबसे बड़ी यह रही है कि सर्जिकल स्ट्राइक में एक भारतीय जवानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा था। पीएम मोदी ने अपने भाषण में इसी का जिक्र किया।