चौकाने वाला खुलासा: 75% लड़के और लड़कियां बस इतनी सी उम्र में कर चुके हैं ये काम

शराब पीने वालों को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। एक सर्वे सामने आया है जिसमें कहा गया है कि करीब 75 फीसदी युवा 21 साल की उम्र पूरी होने से पहले ही शराब का सेवन कर चुके होते हैं।

नई दिल्ली: शराब पीने वालों को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। एक सर्वे सामने आया है जिसमें कहा गया है कि करीब 75 फीसदी युवा 21 साल की उम्र पूरी होने से पहले ही शराब का सेवन कर चुके होते हैं।

सबसे बड़ी बात है शराब पीने की कानूनी उम्र सीमा 21 साल है। दक्षिण मुंबई में स्थित सेंट जेवियर कॉलेज के प्रथम वर्ष के छात्रों ने हाल में ये सर्वेक्षण किया है। यह सर्वे इतिहास विभाग के प्रमुख डॉ अवकाश जाधव के देखरेख में किया गया।

यह भी पढ़ें…कहां गायब हो गया ममता का ये करीबी अधिकारी, नहीं खोज पा रही है CBI

रिपोर्ट के नतीजों को सहायक पुलिस आयुक्त, अधीक्षक, नशीला पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी), भूमेश अग्रवाल को बृहस्पतिवार को पेश किया गया।

इस सर्वे में मुंबई, पुणे, दिल्ली, कोलकाता, राजस्थान समेत कई शहरों के 16 से 21 साल के करीब 1,000 युवाओं को शामिल किया गया। इस सर्वे में चेक गणराज्य की राजधानी प्राग और मध्य यूरोप के देश हंगरी को भी शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें…4000 आतंकियों की घुसपैठ! पाकिस्तान ने तबाही का रचा खतरनाक प्लान

सर्वे में सबसे बड़ा खुलासा हुआ है कि कम से कम 75 प्रतिशत युवा 21 साल की उम्र पूरी होने से पहले ही शराब टेस्ट कर चुके होते हैं। सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि 47 प्रतिशत युवा सिगरेट का सेवन कर चुके थे। इसमें यह भी कहा गया है कि 20 प्रतिशत युवा मादक पदार्थ का जबकि 30 प्रतिशत युवा हुक्का पी चुके थे।

इस रिपोर्ट के मुताबिक करीब 88 प्रतिशत युवा 16 से 18 वर्ष की उम्र में कुछ या अन्य तरह का नशा आजमा चुके थे। जिज्ञासा, साथियों का दबाव और ऐसे नशीले पदार्थों तक आसान पहुंच ऐसे प्रमुख कारक हैं जो युवाओं को नशे की ओर ले जाते हैं।

यह भी पढ़ें…जानिए क्या है पवन हंस, सरकार के लिए बन गई है बड़ी चुनौती

सर्वे में शामिल 17 प्रतिशत युवाओं ने कहा कि अपनी नशे की आदत से उबरने के लिये उन्होंने बाहरी मदद ली जबकि 83 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें मालूम नहीं है कि इस समस्या से निकलने के लिये उन्हें कहां से और कैसे मदद मिलेगी।

अवकाश जाधव का कहना है कि इस सर्वे का मकसद ऐसी अस्वास्थ्यकर आदतों को अपनाने के पीछे की जमीनी हकीकत को, इसके कारण को समझना और ऐसी आदतों को बढ़ावा देने में शामिल लोगों की पहचान करना है।