कहां गायब हो गया ममता का ये करीबी अधिकारी, नहीं खोज पा रही है CBI

राजधानी कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार का पता लगाने के लिए कोलकाता भेजी गई केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई की 10 सदस्यीय टीम नई दिल्ली स्थित अपने मुख्यालय बैरंग वापस लौट आई है।

कोलकाता: राजधानी कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार का पता लगाने के लिए कोलकाता भेजी गई केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई की 10 सदस्यीय टीम नई दिल्ली स्थित अपने मुख्यालय बैरंग वापस लौट आई है।

करोड़ों रुपये के सारदा चिटफंड घोटाले के मामले में दिये गए समन की अनदेखी कर रहे कुमार की तलाश में विशेष टीम पिछले एक सप्ताह में शहर के कई स्थानों पर गई, लेकिन वह कुमार का पता नहीं लगा पाई। टीम 17 सितंबर से पश्चिम बंगाल की राजधानी में थी।

यह भी पढ़ें…देखें आतंकियों पर चली सेना की दनादन गोलियां, फिर हुआ ये

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक कुछ दिन पहले यहां आई टीम कल यहां से लौट गई है। कुमार ने पिछले सप्ताह कलकत्ता हाइकोर्ट का रूख किया था जो इस समय उनकी अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई कर रहा है।

सारदा समूह की कंपनियों ने लाखों लोगों के साथ कथित तौर पर 2500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की थी। सारदा चिटफंड मामले में सबूत के साथ छेड़छाड़ के आरोपी वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने पिछले दो सप्ताह में अग्रिम जमानत पाने के लिए कई कोर्ट में चक्कर लगा चुके हैं, लेकिन उन्हें कोई राहत नहीं मिली।

बता दें कि 15 सितंबर को राजीव कुमार कोलकाता के सीबीआई ऑफिस में नहीं पेश हुए थे। बता दें कि राजीव को सीबीआई ने सारदा चिट फंड घोटाला मामले में समन भेजकर पेश होने के लिए कहा था मगर वो उनके सामने पेश नहीं हुए।

यह भी पढ़ें…पाक में इमरान बने गधा! खुद के देश ने कराई इंटरनेशनल बेज्जती

सीबीआई अधिकारियों की एक टीम कोलकाता में राजीव कुमार का इंतजार करती रही वहीं राजीव कुमार ने जांच एजेंसी के समन का कोई जवाब भी नहीं दिया।

गौरतलब है कि कलकत्ता हाईकोर्ट ने सीबीआई के एक नोटिस को रद्द करने के उनके अनुरोध को भी खारिज कर दिया था। इस नोटिस में कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर और फिलहाल अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राजीव कुमार से मामले में पूछताछ के लिए पेश होने को कहा गया था।

हाईकोर्ट के इस कदम से राजीव कुमार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। किसी भी समय उनकी गिरफ्तारी हो सकती है। राजीव उस विशेष जांच दल का हिस्सा थे जिसे राज्य सरकार ने अन्य चिटफंड मामलों के साथ ही इस घोटाले की जांच के लिए बनाया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में इस मामले को सीबीआई को सौंप दिया।

यह भी पढ़ें…केरल में 12 बिशप को किया गया गिरफ्तार, जानिए क्या है मामला

हाईकोर्ट के फैसले के बाद सीबीआई के अधिकारी राजीव कुमार के आवास पर पहुंचे थे। सीबीआई अधिकारी नोटिस सौंपकर लौट गए थे, राजीव उस वक्त घर में नहीं थे, उन्हें पूछताछ के लिए तलब किया गया है। आशंका जताई जा रही है कि इस मामले में राजीव कुमार को गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

इससे पहले कोलकाता हाईकोर्ट ने राजीव कुमार से कहा था कि वह सीबीआई के पास अपना पासपोर्ट जमा करवा दें, अधिकारियों ने कोलकाता हवाई अड्डे के अधिकारियों से भी अलर्ट रहने को बोला है।गौरतलब है कि सारदा ग्रुप ऑफ कंपनीज ने लाखों लोगों को कथित तौर पर निवेश पर ऊंचे रिटर्न का वादा कर उन्हें 2500 करोड़ रूपये का चूना लगाया था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App