कोरोना से जंग हारी 6 माह की मासूम, 21 अप्रैल को हुई थी संक्रमण की पुष्टि

चंडीगढ़ के पीजीआई में भर्ती 6 महीने की कोरोना पॉजिटिव मासूम की संक्रमण से मौत हो गई। सुबह ही बच्ची के संक्रमित होने की खबर आई थी।

कोरोना वायरस का कहर पूरे देश में लगातार जारी है। आए दिन देश में कोरोना संक्रमितों और मरने वालों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। इसी बीच चंडीगढ़ से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है। जिसे सुन कर किसी के भी आंसू निकल आएंगे। चंडीगढ़ के पीजीआई में भर्ती 6 महीने की कोरोना पॉजिटिव मासूम की संक्रमण से मौत हो गई। सुबह ही बच्ची के संक्रमित होने की खबर आई थी।

21 अप्रैल को हुई थी संक्रमण की जानकारी

गौरतलब है कि आज सुबह ही चंडीगढ़ से पीजीआई अस्पताल में एक 6 महीने की मासूम के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबर सामने आई थी। जिसके बाद पूरे अस्पताल में हड़कंप मच गया था। बच्ची में कोरोना संक्रमण होने का पता 21 अप्रैल को चला था। जिसके बाद बच्ची को तुरंत ही पीजीआई के ही नेहरू हॉस्पिटल एक्सटेंशन में रेफर कर दिया गया है। बच्ची के संक्रमित पता होने के बाद अस्पताल प्रशासन के 54 लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। जिसमें 18 डॉक्टर भी शामिल हैं।

ये भी पढ़ें-   घटेगा रेमिटेंस: भारतीय अपने घर कम भेज पाएंगे पैसे, रिपोर्ट में आई ये बड़ी वजह   

अस्पताल प्रशासन द्वारा बच्ची के संक्रमण में आने वाले सभी लोगों की जांच भी की जा रही है। फिलहाल इस मासूम के दुनिया से ऐसे चले जाने के बाद पूरा परिवार शोकागुल है। इस वायरस की हैवानियत के आगे आखिर 6 माह की मासूम कब तक रुक पाती है। ये मासूम 48 घंटे भी इस जानलेवा वायरस का सामना नहीं कर सकी और जिन्दगी से हार गई। बच्ची में संक्रमण कहा से ओपहुंचा अभी तक इसकी जानकारी नहीं हो पाई है।

ओपन हार्ट सर्जरी के लिए हुई थी भर्ती

बच्ची को चंडीगढ़ के पीजीआई अस्पताल में ओपन हार्ट सर्जरी के लिए 9 अप्रैल को एडमिट कराया गया था। फगवाड़ा की रहने वाली इस बच्ची को पैदाइशी दिल की बीमारी है। इस लिए बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बच्ची के दिल में छेद था। जिसके चलते उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। अस्पताल में बच्ची की सफल ओपन हार्ट सर्जरी हो चुकी थी। जिसके बाद बच्ची स्वस्थ थी और तेजी से रिकवर कर रही थी।

ये भी पढ़ें-  मजदूरों का वर्क फ्रॉम होम: सरकार की इस योजना से लॉकडाउन में मिला रोजगार

लेकिन जब डॉक्टर्स को उसमें कोरोना के संक्रमण होने का शक लगा था तो उन्होंने मंगलवार को बच्ची की जांच की। जिसकी रिपोर्ट बुधवार को आई जिसमें बच्ची को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बच्ची की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसका इलाज कर रहे डॉ. अरुण कुमार भारनवाल और उनकी टीम को तत्काल होम क्वारंटीन कर दिया गया था। अस्पताल के 54 लोगों को क्वारंटाइन किया गया था जिन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है।