पालघर में पुजारियों को जान से मारने की कोशिश, ऐसे बची साधुओं की जान

महाराष्ट्र के पालघर जिले में तीन अज्ञात हमलावरों ने कथित तौर पर दो पुजारियों पर हमला कर दिया। इसकी जानकारी पुलिस के द्वारा दी गई।

पूरा देश इस समय वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से जूझ रहा है। देश में आए दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। महाराष्ट्र कोरोना वायरस से जूझ रहा है।  इस बीच महाराष्ट्र से एक और बड़ी खबर सामने आ रही है। महाराष्ट्र में एक बार फिर पालघर हिंसा को दोहराने का प्रयास किया गया है। महाराष्ट्र के पालघर जिले में तीन अज्ञात हमलावरों ने कथित तौर पर दो पुजारियों पर हमला कर दिया। इसकी जानकारी पुलिस के द्वारा दी गई।

अज्ञात हमलावरों ने किया पुजारियों पर हमला

अभी कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं पर हुई मॉब लिंचिंग में हत्या का मामला कौन भूला होगा। अभी इस हमले को बमुश्किल 1 महीना बीता होगा कि पालघर जिले से ही एक बार फिर तीन अज्ञात हमलावरों द्वारा दो पुजारियों पर्ट हमला किया है। मुंबई पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि घटना जिले के बालीवली गांव की है।

ये भी पढ़ें-   प्रवासी मजदूरों पर 31 मई तक ये फैसला ले सकती है योगी सरकार

 

 

जहां तीन हमलावरों ने पहले मंदिर के पुजारियों पर हमला किया और फिर वहां लूटपाट की। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह घटना गुरुवार तड़के 12.30 बजे हुई। जब तीन हथियारबंद आदमियों ने वसई तालुका के बालीवली में जागृत महादेव मंदिर और आश्रम में धावा बोला। फिलहाल ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि इन हमलावरों का उद्येश्य लूटपाट का था।

अपराधी लूट कर फरार, पुलिस ने दर्ज किया मामला

पुलिस अधिकारी की ओर से घटना की जानकारी देते हुए बताया गया कि तीनों हमलवारों ने मंदिर के प्रमुख पुजारी शंकरानंद सरस्वती और उनके सहायक पर हमला किया और 6,800 रुपये के मूल्य के सामानों को लूटकर भाग गए। इससे स्पष्ट है कि इन हमलावरों का उद्देश्य लूटपाट करना था। जिसमें वो सफल भी हुए। उन्होंने हमला सिर्फ लूट के लिए ही किया था।

ये भी पढ़ें-   लॉकडाउन की उड़ी धज्जियां, अंधविश्वास के चलते जान जोखिम में डाल रहे लोग

उनका कोई और इरादा नहीं था। फिलहाल घटना के बारे में बताते हुए वीरार पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर ने कहा कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 394 और भारतीय दंड संहिता के तहत अपराध दर्ज किया गया है। फिलहाल पुलिस की ओर से मामले की जांच की जा रही है। अपराधियों की तलाश जारी है।